1. You Are At:
  2. होम
  3. भारत
  4. राजनीति
  5. क्या ईरान से तेल नहीं खरीदने की अमेरिका की बात मानेंगे प्रधानमंत्री: कांग्रेस

क्या ईरान से तेल नहीं खरीदने की अमेरिका की बात मानेंगे प्रधानमंत्री: कांग्रेस

पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा, ‘‘ईरान भारत को कच्चे तेल का तीसरा सबसे बड़ा निर्यातक देश है। प्रधानमंत्री और पेट्रोलियम मंत्री देश को बताएं कि क्या वे ईरान से तेल आयात नहीं करने की अमेरिका की बात मानेंगे और पेट्रोल की कीमतों एवं राष्ट्रीय हितों पर इसका क्या असर होने वाला है?’’

Edited by: IndiaTV Hindi Desk [Published on:27 Jun 2018, 1:15 PM IST]
क्या ईरान से तेल नहीं खरीदने की अमेरिका की बात मानेंगे प्रधानमंत्री: कांग्रेस- India TV
क्या ईरान से तेल नहीं खरीदने की अमेरिका की बात मानेंगे प्रधानमंत्री: कांग्रेस

नयी दिल्ली: अमेरिका की ओर से दुनिया के सभी देशों से ईरान का तेल नहीं खरीदने के लिए कहे जाने के बाद कांग्रेस ने आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान से सवाल किया कि क्या वे अमेरिका की यह बात मानेंगे और इसका पेट्रोल की कीमतों एवं राष्ट्रीय हितों पर क्या प्रभाव पड़ेगा।

पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा, ‘‘ईरान भारत को कच्चे तेल का तीसरा सबसे बड़ा निर्यातक देश है। प्रधानमंत्री और पेट्रोलियम मंत्री देश को बताएं कि क्या वे ईरान से तेल आयात नहीं करने की अमेरिका की बात मानेंगे और पेट्रोल की कीमतों एवं राष्ट्रीय हितों पर इसका क्या असर होने वाला है?’’

अमेरिका ने कल दुनिया के देशों से कहा कि वे ईरान से कच्चे तेल का आयात चार नवंबर तक रोक दें। अमेरिका ने चेताया है कि यदि वे चार नवंबर तक ईरानी कच्चे तेल की खरीद बंद नहीं करते हैं तो उन्हें नए सिरे से अमेरिकी आर्थिक प्रतिबंधों का सामना करना पड़ेगा।

विदेश विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने दुनिया के देशों को आगाह किया, हम इस मामले में कोई छूट नहीं देंगे। अधिकारी ने कहा कि ईरान पर घेरा कसना हमारी शीर्ष राष्ट्रीय सुरक्षा प्राथमिकता है।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Politics News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Web Title: क्या ईरान से तेल नहीं खरीदने की अमेरिका की बात मानेंगे प्रधानमंत्री: कांग्रेस - Indo-Iran trade ties at a crossroads after US sanctions
Write a comment