1. You Are At:
  2. खबर इंडिया टीवी
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. 12 महीने में आया 32.87 अरब डॉलर का विदेशी निवेश, 48 फीसदी बढ़ा FDI

12 महीने में आया 32.87 अरब डॉलर का विदेशी निवेश, 48 फीसदी बढ़ा FDI

देश में अक्‍टूबर 2014 से सितंबर 2015 के दौरान कुल 32.87 अरब डॉलर का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) आया है। यह जानकारी सोमवार को संसर में दी गई।

Abhishek Shrivastava [Published on:30 Nov 2015, 8:31 PM IST]
12 महीने में आया 32.87 अरब डॉलर का विदेशी निवेश, 48 फीसदी बढ़ा FDI- India TV Paisa
12 महीने में आया 32.87 अरब डॉलर का विदेशी निवेश, 48 फीसदी बढ़ा FDI

नई दिल्‍ली। देश में अक्‍टूबर 2014 से सितंबर 2015 के दौरान कुल 32.87 अरब डॉलर का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) आया है। यह जानकारी सोमवार को संसर में दी गई। इस अवधि में कम्‍प्‍यूटर सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर, सेवा, व्यापार, वाहन, निर्माण गतिविधियों, रसायन, बिजली, फार्मा, औद्योगिक मशीनरी तथा खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्रों में विदेशी निवेश आया है। अक्‍टूबर 2014 से अप्रैल 2015 के दौरान देश के एफडीआई में 48 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई है।

अक्‍टूबर-सितंबर के दौरान रक्षा और रेलवे से संबंधित कलपुर्जा उद्योग में सिर्फ 48 लाख रुपए तथा 146.65 करोड़ रुपए का एफडीआई आया है। इस अवधि में खुदरा व्यापार क्षेत्र में 7.07 करोड़ रुपए का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश आया है।

वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री निर्मला सीतारमण ने लोकसभा में एक लिखित जवाब में कहा कि मेक इन इंडिया पहल तथा सरकार की सभी निवेशकों तक पहुंचने की कोशिशों से धारणा सकारात्मक हुई है। मेक इन इंडिया पहल पिछले साल सितंबर में शुरू की गई थी। इस पहल का उद्देश्‍य भारत को एक निवेश गंतव्‍य और मैन्‍यूफैक्‍चरिंग, डिजाइन और इन्‍नोवेशन के ग्‍लोबल हब के रूप में प्रोत्‍साहित करना है। उन्‍होंने आगे कहा कि मेक इन इंडिया पहल की शुरुआत करने के बाद एफडीआई में तेजी से वृद्धि हुई है।

अप्रैल-सितंबर में 55.26 लाख टन चावल हुआ निर्यात 

भारत ने चालू वित्त वर्ष के प्रथम छह महीने में 3.17 अरब डाॅलर मूल्य का 55.26 लाख टन चावल निर्यात किया है। अप्रैल-सितंबर अवधि में देश से 1.91 अरब डालर से अधिक मूल्य के 20.84 लाख टन बासमती चावल का निर्यात किया गया, जबकि इस दौरान 1.25 अरब डालर से अधिक मूल्य के चावल की अन्य किस्मों का निर्यात 34.42 लाख टन रहा। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया कि सबसे अधिक 5.98 लाख टन चावल का निर्यात सउदी अरब को किया गया, जबकि सेनेगल को 5.08 लाख टन और यूएई को 4.15 लाख टन चावल का निर्यात किया गया। भारतीय खाद्य निगम के जरिये चावल आयात की अनुमति है। इसके द्वारा किये गये आयात को भी एफएसएसएआई से मंजूरी जरूरी है।

Web Title: 12 महीने में आया 32.87 अरब डॉलर का FDI
Write a comment