1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. अनिल अंबानी की RCom दूरसंचार कारोबार से पूरी तरह होगी बाहर, रियल एस्‍टेट पर देगी अब ध्‍यान

अनिल अंबानी की RCom दूरसंचार कारोबार से पूरी तरह होगी बाहर, रियल एस्‍टेट पर देगी अब ध्‍यान

अरबपति अनिल अंबानी ने मंगलवार को घोषणा की है कि नकदी संकट से जूझ रही रिलायंस कम्यूनिकेशंस (आरकॉम) अपने दूरसंचार कारोबार से पूरी तरह बाहर निकल जाएगी

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: September 18, 2018 16:09 IST
Anil ambani- India TV Paisa
Photo:ANIL AMBANI

Anil ambani

मुंबई। अरबपति अनिल अंबानी ने मंगलवार को घोषणा की है कि नकदी संकट से जूझ रही रिलायंस कम्यूनिकेशंस (आरकॉम) अपने दूरसंचार कारोबार से पूरी तरह बाहर निकल जाएगी और भविष्य में केवल रियल एस्टेट कारोबार पर ही ध्यान देगी। 

कंपनी की यहां हुई 14वीं वार्षिक आम बैठक में अंबानी ने कहा कि आरकॉम की पहली प्राथमिकता उसके 40,000 करोड़ रुपए से अधिक के कर्ज संकट का समाधान करना है। कंपनी ने दूरसंचार सेवाओं के क्षेत्र में वर्ष 2000 में सस्ती पेशकश के साथ उसे सभी तक पहुंचाने का काम किया था। उन्होंने कहा कि हमने तय किया है कि हम इस क्षेत्र में आगे नहीं बढ़ेंगे। कई अन्य कंपनियों ने भी इसी तरह का ही फैसला किया है। यह भविष्य की तस्वीर है, जो साफ दिखाई दे रही है।  

अंबानी ने कहा क‍ि जैसे-जैसे हम मोबइल क्षेत्र से बाहर निकलेंगे, हम अपने एंटरप्राइज बिजनेस का उचित समय पर मौद्रीकरण करेंगे। रिलायंस रियल्‍टी भविष्य में वृद्धि का इंजन होगा।  देश की वाणिज्यिक राजधानी के बाहरी इलाके में 133 एकड़ भूखंड पर स्थित धीरूभाई अंबानी नॉलेज सिटी के बारे में उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में रियल्‍टी कारोबार के लिए काफी संभावनाएं हैं। इस क्षेत्र में आरकॉम का कॉरपोरेट मुख्यालय हुआ करता था। उन्होंने इसके लिए 25,000 करोड़ रुपए का मूल्य आंका है। 

आरकॉम 40,000 करोड़ रुपए के कर्ज बोझ तले दबा है। उस पर चीनी बैंक सहित 38 कर्जदाताओं का ऋण है। कंपनी एक रणनीतिक ऋण पुनर्गठन प्रक्रिया के जरिये इसके समाधान में लगी है। उन्होंने कहा कि कंपनी दूरसंचार विभाग से स्पेक्ट्रम साझीदारी और व्यापार के लिए अंतिम मंजूरी की प्रतीक्षा में है। अनिल अंबानी ने अपने संबोधन में बड़े भाई मुकेश अंबानी का भी धन्यवाद किया। मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस जियो ने आरकॉम के संपत्तियों के मौद्रीकरण प्रयासों में मदद की है। 

Write a comment