आम बजट 2019: मोदी ने भर दी आमलोगों की झोली, 5 लाख तक की आय टैक्‍स फ्री

Budget 2019- India TV Paisa

बजट highlights

  • यदि 6.5 लाख रुपये तक की कमाई करने वाले प्रोविडेंट फंड और अन्य इक्विटीज में निवेश करते हैं तो कोई टैक्स नहीं देना होगा: पीयूष गोयल
  • स्टैंडर्ड डिडक्शन को 40 हजार रुपये से बढ़ाकर 50 हजार रुपये किया गया है: पीयूष गोयल
  • मोदी सरकार ने टैक्स घटाया, 5 लाख तक इनकम टैक्स फ्री
  • ग्रैच्युअटी की सीमा 10 लाख से बढ़ाकर 30 लाख रुपये की गई: पीयूष गोयल
  • जवानों को वन रैंक-वन पेंशन दिया: पीयूष गोयल
  • किसानों के लिए नई पीएम किसान योजना, किसानों के खाते में 6 हजार रुपए जाएंगे: पीयूष गोयल
  • रेरा से रियल एस्टेट सेक्टर में पारदर्शिता आई, सरकार ने कई नई योजनाएं शुरू कीं: पीयूष गोयल
  • सरकार ने NPA कम करने की कोशिश की, अब बड़े कारोबारियों को ऋण चुकाने की चिंता होती है: पीयूष गोयल
  • मैं गर्व के साथ कह सकता हूं भारत की अर्थव्यवस्था मजबूती के रास्ते पर है, किसानों की आमदनी दोगुनी हुई: पीयूष गोयल
  • हमारी अर्थव्यवस्था सबसे तेज गति से बढ़ रही है, दुनिया में छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है: पीयूष गोयल
  • किसानों की आमदनी 2022 तक दोगुनी हो जाएगी, हम न्यू इंडिया की तरफ बढ़ रहे हैं: पीयूष गोयल
  • हमने देश का आत्मविश्वास बढ़ाया और देश को विकास के ट्रैक पर लाए: पीयूष गोयल
  • कमरतोड़ महंगाई की कमर मोदी सरकार ने तोड़ दी: पीयूष गोयल
  • कार्यवाहक वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने पेश किया मोदी सरकार का अंतरिम बजट
  • लोकसभा की कार्यवाही शुरु
  • कैबिनेट ने अंतरिम बजट को मंजूरी दी
  • पीयूष गोयल संसद भवन पहुंचे
  • अंतरिम बजट से पहले सेंसेक्स 90 अंकों की बढ़त के साथ खुला है तो निफ्टी में 30 अंकों की बढ़त दर्ज की गई है
  • इनकम टैक्स में छूट की सीमा बढ़ सकती है, 2.5 से 3 लाख हो सकती है छूट की सीमा
  • होम लोन में राहत मिल सकती है
  • यूनिवर्सल बेसिक इनकम यानी यूबीआई की घोषणा हो सकती है, हर महीने 700 से 1200 रुपये दिए जा सकते हैं
  • सभी महिला उपभोक्ताओं को मुफ्त गैस कनेक्शन मिल सकता है
  • किसानों को राहत पहुंचाने के लिये राहत पैकेज हो सकता है
  • किसानों को बुआई के पहले डायरेक्ट ट्रांसफर की स्कीम
  • अंतरिम बजट में किसानों के लिए पैकेज और करदाताओं के लिए छूट सीमा बढ़ाने की हो सकती है घोषणा।
  • आम चुनाव से पहले मोदी सरकार किसानों और मध्‍यम वर्ग को दे सकती है कुछ उपहार।
  • मोदी सरकार आज पेश करेगी अपना अं‍तरिम बजट, इसमें हो सकती हैं लोकलुभावन घोषणाएं।
  • अंतरिम वित्‍त मंत्री पीयूष गोयल पेश करेगी मोदी सरकार के कार्यकाल का अंतिम बजट।

