1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. लाइफस्टाइल
  4. जीवन मंत्र
  5. Chandra Grahan 2018: क्या वास्तव में गर्भवती महिलाओं पर पड़ता है चन्द्र ग्रहण का असर?, जानिए यहां सबकुछ

Chandra Grahan 2018: क्या वास्तव में गर्भवती महिलाओं पर पड़ता है चन्द्र ग्रहण का असर?, जानिए यहां सबकुछ

Chandra Grahan 2018: हिंदू धर्म के अनुसार ग्रहण में गर्भवती महिलाओं को कुछ सावधानियां जरूर बरतनी चाहिए। 28 जुलाई को सदी का सबसे बड़ा चंद्र गहण लगने वाला है। माना जाता है कि ग्रहण के समय निकलने वाली दूषित किरणें गर्भ में पल रहे शिशु पर बुरा असर डालती हैं।

India TV Lifestyle Desk India TV Lifestyle Desk
Updated on: July 27, 2018 23:26 IST
Lunar Eclipse- India TV
Lunar Eclipse

नई दिल्ली: Chandra Grahan 2018- कल लगने वाला है सदी का सबसे बड़ा ग्रहण, ये बात सुनने के बाद एक पल के हैरान हो सकते हैं लेकिन यह सच है हिंदू धर्म के अनुसार ग्रहण में गर्भवती महिलाओं को कुछ सावधानियां जरूर बरतनी चाहिए। 27 जुलाई को सदी का सबसे बड़ा चंद्र गहण लगने वाला है। माना जाता है कि ग्रहण के समय निकलने वाली दूषित किरणें गर्भ में पल रहे शिशु पर बुरा असर डालती हैं। मान्यता के अनुसार किसी भी ग्रहण का असर पूरे 108 दिनों तक रहता है। जिसका असर गर्भवती महिला के होने वाले बच्चे पर पड़ सकता है। इस तथ्य के पीछे कुछ धार्मिक तो कुछ वैज्ञानिक कारण बताए जाते हैं। इस बार 28 जुलाई को सदी का सबसे बड़ा चंद्र ग्रहण लगने वाला है। आइए जानते हैं क्या करके आप ग्रहण के असर को कम कर सकते हैं। 

सदी का सबसे बड़ा चंद्रग्रहण लाइव अपडेट्स ऑनलाइन देखने के लिए यहाँ क्लिक करें - Click Here  

चंद्रग्रहण (Chandra Grahan)के समय बाहर न जाएं

चंद्र ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाएं बाहर न निकलें। ऐसा माना जाता है कि गर्भवती महिला अगर ग्रहण देख लेती है तो उसका सीधा असर उसके होने वाले बच्चे की शारीरिक और मानसिक सेहत पर पड़ता है। जिसकी वजह से शिशु गंदे लाल चिन्हों के साथ पैदा होता है। जन्म के बाद बच्चे के शरीर पर कोई न कोई दाग जरूर पड़ जाता है। 

चंद्रग्रहण (Chandra Grahan) के समय नुकीली चीजें का प्रयोग न करें

ग्रहण के दौरान गर्भवती स्त्रियों को किसी भी नुकीली चीज का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए जैसे चाकू, कैंची, सूई आदि। शास्त्रों में यह भी कहा जाता है कि न सिर्फ गर्भवती महिलाएं बल्कि उनके पति भी इस समय इन चीजों का इस्तेमाल करने से बचें। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से उसके शिशु के अंगों को हानि पहुंच सकती है। 

ग्रहण के दौरान बना खाने से बचें

ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को इस समय बना कुछ भी खाना पीना नहीं चाहिए। कहा जाता है कि इस समय पड़ने वाली हानिकारक किरणें खाने को दूषित कर देती हैं। ऐसे में अगर घर पर खाना बना हो तो उसमें तुरंत तुलसी के पत्ते डाल दें। ग्रहण खत्म होने के बाद उन्हें निकाल दें। ऐसा करने से ग्रहण के बाद भी खाना शुद्ध रहता है।

woman

woman

नहाएं

मान्यता है कि ग्रहण खत्म होने के बाद गर्भवती महिला को जरूर नहा लेना चाहिए वरना उसके शिशु को त्वचा संबधी रोग लग सकते हैं। गर्हण के नकारात्मक प्रभाव से बचने के लिए गर्भवती महिला को तुलसी का पत्ता जीभ पर रखकर हनुमान चालीसा और दुर्गा स्तुति का पाठ करना चाहिए।(हिन्दू कैलेंडर के अनुसार जानिए जुलाई 2018 माह के व्रत और त्योहार)

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Religion News in Hindi के लिए क्लिक करें लाइफस्टाइल सेक्‍शन
Write a comment