1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. केंद्र ने दिल्‍ली सरकार को राशन दुकानों के जरिये प्‍याज बेचने का दिया निर्देश, 23.90 रुपए/किलो पर होगी बिक्री

केंद्र ने दिल्‍ली सरकार को राशन दुकानों के जरिये प्‍याज बेचने का दिया निर्देश, 23.90 रुपए/किलो पर होगी बिक्री

उत्पादक राज्यों विशेषकर महाराष्ट्र में खेती के रकबे में 10 प्रतिशत की गिरावट के कारण प्याज के दामों में तेजी आई है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: September 12, 2019 14:00 IST
Centre asks Delhi govt to sell onion via ration shops, civil supplies dept at Rs 23.90/kg- India TV Paisa
Photo:CENTRE ASKS DELHI GOVT TO

Centre asks Delhi govt to sell onion via ration shops, civil supplies dept at Rs 23.90/kg

नई दिल्‍ली। केंद्र सरकार ने दिल्ली सरकार से बफर स्टॉक से प्याज लेकर उसे नागरिक आपूर्ति विभाग और राशन की दुकानों के जरिये 23.90 रुपए प्रति किलो के भाव पर बेचने का निर्देश दिया है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में प्याज के ऊंचे दाम को देखते हुए केंद्र ने यह कदम उठाया है।

केंद्र सरकार के आंकड़ों के अनुसार प्याज का भाव दिल्ली और आसपास के क्षेत्रों में 39-40 रुपए प्रति किलो है। शहर में कुछ खुदरा विक्रेता गुणवत्ता और स्थान विशेष के आधार पर इसे 50 रुपए किलो के भाव पर बेच रहे हैं। सरकार के निर्देश पर भारतीय राष्ट्रीय कृषि सहकारी विपणन संघ (नाफेड) और भारतीय राष्ट्रीय उपभोक्ता सहकारी संघ (एनसीसीएफ) के साथ-साथ मदर डेयरी बफर स्टॉक से प्याज लेकर उसे राष्ट्रीय राजधानी में बेच रहे हैं।

मदर डेयरी सफल दुकानों के जरिये प्याज 23.90 रुपए किलो के भाव पर बेच रही है। उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि हमने दिल्ली सरकार से केंद्रीय बफर स्टॉक से प्याज नागरिक आपूर्ति विभाग और राशन की दुकानों के जरिये बेचने का आग्रह किया है। अधिकारी ने कहा कि राज्य द्वारा अधिकतम 23.90 रुपए प्रति किलो के भाव पर प्याज बेचा जा रहा है। केंद्र से प्याज का स्टॉक 15 से 16 रुपए प्रति किलोग्राम पड़ रहा है।

दिल्ली में प्रतिदिन 350 टन प्याज की जरूरत है, जबकि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र यानी एनसीआर की जरूरत प्रतिदिन 650 टन प्याज की है। केंद्र ने इस साल 56,000 टन प्याज का बफर स्‍टॉक बनाया है। इसमें से 10,000-12,000 टन नाफेड, एनसीसीएफ और मदर डेयरी ने अब तक बेचा है। खरीफ उत्पादन कम होने के कारण प्याज की कीमतों पर दबाव बना हुआ है। उत्पादक राज्यों विशेषकर महाराष्ट्र में खेती के रकबे में 10 प्रतिशत की गिरावट के कारण प्याज के दामों में तेजी आई है। 

Write a comment