1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. वित्‍त मंत्रालय ने GST कानून के प्रावधानों को नोटिफाई करना किया शुरू, नियमों में किए जा रहे हैं संशोधन

वित्‍त मंत्रालय ने GST कानून के प्रावधानों को नोटिफाई करना किया शुरू, नियमों में किए जा रहे हैं संशोधन

GST को अमली जामा पहनाने में अब केवल दो दिन बचे हैं। ऐसे में वित्‍त मंत्रालय ने GST कानून के विभिन्न प्रावधानों को अधिसूचित करना शुरू कर दिया है।

Manish Mishra Manish Mishra
Published on: June 29, 2017 9:06 IST
वित्‍त मंत्रालय ने GST कानून के प्रावधानों को नोटिफाई करना किया शुरू, नियमों में किए जा रहे हैं संशोधन- India TV Paisa
वित्‍त मंत्रालय ने GST कानून के प्रावधानों को नोटिफाई करना किया शुरू, नियमों में किए जा रहे हैं संशोधन

नई दिल्ली। वस्‍तु एवं सेवा कर (GST) को अमली जामा पहनाने में अब केवल दो दिन बचे हैं। ऐसे में वित्‍त मंत्रालय ने GST कानून के विभिन्न प्रावधानों को अधिसूचित करना शुरू कर दिया है। इनमें ब्याज की गणना करना, इनपुट टैक्‍स क्रेडिट और मूल्यांकन से जुड़े प्रावधान शामिल हैं। वित्‍त मंत्रालय केंद्रीय GST (CGST), एकीकृत GST (IGST) और संघ शासित प्रदेश GST कानून के प्रावधानों और उनसे जुड़े नियमों को अधिसूचित कर रहा है। इनमें कर चालान, क्रेडिट और डेबिट नोट, लेखा और रिकॉर्ड, रिटर्न, कर के भुगतान, रिफंड, आकलन एवं ऑडिट तथा अग्रिम नियमन से जुड़े प्रावधान शामिल हैं।

यह भी पढ़ें : एडवांस्ड सिक्यॉरिटी फीचर्स के साथ बाजार में जल्द आएगा 200 रुपए का नोट, RBI ने शुरू की प्रिंटिंग!

मंत्रालय ने इसके साथ ही अपील और पुनर्समीक्षा, बदलाव के दौर से जुड़े प्रावधानों, मुनाफा-रोधी और ई-वे से जुड़े नियमों को भी अधिसूचित किया गया है। ये नियम एक जुलाई से अमल में आ जाएंगे।

यह भी पढ़ें : Big News: 7वें वेतन आयोग की भत्‍तों पर सिफारिशों को सरकार ने दी मंजूरी, 47 लाख कर्मचारियों को होगा फायदा

अधिसूचना के मुताबिक कर का देरी से भुगतान करने पर 18 प्रतिशत की दर से ब्याज देय होगा। इसके साथ ही इनपुट क्रेडिट का अधिक दावा करने के मामले में 24 प्रतिशत ब्याज देय होगा। इसी तरह आउटपुट देनदारी पर अधिक कमी करने पर भी इतनी ही दर से ब्याज देय होगा। रिफंड यदि रोका जाता है तो उस पर 6 प्रतिशत दर से ब्याज देना होगा।

Write a comment
bigg-boss-13