1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. जल्द से जल्द Air India का निजीकरण करना चाहती है सरकार, जानिए हरदीप सिंह पुरी ने क्या कुछ कहा

जल्द से जल्द Air India का निजीकरण करना चाहती है सरकार, जानिए हरदीप सिंह पुरी ने क्या कुछ कहा

केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने गुरुवार को कहा कि सरकार एयर इंडिया (Air India) के निजीकरण को जल्द से जल्द पूरा करने के लिए दृढ़ संकल्पित है। केंद्रीय मंत्री पुरी ने कहा कि गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में एयर इंडिया की बिक्री के लिए बनाई गई वैकल्पिक तंत्र की पहली बैठक जल्द होगी।

India TV Business Desk India TV Business Desk
Published on: August 30, 2019 13:10 IST
Air India- India TV Paisa

Air India

नई दिल्ली। केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने गुरुवार को कहा कि सरकार एयर इंडिया (Air India) के निजीकरण को जल्द से जल्द पूरा करने के लिए दृढ़ संकल्पित है। केंद्रीय मंत्री पुरी ने कहा कि गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में एयर इंडिया की बिक्री के लिए बनाई गई वैकल्पिक तंत्र की पहली बैठक जल्द होगी। 

पिछले साल जून में एयर इंडिया की सुधार योजना पर शुरू हुआ काम

मंत्री ने कहा कि पहली बैठक के बाद विनिवेश की प्रक्रिया में तेजी आएगी। पुरी ने कहा कि सरकार एयरलाइन की बिक्री समयबद्ध तरीके से सबसे अधिक संभव सौदे पर करने के लिए प्रतिबद्ध है। केंद्र सरकार ने जून में राष्ट्रीय विमान कंपनी और उसकी पांच सहायक कंपनियों की निवेश प्रक्रिया दुबारा शुरू करने का फैसला किया था। पिछले साल, सरकार ने एयरलाइन को उबारने की योजना पर काम शुरू किया था, जिसके तहत वित्तीय पैकेज देने और कंपनी के जमीन-जायदाद की बिक्री कर धन जुटाने की योजना लागू की गई। इस योजना के अमल से एयरलाइन कि वित्तीय और परिचालन प्रदर्शन में सुधार हुआ है। 

भारी कर्ज के बोझ में एयर इंडिया
बता दें कि सरकार ने पहले एयर इंडिया की 76 फीसदी हिस्सेदारी बेचने का फैसला किया था, लेकिन कोई बोलीदाता सामने नहीं आया था। जिसके कारण सरकार की ये कोशिश भी नाकाम रही। जुलाई में खबर आई थी कि एयर इंडिया ने अपने कर्मचारियों के प्रोमोशन और नये कर्मचारियों की नियुक्ति रोक दी है। सरकार की कर्ज के बोझ से दबी कंपनी के विनिवेश की तैयारी के मद्देनजर एयरलाइन ने यह कदम उठाया। एयर इंडिया पर 50,000 करोड़ रुपये से ज्यादा के कर्ज का बोझ है।

एयर इंडिया को फिर से ऑपरेशनल प्रॉफिट रिपोर्ट की उम्मीद
एयर इंडिया की ऑपरेशनल स्किल और बेहतर विमान उपयोग में बढ़ोतरी ने चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही के दौरान अपने नुकसान को कम करने के लिए मदद दी है। एयर इंडिया के चेयरमैन और मेनेजिंग डायरेक्टर अश्वनी लोहानी के मुताबिक, चालू वित्त वर्ष के पहले चार महीनों के दौरान पैसेंजर रेवेन्यू में 20 फीसदी की बढ़ोतरी हुई।

दिल्ली में आयोजित एविएशन इंडस्ट्री के एक कार्यक्रम में गुरुवार को लोहानी ने बताया कि साल-दर-साल (वाईओवाई) के आधार पर ऑपरेशनल प्रॉफिट 18 फीसदी बढ़ा है। साल दर साल के आधार पर एयर इंडिया के लोड फैक्टर 82 फीसदी तक बढ़ गए हैं।

इसके चलते, वाईओवाई के आधार पर एयरलाइन का घाटा 802 करोड़ रुपये से घटकर 170 करोड़ रुपये रह गया है। लोहानी ने कहा, 'हम इस साल भी एक अच्छा ऑपरेशनल प्रॉफिट हासिल करने की उम्मीद करते हैं।

Write a comment