1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. लाइफस्टाइल
  4. हेल्थ
  5. ये है कैंसर के सबसे खतरनाक संकेत, पुरुष भूलकर भी न करें इन्हें इग्नोर

ये है कैंसर के सबसे खतरनाक संकेत, पुरुष भूलकर भी न करें इन्हें इग्नोर

अक्सर ये देखा जाता है कि पुरुष कुछ लक्षणों को गंभीरता से नहीं लेते है। वह उसे मामूली बीमारी समझ कर इग्नोर कर देते है। जिसका बाद में ये रिजल्ट निकलता है कि वह लाइलाज बीमारी बन जाती है। जानिए कुछ ऐसे लक्षणों के बारें में..

shivani singh shivani singh
Updated on: June 27, 2018 8:57 IST
Cancer- India TV
Cancer

हेल्थ डेस्क: आज के समय में कोई भी बीमारी बता कर नहीं आती है, लेकिन हमारा शरीर कुछ संकेत देने लगता है जिससे आप जान सकते है कि आपको कौन सी बीमारी हुई है। जिससे आप समय रहते इस समस्या से निजात पा सके। खासकर कैंसर की बात करें तो इसके संकेतों को नजरअंदाज करना आपके लिए भारी पड़ सकता है।

अक्सर ये देखा जाता है कि पुरुष कुछ लक्षणों को गंभीरता से नहीं लेते है। वह उसे मामूली बीमारी समझ कर इग्नोर कर देते है। जिसका बाद में ये रिजल्ट निकलता है कि वह लाइलाज बीमारी बन जाती है। जानिए कुछ ऐसे लक्षणों के बारें में जिससे आप आसानी से जान सकते है कि आपको कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी तो नहीं है।   

एक अनुमान के मुताबिक पुरुषों में कैंसर से होने वाली मृत्यु में 31 प्रतिशत फेफड़े के कैंसर, 10 प्रतिशत प्रोस्टेट, 8 प्रतिशत कोलोरेक्टल, 6 प्रतिशत पैंक्रिएटिक और 4 प्रतिशत लिवर कैंसर से होती हैं। इसलिए इसके शुरूआती लक्षणों को नजरअंदाज न करें। जानिए किन संकेतो से आप पडटान सकते है कि आपको कैंसर है।

मलाशय में खून आना

अगर आपके मलाशय से खून आ रहा है तो यह कोलेन कैंसर हो सकता है। पहले यह कैंसर 50 साल की उम्र के बाद होता था, लेकिन आज की खराब लाइफस्टाइल के कारण किसी भी उम्र में हो सकता है।

आंत संबंधी समस्या
आंत में लागातर कोई न कोई समस्या रहती है, समझ लें कि यह कैंसर का शुरुआती लक्षण है। इसके कारण आपको पेट में दर्द या फिर गैस की समस्या हो सकती है।

यूरीन में बदलाव
अगर यूरीन पास करते समय आपको उसमें खून दिखता है तो समझ लें कि ये प्रोस्टेट कैंसर अथवा डिम्बग्रंथि कैंसर के लक्षण हो सकते हैं। कई बार यूरीन असंयम की समस्‍या हो जाती है, तो यह भी कैंसर होने का एक कारण हो सकता है।

टेस्टिक्लस में बदलाव
टेस्टिक्लस का बदलना, टेस्टिकुलर कैंसर संकेत हो सकता है। अगर आपके टेस्टिकल्‍स का आकार बढ़ रहा है तो इसे नजरअंदाज न करें। टेस्टिकुलर कैंसर ज्‍यादातर 20 से 39 साल की उम्र में होता है।

थकान लगना
बेवजह लगातार थका-थका महसूस करना कैंसर का शुरुआती लक्षण है। कैंसर की शिकायत होने पर मरीज बिना वजह थका-थका महसूस करता है। कभी-कभी तो वह हाथ पांव से काम करने लायक भी नहीं रहता।

स्किन में बदलाव
स्किन में असामान्य रूप से परिवर्तन होना कैंसर कैंसर का शुरुआती लक्षण हो सकता है। अगर किसी व्यक्ति की त्वचा बेवजह सांवली या काली पड़ने लगी हो तो यह कैंसर का संकेत हो सकता है। त्वचा का पीला पड़ना भी कैंसर का शुरुआती लक्षण हो सकता है।

अधिक लक्षणों के जानने के लिए देखें वीडियो...

 

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Health News in Hindi के लिए क्लिक करें लाइफस्टाइल सेक्‍शन
Write a comment
budget-2019