1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. जॉब्‍स-एजुकेशन
  4. न्‍यूज
  5. उत्तराखंड: प्राथमिक विद्यालय के पाठ्यक्रम में शामिल हुई गढ़वाली भाषा

उत्तराखंड: प्राथमिक विद्यालय के पाठ्यक्रम में शामिल हुई गढ़वाली भाषा

उत्तराखंड सरकार ने पौड़ी क्षेत्र में स्थित प्राथमिक विद्यालय में गढ़वाली भाषा को अनिवार्य विषय बनाने का फैसला किया है।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Published on: July 24, 2019 16:59 IST
uttarakhand news- India TV
uttarakhand news

Uttarakhand: मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, उत्तराखंड सरकार ने पौड़ी क्षेत्र में स्थित प्राथमिक विद्यालय में गढ़वाली भाषा को अनिवार्य विषय बनाने का फैसला किया है। निर्णय के अनुसार, उत्तराखंड सरकार ने राज्य के पौड़ी क्षेत्र में कक्षा 1 से 5 तक के छात्रों के लिए गढ़वाली को अनिवार्य विषय बनाया है। आधिकारिक निर्देश के अनुसार, उत्तराखंड के पौड़ी जिले में स्थित 80 से अधिक प्राथमिक विद्यालयों में निर्णय लागू होने की उम्मीद है।

गढ़वाली को अनिवार्य विषय बनाने के फैसले का उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भी स्वागत किया है। इस पर टिप्पणी करते हुए उन्होंने कहा कि इस कदम से बच्चों को इस क्षेत्र और इसकी सांस्कृतिक विरासत के बारे में बेहतर समझ विकसित करने में मदद मिलेगी। ब्रिटेन के राज्य शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने भी पहल पर विश्वास व्यक्त किया है। उन्हें उम्मीद है कि "किताबें पर्यावरण और संस्कृति के साथ-साथ बच्चों को भी जागरूक करने में मदद करेंगी।"

फैसले की घोषणा करते हुए, पौड़ी के जिला मजिस्ट्रेट धीरज सिंह गबरियाल ने कहा, "हमने सोमवार को ही पाठ्यक्रम शुरू कर दिया है।" उन्होंने यह भी कहा कि गढ़वाली भाषा को देवनागरी लिपि में पढ़ाया जाएगा, जिससे छात्रों के लिए इसका पालन करना आसान हो जाएगा।

पाठ्यक्रम की दृष्टि से, कक्षा 1 से 5 तक के प्राथमिक छात्रों के लिए 5 पुस्तकें अर्थात् 'धगुली,' 'हंसुली,' 'छुटकी,' 'पझबी' और 'झुमकी' को सीखने की प्रक्रिया के भाग के रूप में निर्धारित किया गया है। किताबें गढ़वाल क्षेत्र के ऐतिहासिक महत्व पर आधारित हैं और इसमें वीर चंद्र सिंह गढ़वाली पर एक अध्याय भी शामिल है, जिसे स्वतंत्रता संग्राम के दौरान 'पेशावर कांड' का नायक कहा जाता है। फैसले के बाद, निजी प्रकाशक द्वारा प्रकाशित की जाने वाली पुस्तकें सरकार द्वारा छात्रों को मुफ्त में उपलब्ध कराई जाएंगी, यह बात पौड़ी के जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी केएस रावत ने कही।

विकास पर टिप्पणी करते हुए, गढ़वाली भाषा विशेषज्ञ गणेश खुगशाल ने कहा, "" सालों से हम गढ़वाली भाषा के लिए एक पाठ्यक्रम बनाने के लिए बहुत प्रयास करते हैं। इस प्रयास के माध्यम से हमने स्थानीय इतिहास, भोजन, संस्कृति और अन्य चीजों को पेश किया है। ”

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। News News in Hindi के लिए क्लिक करें जॉब्‍स-एजुकेशन सेक्‍शन
Write a comment