1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. बैंक धोखाधड़ी लिस्ट में टॉप पर आईसीआईसीआई, एसबीआई और स्टैनचार्ट, लोगों ने 17 हजार करोड़ से अधिक का लगाया चूना

बैंक धोखाधड़ी लिस्ट में टॉप पर आईसीआईसीआई, एसबीआई और स्टैनचार्ट, लोगों ने 17 हजार करोड़ से अधिक का लगाया चूना

चालू वित्त वर्ष के अप्रैल-दिसंबर के दौरान बैंक धोखाधड़ी की लिस्ट में आईसीआईसीआई बैंक टॉप पर रहा। दूसरे स्थान पर सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) रहा।

Dharmender Chaudhary Dharmender Chaudhary
Updated on: March 12, 2017 16:18 IST
RBI Data: बैंक धोखाधड़ी लिस्ट में टॉप पर आईसीआईसीआई, एसबीआई और स्टैनचार्ट, लोगों ने 17 हजार करोड़ से अधिक का लगाया चूना- India TV Paisa
RBI Data: बैंक धोखाधड़ी लिस्ट में टॉप पर आईसीआईसीआई, एसबीआई और स्टैनचार्ट, लोगों ने 17 हजार करोड़ से अधिक का लगाया चूना

नई दिल्ली। चालू वित्त वर्ष के पहले नौ महीनों अप्रैल-दिसंबर के दौरान बैंक धोखाधड़ी की लिस्ट में आईसीआईसीआई बैंक टॉप पर रहा। दूसरे स्थान पर सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) रहा। रिजर्व बैंक की ओर जारी आंकड़ों में स्टैंडर्ड चार्टर्ड तीसरे पायदान पर है। नौ महीनों के दौरान 3,870 मामले सामने आए जिसमें  17,750.27 करोड़ रुपए का चूना लगा।

एक लाख रुपए या अधिक की धोखाधड़ी

  • वित्त वर्ष के पहले नौ महीने में आईसीआईसीआई बैंक में एक लाख रुपए या अधिक की धोखाधड़ी के 455 मामले सामने आई।
  • वहीं, एसबीआई में 429, स्टैंडर्ड चार्टर्ड में 244 और एचडीएफसी बैंक में 237 मामले सामने आए।
  • इस दौरान एक्सिस बैंक में 189, बैंक ऑफ बड़ौदा में 176 और सिटीबैंक में 150 धोखाधड़ी के मामले सामने आए।

एसबीआई को लोगों ने लगाया सबसे अधिक चूना

  • मूल्य के हिसाब से सबसे अधिक 2,236.81 करोड़ रुपए के मामले एसबीआई ने दर्ज किए।
  • पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) में 2,250.34 करोड़ रुपए और एक्सिस बैंक में 1,998.49 करोड़ रुपए के धोखाधड़ी के मामले सामने आए।

धोखाधड़ी में बैंक कर्मी भी शामिल  

  • रिजर्व बैंक ने वित्त मंत्रालय को जो आंकड़ा उपलब्ध कराया है उसके मुताबिक धोखाधड़ी के मामलों में बैंक कर्मी भी शामिल रहे हैं।
  • एसबीआई के 64 कर्मचारी धोखाधड़ी में शामिल रहे हैं, जबकि एचडीएफसी बैंक के 49 और एक्सिस बैंक के 35 कर्मचारी इसमें शामिल रहे हैं।
  • अप्रैल-दिसंबर में विभिन्न सरकारी और निजी बैंकों के 450 कर्मचारी धोखाधड़ी में शामिल पाए गए।
  • इस दौरान 17,750.27 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी के 3,870 मामले सामने आए।
Write a comment