1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. ऑटो
  5. महाराष्‍ट्र में इस महीने से बिना ABS के नहीं चलेंगी बाइक्‍स, मार्च 2019 तक सभी टू-व्‍हीलर्स के लिए होगा जरूरी

महाराष्‍ट्र में इस महीने से बिना ABS के नहीं चलेंगी बाइक्‍स, मार्च 2019 तक सभी टू-व्‍हीलर्स के लिए होगा जरूरी

सड़क पर सुरक्षित वाहन चलाने के लिए सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने महाराष्‍ट्र में सभी टू-व्‍हीलर्स के लिए एंटी लॉक ब्रेकिंग सिस्‍टम (ABS) अप्रैल 2018 से अनिवार्य कर दिया है। महाराष्‍ट्र परिवहन विभाग के अधिकारियों के अनुसार, 125सीसी और उससे अधिक क्षमता वाले टू-व्‍हीलर्स के लिए 1 अप्रैल से ही ABS अनिवार्य कर दिया गया है।

Manish Mishra Manish Mishra
Updated on: April 26, 2018 12:01 IST
ABS in now mandatory for all two-wheelers in Maharashtra- India TV Paisa

ABS in now mandatory for all two-wheelers in Maharashtra

नई दिल्‍ली। सड़क पर सुरक्षित वाहन चलाने के लिए सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने महाराष्‍ट्र में सभी टू-व्‍हीलर्स के लिए एंटी लॉक ब्रेकिंग सिस्‍टम (ABS) इस महीने यानी अप्रैल 2018 से अनिवार्य कर दिया है। महाराष्‍ट्र परिवहन विभाग के अधिकारियों के अनुसार, 125सीसी और उससे अधिक क्षमता वाले टू-व्‍हीलर्स के लिए 1 अप्रैल से ही ABS अनिवार्य कर दिया गया है। अंग्रेजी अखबार DNA की एक रिपोर्ट के अनुसार, मौजूदा टू-व्‍हीलर्स जिनमें ABS नहीं है उन्‍हें मार्च 2019 तक का वक्‍त दिया गया है। हालांकि, 125सीसी से कम क्षमता वाले टू-व्‍हीलर्स में कंबाइन्‍ड ब्रेकिंग (CBS) सिस्‍टम होगा।

महाराष्‍ट्र सरकार ने यह कदम टू-व्‍हीलर चलाने वाले और पीछे बैठने वालों की सुरक्षा को ध्‍यान में रखते हुए उठाया है। ABS से लैस वाहन ब्रेक लगाते समय फिसलते नहीं हैं और अचानक रूक जाते हैं। हालांकि, अगर टू-व्‍हीलर चालक अनुभवी नहीं हुआ तो पीछे से आने वाले वाहन की वजह से दुर्घटना का शिकार भी हो सकता है।

हालांकि, महाराष्‍ट्र के RTO विभाग के लिए यह सुनिश्चित करना कि सभी टू-व्‍हीलर्स में ABS है या नहीं, कम बड़ी चुनौती नहीं होगी। महाराष्‍ट्र में टू-व्‍हीलर्स की संख्‍या 2.3 करोड़ है। अकेले मुंबई में ही 20 लाख से अधिक बाइक्‍स हैं। वर्तमान में यह जांचने की कोई प्रणाली नहीं है कि किसी टू-व्‍हीलर में ABS है या नहीं। न ही लोगों को ये पता है कि ABS कहां से टू-व्‍हीलर में लगवाया जा सकता है। अब देखना ये है कि महाराष्‍ट्र सरकार इसे किस प्रकार लागू करवा पाती है।

Write a comment