1. You Are At:
  2. होम
  3. लाइफस्टाइल
  4. जीवन मंत्र
  5. नवरात्र: वार के अनुसार करें दुर्गा सप्तशती पाठ, खुल जाएंगे किस्मत के दरवाजें

नवरात्र: वार के अनुसार करें दुर्गा सप्तशती पाठ, खुल जाएंगे किस्मत के दरवाजें

शास्त्रों के अनुसार नवरात्र के दिनों में हर दिन सप्तशती पाठ का अपना अलग महत्व है, लेकिन यह जरुरी नही है कि सिर्फ नवरात्र के दिन सप्तशती का पाठ करने से आपको फल मिलता है। इसे आप किसी भी दिन कर सकते है। इसका फल भी आपको दिन के अनुसार ही मिलता है।

India TV Lifestyle Desk [Updated:30 Sep 2016, 7:38 PM IST]
navratri- India TV
navratri

धर्म डेस्क: हर साल की तरह इस बार भी 1 अक्टूबर से शारदीय नवरात्र शुरु हो गए है। जो कि 10 अक्टूबर तक चलेगें। इस बार के नवरात्र बहुत ही शुभ माने गए है। ज्योतिषचार्यों के अनुसार इस बार मां अम्बे हाथी में सवार होकर आई है जो बहुत ही शुभ संयोग है। साथ ही भैंसा में बैठकर विदा होगी। नवरात्रों में की लोग उपवास भी रहते है।

ये भी पढ़े-

मां दुर्गा को प्रसन्न और उनकी कृपा पाने के लिए बड़ी ही श्रृद्धा और विधि विधान से उनकी पूजा करते हैं। हम लोग नवरात्र में हर रोज दुर्गा सप्तशती का पाठ करते है। माना जाता है कि इस पाठ के बिना आपकी पूजा अधूरी है। शास्त्रों के अनुसार नवरात्र के दिनों में हर दिन सप्तशती पाठ का अपना अलग महत्व है, लेकिन यह जरुरी नही है कि सिर्फ नवरात्र के दिन सप्तशती का पाठ करने से आपको फल मिलता है। इसे आप किसी भी दिन कर सकते है। इसका फल भी आपको दिन के अनुसार ही मिलता है।

मां दुर्गा का ध्यान कोई भी इंसान सच्चे मन से बिना किसी फल की इच्छा रखें हुए करता है, तो उसके ऊपर मां की कृपा जरुर होती है। मां अपने भक्तों में बहुत ही जल्द प्रसन्न होती है। बिना किसी भेद-भाव के। दुर्गा सप्तशती का पाठ वार के अनुसार करने से दिन के अनुसार फल मिलता है। दुर्गा सप्तशती का पाठ शुभ की प्राप्ति, अनिष्ट का नाश एवं सुख- समृद्ध‍ि प्राप्त करने के लिए किया जाता है। मां दुर्गा की आराधना के लिए विशेष रूप से इसका पाठ किया जाता है। जानिए किस दिन इस पाठ को करने से कितना फल मिलेगा।

अगली स्लाइड में पढ़े वार के अनुसार पाठ करने के बारें में

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Religion News in Hindi के लिए क्लिक करें लाइफस्टाइल सेक्‍शन
Web Title: Know importance of durga saprashati path
Write a comment