1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. लाइफस्टाइल
  4. फैशन और सौंदर्य
  5. टीवी से निकलने वाली नीली लाइट औरतों की स्किन कर रही है खराब, घर पर लगाए ये खास क्रीम

टीवी से निकलने वाली नीली लाइट औरतों की स्किन कर रही है खराब, घर पर लगाए ये खास क्रीम

आपने अक्सर पढ़ा होगा कि बाहर निकलते वक्त सनस्क्रीन का इस्तेमाल चेहरे या स्किन पर जरूर करें लेकिन आपको यह बात जानकर हैरानी होगी कि सिर्फ बाहर निकलते वक्त ही नहीं बल्कि घर में रहते हुए भी अपने स्किन पर सनस्क्रीन का इस्तेमाल जरूर करें।

India TV Lifestyle Desk India TV Lifestyle Desk
Updated on: May 24, 2019 14:20 IST
fashion- India TV
fashion

नई दिल्ली: आपने अक्सर पढ़ा होगा कि बाहर निकलते वक्त सनस्क्रीन का इस्तेमाल चेहरे या स्किन पर जरूर करें लेकिन आपको यह बात जानकर हैरानी होगी कि सिर्फ बाहर निकलते वक्त ही नहीं बल्कि घर में रहते हुए भी अपने स्किन पर सनस्क्रीन का इस्तेमाल जरूर करें। कई रिसर्च में यह बात सामने आई है कि बेडरूम या घर में हम ज्यादा से ज्यादा टेकनॉलोजी का इस्तेमाल करते हैं इस दौरान हमें सन्सक्रीन का इस्तेमाल करना चाहिए। कई एक्सपर्ट का मानना है कि घर में ज्यादा टेकनॉलोजी का इस्तेमाल करते हैं और वह आपके स्किन के लिए हानिकारक होता है ऐसे में अगर आप घर में सनस्क्रीन का इस्तेमाल करते हैं तो आप मशीन या फोन से निकलने वाले UVA रे से बचे रहेंगे।

यह सभी को पता है कि सनस्क्रीन सूरज की हानिकारक पराबैंगनी किरणों से हमारी त्वचा की रक्षा करती है इसलिए घर से बाहर कदम रखने से पहले इसे स्किन पर लगाना चाहिए। हालांकि विशेषज्ञों का यह भी कहना है कि घर के अंदर रहने के दौरान भी चेहरे पर सनस्क्रीन लगाना बहुत जरूरी है।

आज के जमाने में हम तमाम डिवाइसों से घिरे हुए हैं। घर में रहने के दौरान भी हम सोते या बैठते वक्त लैपटॉप, मोबाइल फोन, टैबलेट का उपयोग करते हैं और इनसे निकलने वाली हानिकारक विकिरणों का दुष्प्रभाव हमारी त्वचा पर पड़ती है।

त्वचा विशेषज्ञ रश्मि शर्मा ने एक बयान में कहा, "डिजिटल पर बढ़ती निर्भरता ने हमारी त्वचा को सबसे ज्यादा हानिकारक इन नीली किरणों से अवगत कराया है। हालांकि उपभोक्ता सूरज की हानिकारक पराबैंगनी किरणों से खुद को बचाने के लिए एहतियाती उपायों से अच्छी तरह से वाकिफ हैं, लेकिन इन नीली विकिरणों का त्वचा पर हानिकारक प्रभावों के बारे में वे अभी भी अंजान हैं और इससे सुरक्षा के उपाय भी उपलब्ध हैं।"

उन्होंने कहा, "रिपोर्ट्स के मुताबिक, इन दृश्यमान नीले विकिरणों से त्वचा की सुरक्षा बहुत जरूरी है क्योंकि इससे समय से पहले चेहरे पर बढ़ती उम्र के प्रभाव को देखा जा सकता है और इसके साथ ही झुर्रियां, स्किन ढीली पड़ जाना और हाइपरपिगमेंटेशन की समस्या का सामना भी करना पड़ सकता है। इस नीली रोशनी को हाई-एनर्जी विजिबल लाइट्स के नाम से जाना जाता है जो पराबैंगनी किरणों की तुलना में त्वचा की गहराई में प्रवेश करने की क्षमता रखती है जिससे स्किन को नुकसान पहुंचती है।"

इससे स्पष्ट है कि घर से बाहर हो या घर के अंदर, दोनों ही स्थिति में स्किन की देखभाल आवश्यक है।

रश्मि ने आगे सुझाव दिया, "इस दुष्प्रभाव को कुछ हद तक सीमित रखने के लिए अपने डिजिटल उपकरणों पर ब्लू लाइट्स शील्ड का उपयोग सुनिश्चित करें और घर के अंदर रहने के दौरान भी चेहरे पर सनस्क्रीन लगाए।" ऑर्गेनिक हार्वेस्ट के अनुसंधान और विकास विशेषज्ञ धर्मा राजपूत ने कहा कि कैयोलिन क्ले और एलोवेरा युक्त सनस्क्रीन का उपयोग अपनी त्वचा की देखभाल के लिए करें जो त्वचा से गंदगी को दूर कर आपको 24/7 सुरक्षा प्रदान करती है।

उन्होंने यह भी कहा, "यूवीए और यूवीबी किरणों से त्वचा की सुरक्षा के लिए एक फुल टेबल स्पून ऑर्गेनिक सनस्क्रीन का उपयोग करें और घर में रहने के दौरान भी हर दो या तीन घंटे में चेहरे को साफ कर इसे दोबारा से अप्लाई करें।"

ये भी पढ़ें:

कांस में सोनम और रिया कपूर के फैशन सेंस को लेकर हुआ अनिल कपूर को गर्व, लिखा भावुक पोस्ट

Cannes 2019: कांस फिल्म फेस्टिवल में अपनी टाइट ड्रेस के कारण बेहोश हुई ये एक्ट्रेस

टैटू बनवाने के बाद इस संकेतो को न करें इंग्नोर, हो सकता है इंफेक्शन साथ ही जानें बचाव

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Fashion and beauty tips News in Hindi के लिए क्लिक करें लाइफस्टाइल सेक्‍शन
Write a comment
yoga-day-2019