1. You Are At:
  2. होम
  3. लाइफस्टाइल
  4. हेल्थ
  5. प्रेग्नेंसी के समय केमिकल रसायन के संपर्क में आने से हो सकती है बच्चों को फेफड़े संबंधी बीमारी

प्रेग्नेंसी के समय केमिकल रसायन के संपर्क में आने से हो सकती है बच्चों को फेफड़े संबंधी बीमारी

र्भवती महिलाओं के जहरीले रसायन के संपर्क में आने से उनके बच्चों के फेफेड़े में परेशानी हो सकती है। यह बात हाल ही में द लांसेट जर्नल में प्रकाशित एक रिपोर्ट से उजागर हुई है।

Written by: India TV Lifestyle Desk [Published on:06 Feb 2019, 9:08 PM IST]
Baby- India TV
Baby

हेल्थ डेस्क:  गर्भवती महिलाओं के जहरीले रसायन के संपर्क में आने से उनके बच्चों के फेफेड़े में परेशानी हो सकती है। यह बात हाल ही में द लांसेट जर्नल में प्रकाशित एक रिपोर्ट से उजागर हुई है। स्पेन के ग्लोबल हेल्थ इंस्टीट्यूट के शोधकर्ता अपने शोध के दौरान माता-शिशु के 1,033 जोड़ों से प्राप्त तथ्यों का परीक्षण करने के बाद इस नतीजे पर पहुंचे कि बच्चों के जन्म से पहले पैराबेंस फ्थेलेट्स और परफ्लुओरोअल्काइल सब्सटैंस (पीएफएएस) के संपर्क और बच्चों के फेफड़े के ठीक से काम न करने के बीच संबंध है।

घरेलू उत्पादों और खाद्य पदार्थो की पैकेजिंग में पीएफएएस पाए जाते हैं। भोजन और पानी के जरिए जीवों द्वारा पीएफएएस अवशोषित किया जा सकता है और नाभि के माध्यम से अजन्मे बच्चों तक जा सकता है।

विश्वविद्यालय के शोधकर्ता प्रोफेसर मार्टिन वृझीड ने कहा, "इन तथ्यों का जन-स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण निहितार्थ है। रोकथाम के उपायों से रासायनिक पदार्थो के संपर्क से बचा जा सकता है। इसके अलावा सख्त विनियमन और जन-जागरूकता के लिए उपभोक्ता वस्तुओं पर लेबल लगाने से बचपन में फेफेड़े खराब होने से रोकने में मदद मिल सकती है और लंबे समय में स्वास्थ्य में इसका लाभ मिल सकता है।"

शाम के वक्त सिर में होने वाले दर्द से परेशान हैं तो घर में करें ये उपाय, तुरंत दिखेगा फायदा

ये ड्राई फ्रूट्स वजन घटाने में करता है मदद, जानिए कैसे

खुलासा: बच्चे इंटरनेट पर क्या देख रहे हैं, इसकी निगरानी करना है जरूरी

इंडिया टीवी 'फ्री टू एयर' न्यूज चैनल है, चैनल देखने के लिए आपको पैसे नहीं देने होंगे, यदि आप इसे मुफ्त में नहीं देख पा रहे हैं तो अपने सर्विस प्रोवाइडर से संपर्क करें।
Write a comment
pulwama-attack
australia-tour-of-india-2019