GST के तहत जल्द मिल सकती है बड़ी राहत

  • GST की दरें लगातार घट रही है, अबतक उपभोक्ताओं को 80 हजार करोड़ की राहत दी जा चुकी है रोजमर्रा के इस्तेमाल की अधिकतर वस्तुएं 0%-5% टैक्स के दायरे में घर घरीदने वालों को GST के तहत राहत देने के लिए GoM का गठन
  • GoM की सिफारिशों के बाद घर खरीदने वालों के लिए घटाया जा सकता है GST 5 करोड़ से कम टर्नओवर वाले कारोबारियों मासिक की जगह तिमाही रिटर्न पर हो रहा विचार 90 प्रतिशत GST करदाता 5 करोड़ से कम टर्नओवर वाले कारोबारी

दिहाड़ीदार मजदूरों को 3000 रुपए पेंशन

  • असंगठित क्षेत्र के मजदूरों के लिए प्रधानमंत्री श्रमयोगी मानधन योजना योजना के तहत 3000 रुपए मासिक की पेंशन की व्यवस्था
  • योजना का लाभ उठाने के लिए मजदूर से हर महीने 100 रुपए लिए जाएंगे 60 वर्ष की आयू के बाद मजदूर पेंशन का लाभ उठा सकेगा

हेल्थकेयर को लेकर वित्तमंत्री की कही मुख्य बातें

  • दुनिया का सबसे बड़ी हेल्थकेयर योजना आयुष्मान भारत लॉन्च की योजना के तहत 50 करोड़ लोगों को शामिल किया गया, 10 लाख लोग लाभान्वित हो चुके हैं
  • प्रधानमंत्री जन औषधी केंद्र में सस्ती दवाइयां दी जा रही हैं देश में 21 AIIMS शुरू हो चुके हैं या शुरू होने वाले हैं, 22वां AIIMS हरियाणा लगने जा रहा है इन सभी AIIMS में से 14 AIIMS हमारी सरकार लेकर आई

बजट की शुरुआत में वित्त मंत्री की कही मुख्य बातें

  • 5 साल में भारत सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था बना, 6ठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है देश सरकार ने कमरतोड़ महंगाई की कमर तोड़ दी, औसत महंगी दर को घटाकर 4.6 प्रतिशत किया
  • महंगाई अगर काबू नहीं होती तो हर परिवार को 35-40 प्रतिशत अधिक खर्च करना पड़ता मौजूदा सरकार के कार्यकाल के दौरान देश में 239 अरब डॉलर का FDI आया

रक्षा बजट में बढ़ोत्‍तरी

  • देश के रक्षा बजट में 3 लाख करोड़ रुपए की वृद्धि की गई है। ओआरओपी के लिए 35 हजार करोड़ का आवंटन किया गया है।
  • रक्षा बजट में बढ़ोत्‍तरी का मुख्‍य फायदा मौजूदा जवानों और पूर्व सैनिकों को मिलेगा। कई दशकों से चली आ रही उनकी मांग पूरी होनेे से मौजूदा भारतीय सेना का मनोबल बढ़ेगा।

आपकी जेब में आएगा पैसा

  • 21000 रुपए तक कमाने वाले लोगों को 7000 रुपए बोनस मिलेगा। ईपीएफ में सरकार ने हिस्‍सेदारी बढ़ा दी है। प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत 15.56 करोड़ लाभार्थियों को 7.23 लाख करोड़ रुपये का कर्ज दिया गया। प्रधानमंत्री श्रमयोगी मान धन योजना के लिए 500 करोड़ रुपये आवंटित। संगठित क्षेत्र के 15,000 रुपये प्रतिमाह कमाने वालों को 60 साल के बाद 3000 रुपये प्रति माह की पेंशन योजना दी जाएगी
  • मजदूरों को 3000 रुपए प्रति माह पेंशन मिलेगी। मजदूरों को हर महीने 100 रुपए का योगदान देना होगा। पेंशन का फायदा 60 साल की उम्र के बाद होगा। इससे 10 करोड़ लोगों को फायदा होगा।

