1. You Are At:
  2. होम
  3. लाइफस्टाइल
  4. जीवन मंत्र
  5. नवरात्र: 9 दिनों के अंदर घर लाएं तंत्र की ये खास चीज, कुछ ही दिनों में हो जाएंगे मालामाल

नवरात्र: 9 दिनों के अंदर घर लाएं तंत्र की ये खास चीज, कुछ ही दिनों में हो जाएंगे मालामाल

तंत्र शास्त्र के अनुसार ऐसी कई चीजें है। जिनका इस्तेमाल कर आसानी से आप धन-सपंत्ति और मान-सम्मान पा सकते है। जानिए ऐसैे कौन सी चीज है जिसे नवरात्र में घर लाना होगा शुभ...

Written by: India TV Lifestyle Desk [Updated:19 Mar 2018, 8:53 PM IST]
navratri 2018 hatha jodi- India TV
navratri 2018 hatha jodi

धर्म डेस्क: नवरात्र में मां दुर्गा के अलग-अलग रुपों में पूजा की जाती है। इसके अलावा ज्योतिष और टोटका भी अधिक किया जाता है। इसका असर अन्य दिनों से ज्यादा भी होता है। तंत्र शास्त्र के अनुसार ऐसी कई चीजें है। जिनका इस्तेमाल कर आसानी से आप धन-सपंत्ति और मान-सम्मान पा सकते है। इसी में हम आपको बताने जा रहे है एक ऐेसी जड़ के बारें में जिसे घर लाने से हर समस्या से निजात मिल जाएगा।

हत्था जोड़ी नाम की ये जड़ घने वन क्षेत्रों में इसका पौधा पाया जाता है। ये बिल्कुल इंसान के हाथों के आकार का होता है। जिसमें अंगुली को साफ-साफ देखा जा सकता है। आमतौर पर इस्तेमाल तांत्रिक गतिविधियों में किया जाता है।  

हत्था जोड़ी के नाम है अनेक

इस पौधे की जड़ को हत्था जोड़ी, हत्था जोड़ी आदि नामों से जाना जाता है है। साथ ही इसे महाकाली और कामख्या देवी का रूप माना जाता है। किसी भी व्यापार में लाभ प्राप्त करने का इसे अचूक उपाय माना जाता है। जानिए इस वास्तु टिप्स के बारें में।

  • नवरात्र के दिनों में इसे घर लाना विशेष फल देता है। इसे तिजोरी में रखना अधिक फलदायक होता है।
  • अगर आपको बिजनेस, व्यापरा में भारी हानि हो रही है, तो आप इसका इस्तेमाल कर सकते है। यह गरीबी और पैसों से संबंधित हर समस्या से निजात दिला देता है।
  • अगर आपके व्यापार में तेजी नहीं आ रहीं है तो ये जड़ आपकी मदद कर सकती है। अपनी दुकान या ऑफिस में इस जड़ को रखें। कुछ ही दिनों में आपको प्रभाव दिखने लगेगा।

वीडियो में देखे कैसे करें इस जड़ का इस्तेमाल

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Religion News in Hindi के लिए क्लिक करें लाइफस्टाइल सेक्‍शन
Web Title: navratri 2018 ke special upay bna dege apko carorpati
Write a comment