1. You Are At:
  2. होम
  3. भारत
  4. राजनीति
  5. ‘ये घर सामान्य वर्ग के लोगों का है, राजनीतिक पार्टियां वोट मांगकर शर्मिंदा न करें’

‘ये घर सामान्य वर्ग के लोगों का है, राजनीतिक पार्टियां वोट मांगकर शर्मिंदा न करें’

सवर्ण समाज के प्रदर्शन को देखते हुए एमपी सरकार अलर्ट है। ग्वालियर जिला प्रशासन ने हथियारों के सभी लाइसेंस 11 सितंबर तक के लिए निलंबित कर दिए हैं। इसके अलावा शिवपुरी में धारा 144 लगाई गई है।

Written by: IndiaTV Hindi Desk [Published on:04 Sep 2018, 10:51 AM IST]
‘ये घर सामान्य वर्ग के लोगों का है, राजनीतिक पार्टियां वोट मांगकर शर्मिंदा न करें’- India TV
‘ये घर सामान्य वर्ग के लोगों का है, राजनीतिक पार्टियां वोट मांगकर शर्मिंदा न करें’

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश में अगले कुछ महीनों में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले सियासत गरमा गई है। एससी-एसटी एक्ट में संशोधन के खिलाफ सवर्ण समाज के लोग आज ग्वालियर में रैली कर रहे हैं। सवर्ण समाज के लोग आज ग्वालियर में लक्ष्मीबाई समाधि के सामने सभा करेंगे और फिर रैली निकालकर कमिश्नर को ज्ञापन सौंपेंगे। खरगौन और विदिशा में भी सवर्ण समाज ने घरों के बाहर पोस्टर लगाए हैं और सड़कों पर प्रदर्शन किया। इन्होंने केंद्रीय मंत्रियों से लेकर एमपी कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ को भी काले झंडे दिखाए।

सवर्ण समाज के प्रदर्शन को देखते हुए एमपी सरकार अलर्ट है। ग्वालियर जिला प्रशासन ने हथियारों के सभी लाइसेंस 11 सितंबर तक के लिए निलंबित कर दिए हैं। इसके अलावा शिवपुरी में धारा 144 लगाई गई है। पिछले कुछ दिनों से खरगौन, विदिशा और छिंदवाड़ा में सामान्य, पिछड़ा वर्ग और अल्पसंख्यक समाज के लोगों ने अपने घरों के सामने नोटिस लगाए हैं।

लोगों ने अपने घरों के बाहर नोटिस में लिखा है कि ये घर सामान्य वर्ग के लोगों का है, राजनीतिक पार्टियां वोट मांगकर शर्मिंदा न करें। विदिशा में सामान्य वर्ग और ओबीसी के लोगों ने प्रोटेस्ट मार्च निकाला और केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर का घेराव किया। यहां पर सवर्ण और ओबीसी समाज के लोग केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर का भी घेराव कर चुके हैं।

इस मुद्दे पर कांग्रेस के नेताओं को भी विरोध का सामना करना पड़ रहा है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ कल मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के गढ़ विदिशा में थे। कमलनाथ विदिशा के गंजबासौदा में पब्लिक मीटिंग संबोधित करने पहुंचे। कमलनाथ का हेलीपैड से रैली ग्राउंड तक काफिले के साथ रोड से गए। इसी दौरान कुछ लोगों ने कमलनाथ को काले झंडे दिखाए।

इन लोगों ने कमलनाथ वापस जाओ के नारे लगाए और ज्ञापन सौंपा। कमलनाथ के गढ़ छिंदवाड़ा में लोगों ने अपने घरों और दुकानों के बाहर पोस्टर लगा रखे हैं। इन पोस्टर्स में लिखा है हमारा परिवार सामान्य वर्ग का परिवार है, हम एससी-एसटी संसोधन एक्ट का विरोध करते हैं।

वहीं सीधी जिले की चुरहट विधानसभा में रविवार रात को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के रथ पर कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा किए गए पथराव के विरोध में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने मंगलवार को प्रदेश व्यापी धरने का ऐलान किया है।

भाजपा के प्रदेश कार्यालय से जारी विज्ञप्ति के अनुसार, चुरहट विधानसभा क्षेत्र में मुख्यमंत्री की जनआशीर्वाद यात्रा के दौरान कांग्रेसियों द्वारा किए गए पथराव के विरोध में मंगलवार दोपहर तीन बजे प्रदेश के सभी जिलों में भाजपा कार्यकर्ता धरना देंगे। धरने के बाद भाजपा कार्यकर्ता राज्यपाल के नाम जिलाधिकारी को ज्ञापन देकर पथराव करने वाले कांग्रेसी नेताओं और उनके समर्थकों के विरुद्घ कठोर कानूनी कार्रवाई की मांग करेंगे।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Politics News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Web Title: ‘ये घर सामान्य वर्ग के लोगों का है, राजनीतिक पार्टियां वोट मांगकर शर्मिंदा न करें’ - Protests across Madhya Pradesh opposing SC/ST Act restoration
Write a comment