सरकार ने किसानों की आय बढ़ाने के लिए उठाए ये बड़े कदम

  • छोटे किसानों के लिए सरकार ने बड़ी घोषणा। प्रधानमंत्री किसान सम्‍मान योजना शुरू की गई है। इसके तहत 2 हेक्‍टेयर की जोत वाले छोटे किसानों के खाते में 6000 रुपए आएंगे। यह योजना 1 दिसंबर 2018 से लागू होगी। राष्ट्रीय गोकुल योजना के लिए 2019-20 के बजट में 750 करोड़ रुपये का आवंटन। सभी किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड दिया जाएगा।
  • सरकार का यह ऐलान किसानों के लिए बड़ी राहत भरा है। इससे देश के 12 करोड़ छोटे किसानों को लाभ होगा। सरकार किसानों को तीन किश्‍तों में यह राशि मुहैया कराएगी।

सरकार ने स्‍वास्‍थ्‍य क्षेत्र के लिए उठाए ये बड़े कदम

  • दुनिया की सबसे बड़ी हेल्‍थकेयर स्‍कीम आयुष्‍मान भारत योजना शुरू की गई। मोदी सरकार के दौरान 14 एम्‍स तैयार किए गए हैं।
  • देश में नए एम्‍स का निर्माण किया जा रहा है। 22 वां एम्‍स हरियाणा में तैयार हो रहा है। जनऔषधि केंद्रों के जरिए सस्‍ती दवाएं उपलब्‍ध कराई गई हैं।

इंडिया और भारत में घटी दूरी

  • ग्रामीण भारत में शहरी सुविधाएं उपलब्‍ध कराई जा रही है। ग्रामीण सड़कों के लिए 98 करोड़ रुपए आवंटित सस्‍ते अनाज के लिए 1.7 लाख करोड़ आवंटित
  • गांव में पगडंडी की जगह चौड़ी सड़कें बनेंगी। सौभाग्‍य योजना के तहत घरों में बिजली पहुंची।

महंगाई की टूटी कमर

  • महंगाई की दर 10 फीसदी से गिरकर अब 4.6 फीसदी पर आई। मोदी सरकार ने सरकारी घाटा कम किया। देश में तेजी से आर्थिक सुधार हुआ है।
  • सरकारी घाटा 3.4 फीसदी पर पहुंचा। बैंकिंग सेक्‍टर में सुधार किया गया।

2022 में नया भारत बनाएगी सरकार

  • भारत इस समय दुनिया की छठवीं सबसे बड़ी अर्थव्‍यवस्‍था बनी। 2022 तक किसानों की आय दोगुनी होगी।
  • 2022 तक सभी के पास अपना आवास होगा। 2022 तक हर घर में बिजली होगी।

2001 से पहले शाम 5 बजे पेश होता था आम बजट, इस कारण से बदला समय

  • 2000 तक देश का आम बजट शाम 5 बजट पेश होता था। दरअसल जब भारत में शाम के 5 बजते थे तो उस समय लंदन में सुबह के 11.30 बज रहे होते थे। लंदन के हाउस ऑफ लॉर्ड्स और हाउस ऑफ कॉमंस में बैठे सांसद भारत का बजट भाषण सुनते थे।
  • यशवंत सिन्‍हा ने 2001 में सबसे पहले सुबह 11 बजे बजट पेश करना शुरू किया जो कि पूरी तरह से भारत के समयानुसार और भारत की परंपरा के अनुरूप था। 2016 तक फरवरी के अंतिम कार्य दिवस को बजट पेश किया जाता था। लेकिन वित्‍तीय कामकाजों की सहूलियत को देखते हुए 2017 से बदलकर 1 फरवरी कर दिया गया।

