1. You Are At:
  2. खबर इंडिया टीवी
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. रिटेल महंगाई अगस्त में घटकर 5.05 फीसदी पर, पांच महीने का न्यूनतम स्तर

रिटेल महंगाई अगस्त में घटकर 5.05 फीसदी पर, पांच महीने का न्यूनतम स्तर

सब्जी और खाने-पीने की चीजों की कीमतों में आई कमी से रिटेल महंगाई दर अगस्त में घटकर पांच महीने के न्यूनतम स्तर 5.05 फीसदी पर आ गई। जुलाई में यह 6.07 फीसदी थी

Dharmender Chaudhary [Published on:12 Sep 2016, 8:17 PM IST]
@5Month Low: रिटेल महंगाई अगस्त में घटकर 5.05 फीसदी रही, सब्जी और खाने-पीने की चीजों के दाम में आई गिरावट- India TV Paisa
@5Month Low: रिटेल महंगाई अगस्त में घटकर 5.05 फीसदी रही, सब्जी और खाने-पीने की चीजों के दाम में आई गिरावट

नई दिल्ली। सब्जी और खाने-पीने की चीजों की कीमतों में आई कमी से रिटेल महंगाई दर अगस्त में घटकर पांच महीने के न्यूनतम स्तर 5.05 फीसदी पर आ गई। उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित महंगाई (सीपीआई) की यह दर मार्च 2016 के बाद सबसे कम है। उस माह रिटेल महंगाई दर 4.83 प्रतिशत थी। जुलाई में रिटेल महंगाई करीब दो साल के उच्चतम स्तर 6.07 फीसदी पर थी। पिछले साल अगस्त 2016 में महंगाई दर 3.74 फीसदी थी।

सरकारी आंकड़ों के अनुसार अगस्त में सब्जियों की महंगाई दर घट कर 1.02 फीसदी रही जो जुलाई में 14.06 फीसदी थी। अगस्त में खाद्य एवं पेय पदार्थों की कीमतें सालाना आधार पर 5.83 फीसदी ऊंची थीं जबकि जुलाई में इनका कीमत स्तर 7.96 फीसदी ऊंचा था। खाद्य महंगाई अगस्त में कम होकर 5.91 फीसदी रही जो जुलाई में 8.35 फीसदी थी। वहीं दाल के मामले में महंगाई दर 22.01 फीसदी रही जो जुलाई में 27.53 प्रतिशत थी। हालांकि सांख्यिकी एवं कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय रिटेल महंगाई दर के आकलन के लिए जिन खाद्य जिंसों पर गौर करता है, उसमें से ज्यादातर में अगस्त महीने के दौरान मजबूत प्रवृत्ति देखने को मिली है।

अनाज एवं उत्पाद महंगे हुए और इस खंड में मुद्रास्फीति 4.11 फीसदी रही। अंडा, दूध और संबंधित उत्पादों में महंगाई दर क्रमश: 9.58 फीसदी और 4.36 प्रतिशत रही। तेल एवं वसा के मामले में महंगाई दर 4.94 फीसदी रही। अन्य वस्तुओं में फलों की महंगाई दर अगस्त में 4.46 फीसदी रही। अगस्त में शहरी  क्षेत्र में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित महंगाई दर 4.22 फीसदी जब ग्रामीण क्षेत्रों में 5.87 फीसदी रही।

Web Title: रिटेल महंगाई अगस्त में घटकर 5.05 फीसदी पर
Write a comment