1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. लाइफस्टाइल
  4. हेल्थ
  5. कार्डियक अरेस्ट से सुषमा स्वराज का निधन, जानें हार्ट अटैक और कार्डियक अरेस्ट में अंतर और लक्षण

कार्डियक अरेस्ट से सुषमा स्वराज का निधन, जानें हार्ट अटैक और कार्डियक अरेस्ट में अंतर और लक्षण

पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का मंगलवार रात एम्स में निधन हो गया। डॉक्टर्स ने बताया कि उनकी मौत कार्डियक अरेस्ट के कारण हुई है। जानें इस बीमारी के बारे में सबकुछ।

shivani singh shivani singh
Updated on: August 20, 2019 6:07 IST
Sushma swaraj- India TV
Sushma swaraj

पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का मंगलवार रात यहां एम्स में निधन हो गया। वह 67 साल की थीं। सुषमा को दिल का दौरा पड़ने के बाद एम्स में भर्ती कराया गया था, लेकिन कुछ ही देर बार उनका निधन हो गया। डॉक्टर्स ने बताया कि उनकी मौत कार्डियक अरेस्ट के कारण हुई है।

सुषमा पिछले काफी समय से बीमार चल रही थीं।  जिसके कारण ही उन्होंने लोकसभा चुनाव 2019 लड़ने से मना कर दिया था। सूत्रों की माने तो उन्हें हार्ट अटैक आने के बाद एम्स लाया गया था।

आपको बता दें कि साल 2016 में किडनी फेल होने के बाद एम्स में भर्ती किया गया था। जहां पर डायलिलिस पर रखा गया था। लेकिन ट्रीटमेंट के बाद उनकी हालत में सुधार आ गया था। जिसके बाद भी पॉलिटिक्स में वह कम सक्रिय थीं।

सुषमा स्वराज 1998 में बनी थीं दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री, जानें उनके बारे में कुछ महत्वपूर्ण बातें

क्या है कार्डियक अरेस्ट?

कार्डियक अरेस्ट तब होता है, जब दिल के अंदर  वेंट्रीकुलर फाइब्रिलेशन पैदा हो। यानी कि इसमें दिल के भीतर विभिन्न हिस्सों के बीच सूचनाओं का आदान-प्रदान में थोड़ी गड़बड़ी हो जाती है, जिसकी वजह से दिल की धड़कन पर बुरा असर पड़ता है। जिसके कारण हार्ट रेट को नियमित करने के लिए कार्डियोपल्मोनरी रेसस्टिसेशन (CPR) दिया जाता है।  इस प्रक्रिया में डिफाइब्रिलेटर के जरिए बिजली के झटके दिए जाते हैं। जिससे दिल की धड़कनों को वापस लाने में मदद मिलती है। कार्डियक अरेस्ट होने की सबसे ज्यादा आशंका दिल की बीमारी वालों को होती है।

BJP की कद्दावर नेता सुषमा स्वराज के निधन पर PM मोदी से लेकर राहुल गांधी ने जताया दुख, जानें किसने क्या कहा

differnce between heart attack and cardiac arrest

differnce between heart attack and cardiac arrest

हार्ट अटैक और कार्डियक अरेस्ट में अंतर
कई सारे लोग इन दोनों को एक समझते हैं पर ये अलग-अलग हैं। हार्ट अटैक के दौरान हृदय के कुछ हिस्सों में खून का बहाव जम जाता है जिस वजह से हार्ट अटैक होता है। वहीं दूसरी तरफ कार्डियक अटैक में किन्हीं कारणों से हृदय उचित तरीके से काम करना बंद कर देता है और अचानक से रुक जाता है।

पिंक चाय पीने के लिए कश्मीर जाने की जरूरत नहीं, घर पर ही बनाएं टेस्टी-हेल्दी कश्मीरी चाय

कार्डियक अरेस्ट के लक्षण

  • हृदय का धकधकाना
  • थकान का एहसास होना
  • सांसों का छोटा होना
  • चक्कर आना
  • कर्डियक अरेस्ट के दौरान रोगी अपनी चेतना अचानक खो बैठता है। वह कोई प्रतिक्रिया भी शारीरिक रूप से नहीं देता है। उसकी सांस भी अचानक रुक जाती है।
  • नब्ज ठहर जाती है।

दरअसल कार्डियक अरेस्ट में दिल धड़कना बंद कर देता है इसलिए नाड़ी गिरने लगती है। धीरे-धीरे शरीर के तमाम अंगों तक ब्‍लड पहुंचना बंद हो जाता है और इससे मरीज की मौत हो जाती है।

कार्डियक अरेस्ट के कारण

  • सुषमा स्वराज को करीब 20 सालों से डायबिटीज की समस्या थीं। जिसके कारण उनकी किडनी भी खराब हुई थीं। इन्हीं परिस्थितियों के कारण उन्हें कार्डियक अरेस्ट हुआ।
  • स्मोकिंग
  • कोलेस्ट्राल का बढ़ना
  • रोजाना एक्सरसाइज, व्यायाम न करना।
  • हाई ब्लडप्रेशर और हाइपरटेंशन

jayalalitha reema lagoo

jayalalitha reema lagoo 

इन दिग्गजों की मौत का कारण बना कार्डियक अरेस्ट
आपको बता दें कि कार्डियक अरेस्ट के कारण ही बॉलीवुड अभिनेत्री श्रीदेवी के अलावा रीमा लागू और साउथ की एक्ट्रेस और तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता की भी निधन हो गया था।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Health News in Hindi के लिए क्लिक करें लाइफस्टाइल सेक्‍शन
Write a comment