1. You Are At:
  2. खबर इंडिया टीवी
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. Credit Suisse: भारत की सुधर रही है आर्थिक स्थिति, तेल, गाड़ियों और बिजली की बढ़ी मांग

Credit Suisse: भारत की सुधर रही है आर्थिक स्थिति, तेल, गाड़ियों और बिजली की बढ़ी मांग

स्विस की ब्रोकरेज फर्म क्रेडिट सुइस ने भारत की आर्थिक स्थिति पर संतोष जताया है। क्रेडिट सुइस ने कहा कि तेल, बिजली और गाड़ियों की मांग में बढ़ोत्तरी हुई है।

Abhishek Shrivastava [Updated:23 Nov 2015, 8:11 PM IST]
Credit Suisse: भारत की सुधर रही है आर्थिक स्थिति, तेल, गाड़ियों और बिजली की बढ़ी मांग- India TV Paisa
Credit Suisse: भारत की सुधर रही है आर्थिक स्थिति, तेल, गाड़ियों और बिजली की बढ़ी मांग

मुंबई। स्विस की ब्रोकरेज फर्म क्रेडिट सुइस ने भारत की आर्थिक स्थिति पर संतोष जताया है। क्रेडिट सुइस ने कहा कि तेल, बिजली और गाड़ियों की मांग में बढ़ोत्तरी हुई है। यह भारतीय अर्थव्यस्था के मजबूत सुधार का संकेत देता है। वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कहा कि आने वाले वर्षों में देश की जीडीपी 7.5 फीसदी से अधिक दर से बढ़ेगी।

तेल, बिजली और गाड़ियों की बढ़ी मांग

क्रेडिट सुइस के रिसर्च एनालिस्ट नीलकंठ मिश्र ने रिपोर्ट में कहा, सरकार की ग्रोथ की रणनीति को देखते हुए हमारा विश्वास है कि सुधार के प्रथम संकेत व्यापक संकेतकों से आने की संभावना है। पिछले दो महीनों में तेल, बिजली और वाहनों की मांग में बढ़ोत्तरी से आर्थिक ग्रोथ में सुधार का संकेत मिलता है। अक्टूबर में तेल की मांग साल दर साल 17 फीसदी और सितंबर में 15 फीसदी बढ़ी जो कि 2004 के बाद सबसे अधिक है।

7.5 से अधिक रहेगी भारत जीडीपी

रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि ग्लोबल स्तर पर सुस्ती के बावजूद भारत की आर्थिक ग्रोथ तेजी से बढ़ रहा है। आने वाले वर्षों में देश की जीडीपी दर 7.5 फीसदी से अधिक तेजी से बढ़ने की उम्मीद है। मलेशिया में मोदी ने कहा कि “हम सरकार को पारदर्शी और जवाबदेह बना रहे हैं। हम सभी स्तरों पर भ्रष्टाचार को नष्ट कर रहे हैं। वित्त वर्ष 2015-15 की दूसरी तिमाही डेटा आन से पहले प्रधानमंत्री ने यह बयान दिया है। वित्त वर्ष 2014-15 के दौरान देश की जीडीपी ग्रोथ 7.3 फीसदी की दर से बढ़ी है। वहीं, चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में जीडीपी की रफ्तार 7 फीसदी रही है।

Web Title: भारत की सुधर रही है आर्थिक स्थिति, तेल और गाड़ियों की बढ़ी मांग
Write a comment