1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राजनीति
  5. जनसंख्या पर गिरिराज सिंह का विवादित बयान, कहा- विभाजन की ओर बढ़ रहा देश

जनसंख्या पर गिरिराज सिंह का विवादित बयान, कहा- विभाजन की ओर बढ़ रहा देश

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने जनसंख्या नियंत्रण को लेकर विवादित बयान दिया है। गिरिराज ने कहा कि जनसंख्या नियंत्रण को लेकर देश सांस्कृतिक विभाजन की ओर बढ़ रहा है।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Published on: July 11, 2019 12:07 IST
जनसंख्या पर गिरिराज सिंह का विवादित बयान, कहा- विभाजन की ओर बढ़ रहा देश- India TV
Image Source : FILE जनसंख्या पर गिरिराज सिंह का विवादित बयान, कहा- विभाजन की ओर बढ़ रहा देश

नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने जनसंख्या नियंत्रण को लेकर विवादित बयान दिया है। गिरिराज ने कहा कि जनसंख्या नियंत्रण को लेकर देश सांस्कृतिक विभाजन की ओर बढ़ रहा है। उन्होंने इसपर कानून बनाने की मांग की। उन्होंने एक बार फिर जनसंख्या को धर्म से जोड़कर कहा कि जनसंख्या नियंत्रण पर धार्मिक व्यवधान भी एक वजह है।

Related Stories

गिरिराज सिंह ने अपने ट्वीट में लिखा, “हिंदुस्तान में जनसंख्या विस्फोट अर्थव्यवस्था, सामाजिक समरसता और संसाधन का संतुलन बिगाड़ रहा है। जनसंख्या नियंत्रण पर धार्मिक व्यवधान भी एक कारण है। हिंदुस्तान 1947 की तर्ज़ पर सांस्कृतिक विभाजन की ओर बढ़ रहा है। सभी राजनीतिक दलों को साथ होकर जनसंख्या नियंत्रण क़ानून के लिए आगे आना होगा।“

बता दें कि गिरिराज सिंह जनसंख्या वृद्धि पर इससे पहले भी ट्वीट कर चुके हैं। गिरिराज सिंह ने इससे पहले जनवरी के महीने में ट्वीट किया था, बढ़ती जनसंख्या और उसके अनुपात में घटते संसाधन को कैसे झेल पाएगा हिंदुस्तान?? जनसंख्या विस्फोट हर दृष्टिकोण से हिंदुस्तान के लिए खतरनाक।'

गौरतबल है क यूएन की एक रिपोर्ट में कहा गया था कि भारत 2027 में चीन को पीछे छोड़ कर सबसे अधिक जनसंख्या वाला देश बन जाएगा। इस रिपोर्ट के मुताबिक सदी के अंत तक दुनिया की आबादी करीब 11 अरब होगी। वर्तमान में भारत की जनसंख्या करीब 1.36 अरब और चीन की 1.42 अरब है। रिपोर्ट में संभावना जताई गई है कि 2050 तक भारत 164 करोड़ जनसंख्या के साथ टॉप पर पहुंच जाएगा।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Politics News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Write a comment