1. You Are At:
  2. होम
  3. लाइफस्टाइल
  4. हेल्थ
  5. शोधकर्ताओं ने पीठ-दर्द की किस्मों का पता लगाया

शोधकर्ताओं ने पीठ-दर्द की किस्मों का पता लगाया

शोधकर्ताओं ने पीठ के दर्द और काम करने में असमर्थता के संबंध में मरीज के लक्षणों का लंबे समय तक अध्ययन किया है और पता लगाया है कि दर्द कितने तरह के होते हैं। 

Written by: India TV Entertainment Desk [Published on:14 Jan 2019, 8:42 AM IST]
Health- India TV
Health

टोरंटो: शोधकर्ताओं ने पीठ के दर्द और काम करने में असमर्थता के संबंध में मरीज के लक्षणों का लंबे समय तक अध्ययन किया है और पता लगाया है कि दर्द कितने तरह के होते हैं। इस दौरान उन्होंने विभिन्न लक्षणों के संबंध में दवाइयों (नशीली दवाइयों सहित) और स्वास्थ्य देखभाल के प्रभाव की पहचान की।

दुनिया में लोगों को सबसे ज्यादा बार होने वाली बीमारी पीठ का दर्द है। कनाडा के टोरंटो स्थित अध्ययन के लिए यूनिवर्सिटी हेल्थ नेटवर्क के क्रेंबिल रिसर्च इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं ने 16 वर्षो तक 12,782 लोगों को शामिल किया। यह निष्कर्ष बीमारी के साथ होने वाली सह-बीमारी, दर्द, असमर्थता, अफीम से बनी दवाई या अन्य दवाई के उपयोग और हेल्थकेयर विजिट के कारकों से प्राप्त हुआ।

प्राप्त परिणामों के अनुसार, लगभग आधे (45.6 फीसदी) लोगों ने कम से कम एक बार पीठ में दर्द की शिकायत की। अध्ययन में दर्द के चार समूह बनाए गए- परसिस्टेंट (18 फीसदी), डेवलपिंग (28.1 फीसदी), रिकवरी (20.5 फीसदी) और अकेजनल (33.4 फीसदी)।

आथ्र्राइटिस केयर एंड रिसर्च में प्रकाशित इस अध्ययन के अनुसार, परसिस्टेंट और डेवलपिंग प्रकार के दर्द से पीड़ित लोगों को रिकवरी और अकेजनल प्रकार के दर्द से पीड़ित लोगों से ज्यादा दर्द और असमर्थता होती है तथा वे ज्यादा हेल्थकेयर विजिट और दवाइयों का उपयोग करते हैं।

Also Read:

Uri: The Surgical Strike Box Office Collection Day 2: दूसरे दिन विक्की कौशल की फिल्म ने पकड़ी रफ्तार, जानें कमाई

राट कोहली के साथ ऐसे क्वालिटी टाइम बिता रही हैं अनुष्का शर्मा, देखें Photos

लिप सर्जरी के बाद सारा खान की बिगड़ी सूरत तो फैंस ने कर डाले भद्दे-भद्दे कमेंट्स

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Health News in Hindi के लिए क्लिक करें लाइफस्टाइल सेक्‍शन
Web Title: शोधकर्ताओं ने पीठ-दर्द की किस्मों का पता लगाया types of back pain
Write a comment