1. You Are At:
  2. होम
  3. लाइफस्टाइल
  4. जीवन मंत्र
  5. जानें कब है मार्गशीर्ष अमावस्या, साथ ही जानें शुभ मुहूर्त और महत्व

जानें कब है मार्गशीर्ष अमावस्या, साथ ही जानें शुभ मुहूर्त और महत्व

मान्याता है कि मार्गशीर्ष माह की अमावस्या पर लक्ष्मी पूजन और व्रत से हर पाप की मुक्ति हो जाती है। इस बार अमावस्या 7 दिसंबर, शुक्रवार को है। जानें शुभ मुहूर्त, महत्व।

Written by: India TV Lifestyle Desk [Published on:06 Dec 2018, 9:23 PM IST]
Margsheersh amavasya 2018 - India TV
Margsheersh amavasya 2018

नई दिल्ली: आज मार्गशीर्ष कृष्ण पक्ष की स्नान-दान की अमावस्या है और शुक्रवार का दिन है। इसे अगहन और पितृ अमावस्या के नाम से भी जाना जाता है। यह माह माता लक्ष्मी की पूजा के लिए सबसे अच्छा होता है। मान्याता है कि मार्गशीर्ष माह की अमावस्या पर लक्ष्मी पूजन और व्रत से हर पाप की मुक्ति हो जाती है। इस बार अमावस्या 7 दिसंबर, शुक्रवार को है।

मार्गशीर्ष अमावस्या का शुभ मुहूर्त

6 दिसंबर- मार्गशीर्ष अमावस्या तिथि का आरंभ 12 बजकर 12 मिनट से
7 दिसंबर- मार्गशीर्ष अमावस्या तिथि का समापन- 12 बजकर 50 मिनट तक।

मार्गशीर्ष अमावस्या का महत्व
माना जाता है कि  मार्गशीर्ष अमावस्या पिचरों की पूडा के लिए बहुत ही अच्छा दिन होता है, क्योंकि इस दिन व्रत और पूजन से पितर प्रसन्न होकर आर्शीवाद देते है।
विष्णु पुराण के अनुसार श्रद्धा भाव से अमावस्या का उपवास रखने से पितृगण ही तृप्त नहीं होते, अपितु ब्रह्मा, इंद्र, सूर्य, अग्नि, पशु-पक्षी और समस्त भूत प्राणी भी तृप्त होकर प्रसन्न होते हैं।

जिन व्यक्तियों की कुण्डली में पितृ दोष हो, संतान हीन योग बन रहा हो, उन व्यक्तियों को यह उपवास अवश्य रखना चाहिए।

7 दिसंबर 2018 राशिफल: शुक्रवार का दिन इन राशियों के लिए होगा खास, लेकिन ये लोग रहें सतर्क

इन राशि वाले लोगों के लिए प्रोफेशनली सब अच्छा होगा लेकिन हेल्थ के मामले में थोड़ा सजग रहें

December 2018 Monthly Horoscope: साल का आखिरी महीना इस राशियों का चमका जाएगा भाग्य, लेकिन ये रहें सतर्क

 

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Religion News in Hindi के लिए क्लिक करें लाइफस्टाइल सेक्‍शन
Web Title: Margsheersh amavasya 2018 subh muhurat puja vishi and tithi samay: जानें कब है मार्गशीर्ष अमावस्या, साथ ही जानें शुभ मुहूर्त और महत्व
Write a comment