1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. 9 महीने में 17% बढ़ा कृषि एवं प्रसंस्कृत खाद्य उत्पादों का निर्यात, चावल और ग्वारगम निर्यात में 50% से ज्यादा बढ़ोतरी

9 महीने में 17% बढ़ा कृषि एवं प्रसंस्कृत खाद्य उत्पादों का निर्यात, चावल और ग्वारगम निर्यात में 50% से ज्यादा बढ़ोतरी

अप्रैल से दिसंबर 2017 के दौरान भारत से 16803 करोड़ रुपए के मूल्य के 63.39 लाख टन गैर बासमती चावल का और 2951 करोड़ रुपए मूल्य के 3.65 लाख टन ग्वारगम का निर्यात हुआ है

Manoj Kumar Manoj Kumar
Published on: February 11, 2018 18:06 IST
Agricultural and processed food products export- India TV Paisa
Agricultural and processed food products export grows 17 percent during AprilDecember 2017

नई दिल्ली। कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य उत्पादों के निर्यात के लिए चालू वित्त वर्ष 2017-18 अबतक शानदार रहा है। 2017-18 के पहले 9 महीने यानि अप्रैल से दिसंबर 2017 के दौरान इन उत्पादों के निर्यात में करीब 17 प्रतिशत की बढ़ोतरी देखने को मिली है। वाणिज्य मंत्रालय की तरफ से जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक गैर बासमती चावल और ग्वारगम के निर्यात में 50 प्रतिशत से ज्यादा की बढ़ोतरी देखने को मिली है।

चावल और ग्वारगम निर्यात में जोरदार बढ़ोतरी

आंकड़ों के मुताबिक अप्रैल से दिसंबर 2017 के दौरान भारत से 16803 करोड़ रुपए के मूल्य के 63.39 लाख टन गैर बासमती चावल का और 2951 करोड़ रुपए मूल्य के 3.65 लाख टन ग्वारगम का निर्यात हुआ है। इस दौरान बासमती चावल के निर्यात में भी 27 प्रतिशत का उछाल देखने को मिला है, कुल 18758 करोड़ रुपए के 29.03 लाख टन बासमती चावल का निर्यात हुआ है। भैंस के मांस के निर्यात में 9 प्रतिशत का उछाल देखने को मिला है और कुल 20715 करोड़ रुपए के 10.70 लाख टन भैंस के मांस का निर्यात हुआ है।

इन उत्पादों का भी निर्यात बढ़ा

इन उत्पादों के अलावा प्रोसेस्ड जूस के निर्यात में करीब 9 प्रतिशत और डेयरी उत्पादों के निर्यात में करीब 20 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। हालांकि ताजी सब्जियों के निर्यात में 15 प्रतिशत और मूंगफली के निर्यात में करीब 25 प्रतिशत की गिरावट भी आई है।

कुल मिलाकर अप्रैल से दिसंबर 2017 के दौरान देश से 86547 करोड़ रुपए के उत्पादों का निर्यात हो चुका है जबकि वित्त वर्ष 2016-17 की समान अवधि में 77104 करोड़ रुपए के उत्पादों का निर्यात हुआ था।

Write a comment