1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. डीजल का भाव नई रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंचा, रुपए में गिरावट और कच्चा तेल महंगा होने का असर

डीजल का भाव नई रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंचा, रुपए में गिरावट और कच्चा तेल महंगा होने का असर

अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में हुई बढ़ोतरी और घरेलू स्तर पर डॉलर के मुकाबले रुपए में आई गिरावट की वजह से रविवार के दिन डीजल की कीमतों ने नई रिकॉर्ड ऊंचाई को छुआ है

Manoj Kumar Manoj Kumar
Published on: August 26, 2018 12:45 IST
Diesel price rose new record high on Sunday- India TV Paisa

Diesel price rose new record high on Sunday

नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में हुई बढ़ोतरी और घरेलू स्तर पर डॉलर के मुकाबले रुपए में आई गिरावट की वजह से रविवार के दिन डीजल की कीमतों ने नई रिकॉर्ड ऊंचाई को छुआ है। देश की राजधानी दिल्ली में 29 मई 2018 को डीजल की कीमतें जिस रिकॉर्ड स्तर तक गईं थी वह रिकॉर्ड आज टूट गया है। दिल्ली के साथ कोलकाता और चेन्नई में भी डीजल का भाव नई रिकॉर्ड ऊंचाई पर था।

डीजल के दाम नई रिकॉर्ड ऊंचाई पर

इंडियन ऑयल के मुताबिक रविवार के दिन दिल्ली में डीजल का भाव 69.32 रुपए प्रति लीटर दर्ज किया गया है जो अबतक का सबसे ऊपरी स्तर है, इसी तरह कोलकाता में दाम 72.16 रुपए और चेन्नई में 73.23 रुपए प्रति लीटर की नई रिकॉर्ड ऊंचाई पर हैं। मुंबई में भी दाम बढ़े हैं लेकिन मई में बना रिकॉर्ड अभी नहीं टूटा है, रविवार के दिन मुंबई में डीजल का दाम 73.59 रुपए प्रति लीटर दर्ज किया गया है।

पेट्रोल की कीमतों में भी इजाफा

पेट्रोल की बात करें तो उसके दाम अभी रिकॉर्ड ऊंचाई पर नहीं हैं लेकिन लगातार बढ़ोतरी जारी है, रविवार के दिन दिल्ली में पेट्रोल का दाम 77.78 रुपए, कोलकाता में 80.71 रुपए, मुंबई में 85.20 रुपए और चेन्नई में 80.80 रुपए प्रति लीटर दर्ज किया गया है।

अंतरराष्ट्रीय बाजार में बढ़ा कच्चे तेल का भाव

इस हफ्ते अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में जोरदार तेजी देखने को मिली है, अमेरिकी कच्चे तेल और ब्रेंट क्रूड का भाव 5 प्रतिशत से ज्यादा बढ़ा है। अमेरिकी कच्चे तेल का भाव बढ़कर 68.72 डॉलर प्रति बैरल और ब्रेंट क्रूड का भाव बढ़कर 75.82 डॉलर प्रति बैरल हो गया है।

रुपए में गिरावट से भी तेल कंपनियों की लागत बढ़ी

कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी के साथ घरेलू स्तर पर रुपए में भी भारी गिरावट आई है, डॉलर का भाव 70 रुपए के करीब है, ऐसे में तेल कंपनियों को विदेशों से कच्चे तेल का आयात करने के लिए ज्यादा रुपए खर्च करने पड़ रहे हैं और वह इसका बोझ पेट्रोल और डीजल की कीमतें बढ़ाकर ग्राहकों पर डाल रही हैं।

Write a comment
arun-jaitley