1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राजनीति
  5. बिहार में बच्चे मर रहे, तेजस्वी कहां घूम रहे? RJD नेता बोले-शायद वर्ल्डकप देखने गए

बिहार में बच्चे मर रहे, तेजस्वी कहां घूम रहे? RJD नेता बोले-शायद वर्ल्डकप देखने गए

तेजस्वी यादव लोकसभा चुनाव में करारी शिकस्त के बाद सार्वजनिक जीवन से 'गायब' हो गए हैं। तेजस्वी यादव को 28 मई को अंतिम बार हार के कारणों की समीक्षा के लिए अपनी मां राबड़ी देवी के आवास पर आयोजित बैठक में देखा गया था।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: June 19, 2019 18:58 IST
बिहार में बच्चे मर रहे, तेजस्वी कहां घूम रहे? RJD नेता बोले-शायद वर्ल्डकप देखने गए- India TV
बिहार में बच्चे मर रहे, तेजस्वी कहां घूम रहे? RJD नेता बोले-शायद वर्ल्डकप देखने गए

नई दिल्ली: बिहार में चमकी पर मचे घमासान के बीच राष्ट्रीय जनता दल के नेता और पूर्व उप-मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव पर भी सवाल उठने लगे हैं। आरजेडी के सीनियर लीडर रघुवंश प्रसाद सिंह ने तेजस्वी पर तंज कसते हुए कहा कि उन्हें नहीं पता तेजस्वी कहां हैं। हो सकता है वो वर्ल्ड कप देखने गए हों।

Related Stories

बुधवार को रघुवंश प्रसाद सिंह से पत्रकारों ने सवाल पूछा कि क्या सरकार के साथ विपक्ष की संवेदना मर गई है? अभी तक विपक्ष के नेता का बयान क्यों नहीं आया? इसका जवाब देते हुए रघुवंश प्रसाद सिंह ने कहा कि अब मुझे पता नहीं है कि वह (तेजस्वी) यहां हैं या नहीं, लेकिन हम अनुमान लगाते हैं कि वर्ल्डकप चल रहा है तो वह (तेजस्वी) वहीं गए होंगे। हम अनुमान लगाते हैं, कोई जानकारी नहीं है।

बता दें कि जेल में बंद राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के उत्‍तराधिकारी कहे जाने वाले उनके छोटे बेटे तेजस्‍वी यादव लोकसभा चुनाव में करारी शिकस्‍त के बाद सार्वजनिक जीवन से 'गायब' हो गए हैं। तेजस्‍वी यादव को 28 मई को अंतिम बार हार के कारणों की समीक्षा के लिए अपनी मां राबड़ी देवी के आवास पर आयोजित बैठक में देखा गया था।

इस बीच मुजफ्फरपुर में चमकी से अबतक 112 बच्चों की मौत हो चुकी है। कल रात से आज सुबह तक चमकी से तीन बच्चों की मौत हो गई। केंद्रीय मंत्री से लेकर मुख्यमंत्री तक ने अस्पताल का दौरा किया है लेकिन ना मरीजों के लिए कुछ खास हुआ और ना ही अस्पताल के लिए। सौ से ज्यादा बच्चों की मौत होने के बावजूद अस्पताल के अंदर के हालात बेहद खराब हैं। 

इंडिया टीवी संवाददाता जब वार्ड में पहुंचे तो वहां डॉक्टरों की जबरदस्त कमी नजर आई। हालत इतनी बुरी थी कि रोशनी नाम की एक मासूम बच्ची के परिजन उसे खुद ही ऑक्सीजन लगाने को मजबूर नजर आए। हैरान करने वाली बात ये थी कि इस परिजन को ये भी नहीं पता था कि मरीज को ऑक्सीजन की जरूरत है भी या नहीं।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Politics News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Write a comment
budget-2019