1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. चुनाव से पहले तोहफा: दिल्ली में 200 यूनिट तक मिलेगी मुफ्त बिजली, सीएम केजरीवाल ने किया ऐलान

चुनाव से पहले तोहफा: दिल्ली में 200 यूनिट तक मिलेगी मुफ्त बिजली, सीएम केजरीवाल ने किया ऐलान

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को कहा कि 200 यूनिट तक बिजली इस्तेमाल कर रहे दिल्ली के उपभोक्ताओं को बिजली बिल के रूप में कोई भुगतान नहीं करना होगा।

India TV Business Desk India TV Business Desk
Updated on: August 01, 2019 13:53 IST
delhi cm arvind kejriwal annouce no bill on power consumption up to 200 units- India TV Paisa

delhi cm arvind kejriwal annouce no bill on power consumption up to 200 units

नई दिल्ली। दिल्ली की आम आदमी पार्टी ने विधानसभा चुनाव से पहले आम जनता को लुभाने के लिए बड़ा ऐलान किया है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा कि 200 यूनिट तक बिजली इस्तेमाल कर रहे दिल्ली के उपभोक्ताओं को बिजली बिल के रूप में कोई भुगतान नहीं करना होगा।

उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार 200 यूनिट तक बिजली इस्तेमाल कर रहे दिल्ली के उपभोक्ताओं को पूरी सब्सिडी देगी। उन्होंने कहा कि 201 से 401 यूनिट तक बिजली के इस्तेमाल पर भी सरकार 50 प्रतिशत सब्सिडी देती रहेगी। बता दें कि 200 यूनिट तक बिजली इस्तेमाल करने वालों को कल तक 622 रुपये देने पड़ते थे। 

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि "जो लोग 200 यूनिट तक खपत करते हैं, उन्हें बिजली का बिल देने की जरूरत नहीं है। उनके बिजली बिल माफ। अगर आप 201 से 400 यूनिट तक बिजली खपत करते हैं, तो लगभग आपको 50 फीसदी सब्सिडी मिलेगी। लेकिन 200 यूनिट का फायदा नहीं मिलेगा।"

201 से 400 के बीच खपत पर देना होगा इतना चार्ज 

सरकार के फैसले के बाद कई लोगों के मन में कई तरह के सवाल उठ रहे हैं कि अगर 200 से एक यूनिट भी ज्यादा खपत हुई तो क्या होगा। मान लीजिए आपने 300 यूनिट की खपत की तो, इस स्थिति में 200 से बाद यानी 100 यूनिट पर आधा बिल लगेगा या फिर पूरी 300 यूनिट पर आधा होगा।

ऐसे में आपको बता दें कि दिल्ली सरकार ने यहां पहले से लागू नीति पर ही अमल किया है। 2015 में यह नियम बना था कि 200 से ऊपर होने पर पूरे बिल का आधा आपको देना होगा। उदाहरण के तौर पर 300 यूनिट होने पर आपको 150 के पैसे देने होंगे। इसमें 200 यूनिट तक 3 रुपये और 100 यूनिट पर 4.40 के हिसाब से पैसे देने होंगे।  

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जब उनकी सरकार सत्ता में आई, उस समय बिजली वितरण कंपनियों का माली हालत इतनी खराब थी कि उनके पास बिजली सप्लाई करने तक के लिए नकदी का संकट था। बिजली कंपनियों के पास एक दिन की भी बिजली खरीदने के लिए पैसे नहीं थे। उन्होंने कहा कि देश का कोई भी ऐसा राज्य नहीं है जहां बिजली के बिल लगातार नहीं बढ़ रहे हों, लेकिन दिल्ली में बिल लगातार कम हो रहे हैं। बिजली कंपनियों के घाटे भी तेजी के साथ कम हो रहे हैं। 

खपत

कितना चार्ज

नए नियम के मुताबिक

0-200

3 रुपये यूनिट

अब नहीं देना होगा कोई बिजली बिल

201-400

4.50 रुपये यूनिट

50 प्रतिशत सब्सिडी

दिल्ली में बिजली सबसे सस्ती
दिल्ली सरकार का दावा है कि दिल्ली में अब देश की सबसे बिजली लोगों को मुहैया कराई जा रही है। नए टैरीफ के मुताबिक, दिल्ली में आज 1 अगस्त से 200 यूनिट तक बिजली का बिल जीरो (0) रहेगा। 201 से 250 यूनिट तक 252 रुपये महीना, 250 से 300 यूनिट तक 526 रुपये महीना और 300 से 400 यूनिट बिजली खर्च करने पर 1075 रुपये बिल के चुकाने होंगे।

बता दें कि इससे पहले बीते बुधवार को दिल्ली में बिजली पर फिक्स चार्ज घटाए गए थे। दिल्ली विद्युत विनियामक आयोग (DERC) के चेयरमैन जस्टिस एसएस चौहान ने बताया कि 2 किलोवाट तक 20 रुपये प्रति किलोवाट शुल्क होगा जो कि अब तक 125 रुपये प्रति किलोवाट था।  

क्या होगा नतीजा
इस राहत पर सब्सिडी देने के सवाल पर उन्होंने बताया कि 200 यूनिट तक मुफ्त बिजली देने से सरकार द्वारा दी जा रही सब्सिडी पर कोई खास असर नहीं पड़ेगा। 1800 से 2000 करोड़ रुपये की बीच हर साल सब्सिडी का बिल होता है. इससे इस बिल में कोई खास इजाफा नहीं होगा।

बिजली की बचत में इजाफा होगा
सरकार की इस कोशिश से बिजली की बचत को लेकर लोग जागरुक होंगे और दिल्ली पर पड़ने वाला बिजली का लोड कम होगा। दिल्ली को बिजली लोड इस समय 6400 मेगावाट से बढ़कर 7400 मेगावाट हो गया है, इस लोड को कम करने में मदद मिलेगी।

 

Write a comment