1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राजनीति
  5. विपक्षी एकता के बिखराव को कांग्रेस ने किया खारिज, कहा- मोदी को हटाने के लिए अलग-अलग राज्यों में करेंगे गठबंधन

विपक्षी एकता के बिखराव को कांग्रेस ने किया खारिज, कहा- मोदी को हटाने के लिए अलग-अलग राज्यों में करेंगे गठबंधन

कांग्रेस ने शनिवार को कहा कि विपक्षी दलों का मकसद नरेंद्र मोदी सरकार को हटाना है, इसलिए वे अपने मकसद हासिल करने के लिए अलग-अगल राज्यों में अपना गठबंधन बनाएंगे और विभिन्न दलों के बीच कोई अंतर्विरोध नहीं होगा।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: October 07, 2018 8:03 IST
Opposition alliances, Randeep Singh Surjewala, congress- India TV
Opposition alliances to be formed state by state: Randeep Singh Surjewala

कोलकाता: कांग्रेस ने शनिवार को कहा कि विपक्षी दलों का मकसद नरेंद्र मोदी सरकार को हटाना है, इसलिए वे अपने मकसद हासिल करने के लिए अलग-अगल राज्यों में अपना गठबंधन बनाएंगे और विभिन्न दलों के बीच कोई अंतर्विरोध नहीं होगा। कांग्रेस ने कहा कि मौजूदा सरकार अपने ही लोगों से जूझ रही है। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि अगर उन्हें गठबंधन बनाना होगा तो वे राज्यवार बनाएंगे। कुछ राज्य ऐसे हैं जहां कांग्रेस मजबूत है। कुछ राज्यों में शायद हमें गठबंधन की जरूरत ही नहीं है। लेकिन जिन राज्यों में कांग्रेस उतनी मजबूत नहीं है, वहां हमें सहायक की भूमिका निभानी होगी।

सुरजेवाला ने कहा कि आज देश और देशवासियों पर एक व्यक्ति और एक दल के हमले का खतरा बना हुआ है, जो देश की सत्ता पर काबिज हैं। सुरजेवाला ने कहा कि ऐसा पहली बार हुआ है, जब देश की जनता पर अपनी ही सरकार और प्रधानमंत्री द्वारा हमले का खतरा बना हुआ है। विपक्षी महागठबंधन की संभावना के संबंध में उन्होंने कहा कि प्रदेश की राजनीति में हमेशा विभिन्न राजनीतिक दलों के बीच प्रतिस्पर्धा रहती है। उन्होंने कहा कि इसमें कुछ भी गलत नहीं है। यह कहना कि यह एक ऐसा अंतर्निहित विरोधाभास है कि विपक्ष की पूरी ताकत इसके तले टूट जाएगी, शायद गलत होगा।

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि आज हमारे पास एक ऐसी सरकार है, जो अपने ही लोगों पर हमले कर रही है। जब कोई सरकार अपने ही लोगों पर हमले कर रही हो, तब विभिन्न राजनीतिक दलों की जिम्मेदारी बनती है कि वे अपने राजनीतिक अस्तित्व को बचाते हुए इस देश के लोकाचार की रक्षा के लिए साथ चलने एक वैचारिक मंच पर एकजुट हो जाएं। कभी-कभी यह चुनाव से पहले होगा या चुनाव के बाद। मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के नेता फौद हलीम ने हालांकि कहा कि विपक्षी दलों का एकजुटता ठोस वास्तविकताओं से रेखांकित होगी, क्योंकि केरल में वाम दल और कांग्रेस आमने-सामने हैं।

सुरजेवाला ने कहा कि लेकिन हतोत्साहित मत होइए। मोदी के सवाल पर हम विरोध त्याग देंगे, क्योंकि लोग उनसे उब चुके हैं। केंद्र सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए धर्मनिरपेक्ष ताकतें निश्चित तौर किसी ठोस समझ के आधार पर उभरेंगी। तृणमूल कांग्रेस सांसद काकोली घोष दस्तीदार ने कहा कि मोदी की अगुवाई में सरकार और इसके लोगों ने जो देश में आतंक और भय का माहौल पैदा किया है, वह उनकी पार्टी का बड़ा दुश्मन है। सुरजेवाला के दावे को खारिज करते हुए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता और असम के मंत्री हेमंत बिस्व सरमा ने कहा कि आगामी आम चुनाव में पूर्वोत्तर के राज्यों में चौंकाने वाले परिणाम आएंगे और भगवा दल बेहतर प्रदर्शन करेगा। सरमा ने कहा कि विपक्षी दलों में अंतर्विरोध के चलते भाजपा को 400 सीटों पर जीत मिल सकती है।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Politics News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Write a comment