1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. आनंद महिंद्रा ने ‘जख्मी जूतों के डाक्टर’ के लिए बनवा दिया 'हस्पताल', जानिए क्या हैं उसकी खूबियां

आनंद महिंद्रा ने ‘जख्मी जूतों के डाक्टर’ के लिए बनवा दिया 'हस्पताल', जानिए क्या हैं उसकी खूबियां

बुधवार को आनंद महिंद्रा ने अपने ट्विटर हेंडल से नरसी राम को डिलिवर किए जाने वाले उस ‘जख्मी जूतों के अस्पताल’ का विडियो शेयर किया जिसे उन्होंने देने का वायदा किया था

Manoj Kumar Manoj Kumar
Updated on: August 01, 2018 12:16 IST
Anand Mahindra's team will deliver in house designed kiosk to Jind cobbler Narsi Ram- India TV Paisa

Anand Mahindra's team will deliver in house designed kiosk to Jind cobbler Narsi Ram

नई दिल्ली। महिंद्रा एंड महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने ‘जख्मी जूतों का अस्पताल’ चलाने वाले शख्स नरमी राम से जो वायदा किया था उसे पूरा करने जा रहे हैं। बुधवार को आनंद महिंद्रा ने अपने ट्विटर हेंडल से नरसी राम को डिलिवर किए जाने वाले उस ‘जख्मी जूतों के अस्पताल’ का विडियो शेयर किया जिसे उन्होंने देने का वायदा किया था। 

अपने ट्विटर हेंडल पर आनंद महिंद्रा ने लिखा कि, आपको वह मोची नरमी राम याद होंगे जिन्होंने जख्मी जूतों के अस्पताल नाम के बैनर से सबका ध्यान खींचा था। आनंद महिंद्रा ने लिखा कि उनकी टीम ने नरमी राम से संपर्क किया और बताया कि मैं उनकी मदद करना चाहता हूं, इसके जवाब में नरमी राम ने कहा कि वह अच्छा बूथ चाहते हैं। इसके बाद आनंद महिंद्रा ने लिखा कि मुंबई स्थित उनके डिजाइन स्टूडियो ने बूथ तैयार किया है जिसे नरसी राम को जल्द डिलिवर किया जाएगा। इसके बाद आनंद महिंद्रा ने उस बूथ का वीडियो भी शेयर किया।

आनंद महिंद्रा ने नरसी राम को दिए जाने वाले बूथ के बारे में जो विडियो शेयर किया है उसमें उस बूथ की खासियतों का जिक्र भी किया गया है। वीडियो में बताया गया है कि बूथ वाटर प्रूफ है, साफ और ऑर्गेनाज्ड है, वेंटिलेशन और लाइटिंग की व्यवस्था की गई है और साथ में टूट-फूट से सुरक्षित है। बूथ पर 'बेची बचाओ-बेटी पढ़ाओ' और 'स्वच्छ भारत अभियान' का लोगो भी छापा गया है।

हरियाणा के जींद में रहने वाले नरसी राम के विज्ञापन मॉडल से प्रभावित होकर आनंद महिंद्रा ने उनकी मदद का प्रस्ताव दिया था। करीब साढ़े 3 महीने पहले अप्रैल में अपने ट्विटर हेंडल के जरिए एक तस्वीर शेयर की थी जिसमें जूतों की मरम्मत करने वाले एक शख्स के बारे में उन्होंने लिखा था कि यह व्यक्ति आईआईएम में विज्ञापन पढ़ाने के लायक है।

Write a comment