1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. लाइफस्टाइल
  4. हेल्थ
  5. ज्यादा सोना और कम सोना दोनों आपके दिल को बना सकता है कमजोर!

ज्यादा सोना और कम सोना दोनों आपके दिल को बना सकता है कमजोर!

"हृदय एक मोटर है जो 24 घंटे, सप्ताह में 7 दिन, और डाउन टाइम की आवश्यकता होती है, ठीक उसी तरह जैसे कार का इंजन जो 24/7 चलता है, तो जल जाता है।''

India TV Lifestyle Desk India TV Lifestyle Desk
Published on: September 04, 2019 7:51 IST
ज्यादा सोना और कम...- India TV
ज्यादा सोना और कम सोना दोनों आपके दिल को बना सकता है कमजोर!

लाइफस्टाइल डेस्क: पूरी नींद लेना बहुत जरूरी है ये बात हम सभी जानते हैं लेकिन ज्यादातर हम ऐसा करते नहीं हैं, वीकडेज पर कम सोना और वीकेंड पर ज्यादा सोना हमारी आदत बन चुकी है, लेकिन ऐसा करना आप बंद कर दीजिए क्योंकि स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने माना है कि जरूरत से कम या ज्यादा नींद लेने पर दिल से संबंधी बीमारियां हो सकती हैं। हर रात 8 घंटे की नींद लेना परफेक्ट माना जाता है। अगर आप ऐसा करेंगे तो आपका इम्युनिटी सिस्टम, एथलेटिक प्रदर्शन और मानसिक स्वास्थ्य अच्छा रहेगा। 

कोलोराडो विश्वविद्यालय के नए शोध से बोल्डर ने पाया कि बहुत कम - या बहुत अधिक नींद दिल के दौरे के जोखिम को बढ़ा सकती है, भले ही आप स्वस्थ हों। अमेरिकन कॉलेज ऑफ कार्डियोलॉजी के जर्नल ने माना है कि अगर आपके घर में हृदय रोग अनुवांशिक है तब भी आप हर रात 6-9 घंटे की नींद लेकर दिल के दौरे के जोखिम को कम कर सकते हैं। शोधकर्ताओं ने बताया कि यह आज तक का सबसे मजबूत शोध है कि नींद की अवधि हृदय स्वास्थ्य के संबंध में एक महत्वपूर्ण कारक है। “अगर कोई अपनी जीवन शैली को अनुकूलित करना चाहता है, तो हमारा डेटा सुझाव देता है कि हमें यह भी दृढ़ता से विचार करना चाहिए कि क्या वे पर्याप्त नींद ले रहे हैं, क्योंकि हमारे निष्कर्ष में ये निकला है कि आपकी जीवनशैली ही आपके हार्ट अटैक का कारण बन रही है। 

नींद से टल सकता है हार्ट अटैक का खतरा 

शोधकर्ताओं ने यूके बायोबैंक के 461,000 से अधिक लोगों के मेडिकल रिकॉर्ड का मूल्यांकन किया। रोगियों की उम्र 40 से 69 वर्ष के बीच थी और उन्हें कभी दिल का दौरा नहीं पड़ा। शोध दल ने उन रोगियों की तुलना की जो रात में 6 से 9 घंटे सोते थे, जो रात में 6 घंटे से कम और 9 से अधिक सोते थे। जिन लोगों को कम नींद आई, उनमें दिल का दौरा पड़ने की संभावना 20 प्रतिशत अधिक थी और जो लोग 9 घंटे से अधिक सोते थे, उन्हें दिल का दौरा पड़ने की संभावना 34 प्रतिशत अधिक थी। शोधकर्ताओं ने प्रतिभागियों के आनुवंशिक प्रोफाइल को बेहतर ढंग से समझने के लिए देखा कि नींद ने दिल का दौरा पड़ने के उनके जोखिम को कैसे प्रभावित किया। उन्होंने पाया कि दिल की बीमारी के लिए आनुवंशिक प्रवृत्ति वाले लोगों को दिल का दौरा पड़ने का खतरा लगभग 18 प्रतिशत कम हो जाता है अगर वे 6 से 9 घंटे के बीच सोते हैं।