आम बजट से जुड़ी ये बातें नहीं जानते होंगे आप

  • क्‍या है बजट आम बजट भारत के लोकतंत्र का एक अहम हिस्‍सा है। देश की जनता द्वारा चुनी गई सरकार हर साल देश के आय और व्‍यय का पूरा ब्‍यौरा देने के साथ ही नए वित्‍त वर्ष विकास की रूपरेखा पेश करती है। बजट देश के संविधान का एक अहम हिस्‍सा है।
  • कब पेश होता है बजट 2016 तक देश में बजट फरवरी माह के आखिरी कार्यदिवस पर संसद में वित्‍त मंत्री द्वारा पेश किया जाता था। लेकिन मोदी सरकार ने इस परंपरा को तोड़ते हुए 2017 में पहली बार 1 फरवरी को बजट पेश किया। 2018 में भी आम बजट 1 फरवरी को लोकसभा में वित्‍त मंत्री अरुण जेटली द्वारा पेश किया जाएगा।

ये हैं रेल बजट से जुड़े कुछ खास तथ्‍य

  • यह लोकसभा में धन विधेयक के रूप में केंद्रीय रेल मंत्री द्वारा प्रस्तुत किया जाता है। रेल बजट का सीधा प्रसारण 24 मार्च 1994 से प्रारंभ हुआ। यद्यपि भारतीय संविधान में कहीं भी रेल बजट जैसे शब्द का वर्णन नहीं है। इसे संविधान के अनुच्छेद 112 और 204 के अंतर्गत ही लोक सभा में पेश और पास किया जाता है। आमतौर पर रेल बजट आम बजट से 2 दिन पहले पेश किया जाता है। इसमें पिछले वित्त वर्ष का आर्थिक सर्वेक्षण भी किया जाता है।
  • भारतीय रेल, भारत में एक सबसे बड़ा सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम (पीएसयू) है। यह लगभग 13.6 लाख लोगों को रोजगार प्रदान करती है। भारत में पहली यात्री ट्रेन 16 अप्रैल 1853 में महाराष्ट्र के मुंबई और ठाणे के मध्य चलाई गयी थी। दिल्ली के चाणक्यपुरी में स्थित रेलवे सूचना प्रणाली (सीआरआईएस) द्वारा पहली बार 1986 में आरक्षण प्रणाली की शुरुआत की गयी। बिहार के भूतपूर्व मुख्य मंत्री लालूप्रसाद यादव के नाम लगातार 6 बार रेल बजट प्रस्तुत करने का रिकॉर्ड है। वे संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार में 2004 – 2009 के बीच रेल मंत्री थे। ममता बनर्जी रेल बजट पेश करने वाली पहली महिला रेल मंत्री हैं। 2002 में उन्होंने रेल बजट प्रस्तुत किया था।

ये हैं रेल बजट से जुड़े कुछ खास तथ्‍य

  • 2017 का बजट कई मायनों में बेहद अलग था। उस वर्ष ना सिर्फ बजट की तारीखों में बदलाव किया गया, वहीं 2017 से रेल बजट की रवायत भी खत्‍म कर दी गई। भारतीय बजट प्रणाली के करीब 92 साल में यह पहली बार था जब अलग से रेल बजट पेश नहीं किया गया। देश में पहली बार 1924 में रेल बजट पेश किया गया था, जिसके बाद से हर साल आम बजट से 2 दिन पहले रेल बजट को पेश किया जाता है।
  • भारतीय रेल बजट एक विशेष बजट है जो आम बजट से बिलकुल अलग है। सर्वप्रथम 10 सदस्यीय एक्वोर्थ समिति की अनुशंसा पर 1924 में इसे पेश किया गया था। ब्रिटिश सरकार द्वारा 1921 में रेलवे के वित्तीय प्रदर्शन में सुधार के लिए बनी जिस समिति के रिपोर्ट के आधार पर रेल बजट प्रस्तुत करने की अनुशंसा की गयी थी उसके अध्यक्ष अर्थशास्त्री विलियम मिशेल एक्वर्थ थे।

