1. You Are At:
  2. खबर इंडिया टीवी
  3. पैसा
  4. ऑटो
  5. रॉल्स रॉयस समेत ये लग्जरी कार हुईं 1 करोड़ रुपए तक सस्ती, ब्रेक्जिट के असर से कंपनियों ने घटाए दाम

रॉल्स रॉयस समेत ये लग्जरी कार हुईं 1 करोड़ रुपए तक सस्ती, ब्रेक्जिट के असर से कंपनियों ने घटाए दाम

रॉल्स रॉयस, बेंटली, ऐस्टन मार्टिन, रेंज रोवर जैसी सुपर लग्जरी कार खरीदने का बड़ा मौका है, यूके में बनी इन सुपरकारों के दाम 1 करोड़ रुपए तक घट गए है।

Ankit Tyagi [Updated:22 Apr 2017, 12:37 PM IST]
रॉल्स रॉयस समेत ये लग्जरी कार हुईं 1 करोड़ रुपए तक सस्ती, ब्रेक्जिट के असर से कंपनियों ने घटाए दाम- India TV Paisa
रॉल्स रॉयस समेत ये लग्जरी कार हुईं 1 करोड़ रुपए तक सस्ती, ब्रेक्जिट के असर से कंपनियों ने घटाए दाम

नई दिल्ली। अगर आप भी लग्जरी कार के शौकीन और उसे खरीदने की चाहत रखते हैं तो आपके पास  रॉल्स रॉयस, बेंटले, ऐस्टन मार्टिन, रेंज रोवर और फेरारी जैसी सुपर लग्जरी कार खरीदने का सबसे बड़ा मौका है, क्योंकि यूके में बनी इन सुपरकारों के दाम में बड़ी गिरावट आई है। आपको बता दें कि इन सुपरकार्स के दाम 20 लाख रुपए से 1 करोड़ रुपए तक कम हो गए हैं। यह भी पढ़े: Supercars: फरारी ने लॉन्च की दुनिया की सबसे तेज कार, ‘488 GTB’ की कीमत 3.88 करोड़ रुपए

क्यों आई कीमतों में भारी गिरावट

इन लग्जरी कारों की कीमतों में गिरावट का बड़ा कारण ब्रेक्जिट बताया जा रहा है। दरअसल ब्रिटेन के  यूरोपीय यूनियन से बाहर होने के बाद उसकी करेंसी पाउंड में भारी गिरावट देखने को मिली है। पाउंड स्ट्रैलिंग रुपए के मुकाबले 20 फीसदी तक गिर गया है, जिसका फायदा ग्राहकों को मिल रहा है। ब्रेक्जिट के फैसले के बाद पिछले एक साल में पाउंड 108 रुपए से 81 रुपए पर आ गया है। इससे यूके स्थित कार निर्माता कंपनियों द्वारा भारत को निर्यात की जानें वाली कारों के दाम में गिरावट आई है। कार निर्माता कंपनियों ने ग्राहकों को ज्यादा से ज्यादा आकर्षित करने के लिए गाड़ियों के दाम 5 फीसदी से 15 फीसदी कम कर दिए हैं। यह भी पढ़े: Safest Car: क्रैश टेस्ट में पास हुई Volvo की S90 कार, मिली 5 स्टार रेटिंग

भारत में तेजी से बढ़ रहा है सुपर लग्जरी कारों का मार्केट

2016 में 2 करोड़ और उससे ज्यादा कीमत की कारों की 200 यूनिट भारत में बिकीं जो खुद में एक रिकॉर्ड था और इन गाड़ियों में आधी से ज्यादा गाड़ियां ब्रिटेन में बनी थीं। इंडस्ट्री बॉडी सोसायटी ऑफ मोटर मैन्युफैक्चर्रस ऐंड ट्रेडर्स (एसएमएमटी) के मुताबिक, बीते 11 साल में यूके से भारत एक्सपोर्ट होने वाली गाड़ियों की संख्या 11 गुना बढ़ी है। 2009 में ब्रिटेन निर्मित महज 309 गाड़ियां भारत में बिकी थीं जबकि 2016 में यह संख्या 3,372 हो गई। गाड़ियों की मांग 2015 के मुकाबले 15.8 फीसदी हो गई है, जिससे भारत यूके की एशिया एक्सपोर्ट मार्केट की लिस्ट में दसवें पायदान से आठवें पायदान पर आ गया है। यह भी पढ़े: पोर्श ने लॉन्‍च किया पैनामेरा टर्बो, 1.93 करोड़ की यह कार 3.8 सेकंड में पकड़ती है 100 की रफ्तार

Web Title: रॉल्स रॉयस समेत ये लग्जरी कार हुई 1 करोड़ रुपए तक सस्ती
Write a comment