नींद दिल के दौरे के लिए एक आनुवंशिक जोखिम वाले लोगों की रक्षा कर सकती है। नींद से दिल के दौरे का खतरा कम होता है, इस तरह नींद हमारे संपूर्ण स्वास्थ्य और कल्याण के लिए महत्वपूर्ण है। स्वस्थ नींद की आदतों को आपकी मनोदशा अच्छी रहती है, आप जल्दी सीखते हैं और आपकी याद्दाश्त भी अच्छी होती है। दूसरी ओर, खराब नींद शरीर पर कहर बरपा सकती है - और बदले में आपके दिल का चैन छीन सकती है।

“पर्याप्त नींद नहीं लेने से पाचन संबंधी असामान्यताएं (जैसे मोटापा), सूजन, तनाव, ब्लड प्रेशर आदि असामान्य हो सकता है। येल मेडिसिन के एक स्लीप एक्सपर्ट और पल्मोनोलॉजिस्ट डॉ. मीर क्रिगर कहते हैं, "पर्याप्त नींद ना लेने से हार्ट अटैक के शिकार लोगों में हार्ट अटैक आने का खतरा और बढ़ सकता है।"

यह हृदय रोग के लिए आनुवंशिक प्रवृत्ति वाले किसी व्यक्ति के लिए अत्यंत उपयोगी जानकारी हो सकती है क्योंकि वे नींद को प्राथमिकता देकर अपने दिल के दौरे के जोखिम को काफी कम कर सकते हैं।

कैसे लें पर्याप्त नींद?

कुछ लोग चिंता या अनिद्रा के से जूझ रहे होते हैं, जबकि अन्य को बुढ़ापे में पर्याप्त नींद ना आने की शिकायत होती है। कुछ मां-बाप नवजात शिशुओं की वजह से पूरी नींद नहीं ले पाते हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार, सामान्य तौर पर, अल्पकालिक नींद के मुद्दों ने बहुत नुकसान नहीं पहुंचाया। हालांकि, पुरानी, ​​लगातार नींद की गड़बड़ी गंभीर स्वास्थ्य मुद्दों और मौजूदा स्वास्थ्य समस्याओं को बढ़ा सकती है, विशेष रूप से हृदय से संबंधित। बेशक, हर किसी की नींद अलग-अलग होती है। जहां एक व्यक्ति को केवल 6 घंटे की नींद की आवश्यकता हो सकती है, दूसरे को रात में लगभग 9 घंटे की आवश्यकता हो सकती है। जो लोग नियमित रूप से नींद के साथ संघर्ष करते हैं, उन्हें नींद विशेषज्ञ से बात करनी चाहिए। वे आपको यह समझने में मदद कर सकते हैं कि नींद की समस्या कहाँ से आ रही है और संभावित उपचार सुझाएंगे। उदाहरण के लिए, थेरेपी अनिद्रा को कम करने में मदद कर सकती है। इसके अलावा, कभी-कभी जीवन शैली और कुछ व्यवहारों का समय - जैसे कि कैफीन, भोजन, और शराब के सेवन के आदि भी नींद में खलल पैदा कर सकता है। इन सब चीजों पर आप काबू पा लेंगे तो आपको अच्छी नींद आएगी। इसके अलावा जब आप सोना चाहते हैं उसके एक घंटे पहले से अपना मोबाइल खुद से दूर कर लें। कई स्वास्थ्य विशेषज्ञ एक नींद की डायरी रखने की सलाह देते हैं जिसमें एक व्यक्ति अपने दैनिक नींद पैटर्न में प्रवेश करता है। वे किसी भी आदतों या कारकों की पहचान करने में मदद कर सकते हैं।

Related Video
India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Health News in Hindi के लिए क्लिक करें लाइफस्टाइल सेक्‍शन
Write a comment