ये 25 वित्‍त मंत्री पेश कर चुके हैं भारत का आम बजट

  • यशवंत सिन्हा 10 नवंबर 1990 से 21 जून 1991 तक मनमोहन सिंह 21 जून 1991 से 16 मई 1996 तक जसवंत सिंह 16 मई 1996 से 1 जून 1996 तक पी चिदंबरम एक जून 1996 से 21 अप्रैल 1997 तक आई के गुजराल 21 अप्रैल 1997 से 1 मई 1997 तक पी चिदंबरम 1 मई 1997 से 19 मार्च 1998 तक यशवंत सिन्हा 19 मार्च 1998 से 1 जुलाई 2002 तक जसवंत सिंह 1 जुलाई 2002 से 22 मई 2004 तक पी चिदंबरम 22 मई 2004 से 30 नवंबर 2008 तक मनमोहन सिंह 30 नवंबर 2008 से 24 जनवरी 2009 तक
  • प्रणब मुखर्जी 24 जनवरी 2009 से 26 जून 2012 तक मनमोहन सिंह 26 जून 2012 से 31 जुलाई 2012 तक पी चिदंबरम 31 जुलाई 2012 से 2014 तक अरुण जेटली 26 मई 2014 से अब तक

ये 25 वित्‍त मंत्री पेश कर चुके हैं भारत का आम बजट

  • मोरारजी देसाई 13 मार्च 1967 से 16 जुलाई 1969 तक इंदिरा गांधी 1970 से 1971 तक यशवंतराव चव्हाण 1971 से 1975 तक चिदंबरम सुब्रह्मण्यम 1975 से 1977 तक हरिभाई एम पटेल 24 मार्च 1977 से 24 जनवरी 1979 तक चौधरी चरण सिंह 24 जनवरी 1979 से 28 जुलाई 1979 तक हेमवती नंदन बहुगुणा 28 जुलाई 1979 से 14 जनवरी 1980 तक आर वेंकटरमण 14 जनवरी 1980 से 15 जनवरी 1982 तक
  • प्रणब मुखर्जी 15 जनवरी 1982 से 31 दिसंबर 1984 तक वी पी सिंह 31 दिसंबर 1984 से 24 जनवरी 1987 तक राजीव गांधी 24 जनवरी 1987 से 25 जुलाई 1987 तक एन डी तिवारी 25 जुलाई 1987 से 25 जून 1988 तक शंकरराव चव्हाण 25 जून 1988 से 2 दिसंबर 1989 तक मधु दंडवते 2 दिसंबर 1989 से 10 नवंबर 1990 तक

क्या आप जानते हैं कि किस मंत्री के नाम अबतक सबसे अधिक बार आम बजट पेश करने का रिकॉर्ड है?

  • एक वित्‍त मंत्री के तौर पर मोरारजी देसाई ने 10 बार आम बजट पेश किया था। इनमें से 8 पूर्ण बजट थे और 2 इंटरिम शामिल हैं। मोरारजी देसाई के बाद प्रणब मुखर्जी, पी चिदंबरम, यशवंत सिन्हा, वाईबी चौहान और सीडी देशमुख का स्‍थान आता है।
  • इन सभी ने सात-सात बार बजट पेश किया। मनमोहन सिंह और टीटी कृष्णमचारी ने 6-6 बार बजट पेश किया। आर वेंकटरमन और एचएम पटेल ने 3-3 बजट पेश किए। जसवंत सिंह, वीपी सिंह, सी सुब्रमण्यम, जॉन मथाई और आर के शनमुखम ने दो-दो बार बजट पेश किया।

ये 25 वित्‍त मंत्री पेश कर चुके हैं भारत का आम बजट

  • लियाकत अली खान 29 अक्टूबर 1946 से 14 अगस्त 1947 तक आर के शंमुगम चेट्टी 15 अगस्त 1947 से 1949 तक जॉन मथाई 1949 से 1950 तक
  • सी डी देखमुख 1950 से 1957 तक टी टी कृष्णमाचारी 1957 से 13 फरवरी 1958 तक जवाहर लाल नेहरू 13 फरवरी 1958 से 13 मार्च 1958 तक मोरारजी देसाई 13 मार्च 1958 से 29 अगस्त 1963 तक टी टी कृष्णमाचारी 29 अगस्त 1963 से साल 1965 तक सचिंद्रा चौधरी 1965 से 13 मार्च 1967 तक

बजट 2019 की अन्य खबरें

और पढ़ें
Market Quotes by TradingView