1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. लाइफस्टाइल
  4. जीवन मंत्र
  5. प्रदोष व्रत और रवि योग एक साथ, राशिनुसार करें ये उपाय तो होगी हर मुराद पूरी

प्रदोष व्रत और रवि योग एक साथ, राशिनुसार करें ये उपाय तो होगी हर मुराद पूरी

आज के दिन प्रदोष व्रत और रवि योग के संयोग से किस राशि वालों को क्या उपाय करने चाहिए और उस उपाय को करने का सही वक्त क्या होगा। जानिए

India TV Lifestyle Desk India TV Lifestyle Desk
Updated on: November 30, 2017 17:26 IST
horoscope- India TV
horoscope

धर्म डेस्क: आज सुबह 07 बजकर 13 मिनट पर ही द्वादशी तिथि के समाप्त हो जाने के कारण मार्गशीर्ष मास के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि आज ही है। हर माह के दोनों पक्षों की त्रयोदशी को प्रदोष व्रत किया जाता है। प्रदोष व्रत के साथ ही आज दोपहर 02 बजकर 28 मिनट से सारे काम बनाने वाला रवि योग भी शुरू होगा, जो कि कल दोपहर 12 बजकर 07 मिनट तक रहेगा और त्रयोदशी तिथि कल सुबह 04 बजकर 30 मिनट तक रहेगी।

आज के दिन प्रदोष व्रत और रवि योग के संयोग से किस राशि वालों को क्या उपाय करने चाहिए और उस उपाय को करने का सही वक्त क्या होगा। जानिए

मेष राशि

आपकी जन्मपत्रिका में इस समय सूर्य आठवें, चन्द्रमा पहले और मंगल सातवें स्थान पर है। इस स्थिति के शुभ परिणाम प्राप्त करने के लिए  आसन बिछाकर, उस पर बैठकर 'ऊँ नमः शिवाय' मंत्र का एक माला जाप करना चाहिए। एक माला में 108 दाने होते हैं।

ध्यान रहे मंत्र जाप करते समय आपका मुख पश्चिम दिशा की ओर होना चाहिए। इस मंत्र का जाप किस समय करना है। समय बहुत इम्पोर्टेन्ट है, तो नोट कर लीजिये। इस मंत्र का जाप शाम 06:15 से शाम 06:45 के बीच कभी भी कर सकते हैं।

वृष राशि
आपकी जन्मपत्रिका में इस समय सूर्य सातवें, चन्द्रमा बारहवें और मंगल छठे स्थान पर है। ग्रहों की इस स्थिति में अच्छे फल पाने के लिए गंगाजल, दूध, दही, शहद, और घी मिलाकर पंचामृत बनाएं और इस पचांमृत का भगवान को भोग लगाने के बाद परिवार के सब सदस्यों में बांट दें।

पंचामृत बनाने के लिये आपकी राशि की स्थिति के अनुसार सही समय होगा- शाम 06:30 से 06:55 तक। इस समय के बीच ही आपको पंचामृत बनाना है और उसका भोग भगवान शंकर को लगाना है। भगवान को भोग लगाने के बाद पंचामृत सबमें बांटने के लिये चाहें तो आप शाम 6:55 के बाद का समय इस्तेमाल कर सकते हैं।

मिथुन राशि
आपकी जन्मपत्रिका में इस समय सूर्यदेव छठे, चन्द्रमा ग्यारहवें और मंगल पांचवें स्थान पर है। इस स्थिति के शुभ फलों को सुनिश्चित करने के लिये दूध में एक चुटकी काले तिल मिलाकर भगवान शिव के मन्दिर में जायें और शिवलिंग पर उस दूध से अभिषेक करें।

यहां ध्यान रखें कि अभिषेक करते समय एक बार में पूरा दूध नहीं चढ़ाना है। दूध को थोड़ा-थोड़ा करके पांच बार में शिवलिंग पर चढ़ाना है। इससे आपका स्वास्थ्य भी अच्छा रहेगा। इस उपाय के लिये आपकी राशि की स्थिति के अनुसार सही समय होगा- दोपहर 02:28 से दोपहर 03:10 तक।

कर्क राशि
वालों आपकी जन्मपत्रिका में इस समय सूर्यदेव पांचवे, चन्द्रमा दसवें और मंगल चौथे स्थान पर है। इस स्थिति के शुभ परिणाम पाने के लिए  5 बेला के फूल लेकर साफ पानी से धोकर शिवजी के मन्दिर में जाकर चढ़ाएं। आपके जीवन की खुशहाली बढ़ेगी।

बेला के फूल लाने के लिये आपकी राशि की स्थिति के अनुसार सही समय होगा- शाम 04 बजकर 05 मिनट से शाम 04:35 तक। बेला के फूल लाने के बाद शाम 05 बजे तक आप किसी भी मंदिर में  शिवजी को फूल अर्पित कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें:

अगली स्लाइड में पढ़ें और राशियों के बारें में

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Religion News in Hindi के लिए क्लिक करें लाइफस्टाइल सेक्‍शन
Write a comment