1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. लाइफस्टाइल
  4. हेल्थ
  5. World Asthma Day 2019: दिखें ये संकेत तो न करें इग्नोर हो सकता है अस्थमा, ऐसे करें खुद का बचाव

World Asthma Day 2019: दिखें ये संकेत तो न करें इग्नोर हो सकता है अस्थमा, ऐसे करें खुद का बचाव

World Asthma Day 2019: अस्‍थमा फेफड़ों की एक बीमारी है जिसके कारण सांस लेने में कठिनाई होती है। जानें अस्थमा के लक्षण, कारण और उपाय।

India TV Lifestyle Desk India TV Lifestyle Desk
Published on: May 07, 2019 13:25 IST
World Asthma day- India TV
World Asthma day

World Asthma Day 2019: अस्‍थमा फेफड़ों की एक बीमारी है जिसके कारण सांस लेने में कठिनाई होती है। अस्थमा होने पर श्वास नलियों में सूजन आ जाती है जिस कारण श्वसन मार्ग सिकुड़ जाता है। आपको यह बात जानकर हैरानी होगी कि महिलाओं की तुलना में पुरुषों को ये बीमारी सबसे ज्यादा होती है। जिसका सबसे बड़ा कारण धूल रेस्पिरेटरी है। जानिए क्या है ये बीमारी, कारण, लक्षण के बारें में।

क्या है अस्थमा?

यह एक फेफड़ों की बीमारी है। जिसमें सांस लेने में समस्या होती है। इसका कारण है श्वास नलियों में सूजन हो जाना। जिसके कारण श्वसन मार्ग सिकुड़ जाता है। जिसके कारण मरीज को सांस लेने में समस्या, सांस लेते समय आवाज आना, खांसी आदि प्रॉब्लम होती है।

ये भी पढ़े- World Asthma Day: प्रेग्नेंसी के समय अस्थमा का खतरा सबसे अधिक, ऐसे बरतें सावधानी

अस्थमा के टाइप
अस्थमा लक्षणों के आधार पर 2 तरह का होता है। आंतरिक और बाहरी अस्थमा।

आंतरिक अस्थमा
आंतरिक अस्थमा कुछ रासायनिक तत्वों को श्‍वसन द्वारा शरीर में प्रवेश होने से होता है जैसे कि सिगरेट का धुआं, पेंट वेपर्स आदि।

बाहरी अस्थमा
बाहरी अस्थमा बाहरी एलर्जन के प्रति एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया है, जो कि पराग, जानवरों, धूल जैसे बाहरी एलर्जिक चीजों के कारण होता है।

ये भी पढ़ें- अक्सर कमर, कूल्हे में रहता है दर्द तो आप इस बड़ी बीमारी के हैं शिकार

World Asthma day

World Asthma day

अस्थमा होने का कारण

  • वाहनों से निकलने वाला धुआं
  • सर्दी
  • फ्लू
  • पेट पर अधिक अम्ल की मात्रा
  • शराब का अधिक सेवन
  • एलर्जी वाले फूड्स का सेवन
  • अधिक एक्सरसाइज
  • मौसम के कारण

अस्थमा के लक्षण

  • ठंडी हवा में सांस लेने से हालत गंभीर होना।  
  • एक्सरसाइज अधिक करने से
  • कई बार उल्टी होना।    
  • बलगम वाली खांसी या सूखी खांसी।   
  • सीने में जकड़न जैसा महसूस होना।  
  • सांस लेने में समस्या।
  • सांस लेते समय आवाज आना।

ऐसे करें खुद का बचाव

वैसे तो अस्थमा का कोई इलाज नहीं है, लेकिन इसे नियंत्रित किया जा सकता है। किसी प्रकार के लक्षण महसूस होने पर तुरन्त सम्पर्क करें। अस्थमा को नियंत्रित करने में दवा का नियमित सेवन जरूरी है। इसके अलावा इंहेलर थेरेपी सही ढंग से लेना भी जरूरी है। अस्थमा के लिए इंहेलर्स सबसे अच्छी दवा है। इंहेलर्स से दवा सीधे फेफड़ों में पहुंचती है, जिससे पीड़ित को आराम महसूस होता है। यह सीरप के मुकाबले ज्यादा फायदेमंद है। 

आम चुनाव से जुड़ी ताजा खबरों, लोकसभा चुनाव 2019 की खबरों, चुनावों से जुड़े लाइव अपडेट्स और चुनाव परिणामों के लिए https://hindi.indiatvnews.com/elections पर बने रहें। इसके साथ ही हमें फेसबुक और ट्विटर पर लाइक करके या #ElectionsWithIndiaTV हैशटैग का इस्तेमाल करके 543 लोकसभा सीटें और विधानसभा चुनावों से जुड़े ताजा परिणाम पाएं। आप #ResultsWithRajatSharma हैशटैग का इस्तेमाल करके इंडिया टीवी के चेयरमैन एवं एडिटर-इन-चीफ रजत शर्मा के साथ 23 मई को चुनाव परिणामों की पल-पल की जानकारी हासिल कर सकते हैं।
Write a comment
india-tv-counting-day-contest
modi-on-india-tv