1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राजनीति
  5. जनता 2019 चुनाव के बाद नया प्रधानमंत्री चाहती है, BJP के पास कोई दूसरा चेहरा हो तो बताए: अखिलेश यादव

देश की जनता 2019 चुनाव के बाद नया प्रधानमंत्री चाहती है, भाजपा के पास कोई दूसरा चेहरा हो तो वह बताए: अखिलेश यादव

समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने विपक्षी दलों के गठबंधन के नेता के बारे में सवाल पूछ रही भाजपा पर तंज करते हुए आज कहा कि देश की जनता अगले चुनाव के बाद नया प्रधानमंत्री चाहती है और भाजपा के पास अगर इस पद के लिये कोई दूसरा चेहरा हो तो बताए।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: January 21, 2019 18:18 IST
Akhilesh Yadav- India TV
Akhilesh Yadav

लखनऊ: समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने विपक्षी दलों के गठबंधन के नेता के बारे में सवाल पूछ रही भाजपा पर तंज करते हुए आज कहा कि देश की जनता अगले चुनाव के बाद नया प्रधानमंत्री चाहती है और भाजपा के पास अगर इस पद के लिये कोई दूसरा चेहरा हो तो बताए। उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि वह प्रधानमंत्री पद की दौड़ में नहीं हैं। अखिलेश ने यहां प्रेस कांफ्रेंस में विपक्षी दलों के सम्भावित गठबंधन के नेता के बारे में भाजपा द्वारा प्रश्न उठाये जाने सम्बन्धी सवाल पर कहा ‘‘भारत का इतिहास बताता है कि नेतृत्व तो जनता खुद ही तय कर लेती है।’’ 

उन्होंने कहा कि आने वाले समय में आप देखेंगे कि हमारे पास कितने विकल्प हैं... लेकिन एक बात तो बिल्कुल सच है, और जनता स्वीकार कर रही है। जब परिणाम आएगा तो आप भी स्वीकार करेंगे कि देश नये प्रधानमंत्री का इंतजार कर रहा है। अगर भाजपा के पास कोई नया प्रधानमंत्री हो तो बताएं।‘‘सपा अध्यक्ष ने साफ किया कि वह प्रधानमंत्री पद की दौड़ में नहीं हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा ने 40 से ज्यादा पार्टियों के साथ गठबंधन किया है। (शनिवार को कोलकाता में तो) अभी 20-22 दल के नेता ही साथ नजर आये हैं। मुगलसराय से भाजपा विधायक साधना सिंह द्वारा गत शनिवार को बसपा मुखिया मायावती के प्रति अभद्र टिप्पणी किये जाने का जिक्र करते हुए अखिलेश ने कहा कि भाजपा नेताओं की यह भाषा उनकी हताशा का नतीजा है। चूंकि भाजपा ने अपने शासनकाल में कोई काम नहीं किया है, तो उसके नेता काम की बात कैसे करेंगे। अभी चुनाव आ रहा है तो और भी बातें होंगी। 

उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि सिर्फ निचले स्तर के कार्यकर्ता -नेता ही नहीं बल्कि सबसे ऊंची कुर्सी पर बैठे व्यक्ति की भी भाषा ऐसी ही है। वाराणसी में सोमवार से शुरू हुए ‘प्रवासी भारतीय दिवस’ आयोजन पर अखिलेश ने कहा कि जैसा कि पिछले कई वर्षों से इंतजार हो रहा है कि प्रवासी भारतीय यहां कुछ निवेश करेंगे। शायद कुम्भ को देखने और गंगा में स्नान करने के बाद उनका मन बदलेगा और उत्तर प्रदेश में बड़े पैमाने पर निवेश होगा। उन्होंने कहा कि हमने इन्वेस्टर्स समिट तो देखी। उसमें मंच पर बैठे लोग हर जगह मंच पर ही रहते हैं, लेकिन जरूरी नहीं है कि वे आपके यहां निवेश कर देंगे। निवेश कराने के लिये कुछ नीतियां चाहिये। कुछ फैसले और भरोसा चाहिये। भरोसा ‘ठोंको नीति‘ से तो आएगा नहीं। 

उन्होंने कहा,‘‘ मैं तो कहता है कि प्रवासी भारतीय काशी, कुम्भ होकर लौटते समय हमारे लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे पर भी निकल जाएं। तब वे आकलन करें कि कौन काम कर रहा है और कौन जनता को धोखा दे रहा है।’’ उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार द्वारा साधु-संतों को पेंशन दिये जाने की तैयारियों की खबरों पर अखिलेश ने कहा कि उन्हें कम से कम 20 हजार रुपये पेंशन मिलनी चाहिये। हम तो चाहते हैं कि समाजवादी पेंशन योजना और यश भारती पुरस्कार प्राप्त लोगों को मिलने वाली पेंशन फिर से शुरू की जाए। सपा प्रमुख ने एक अन्य सवाल पर कहा कि सपा और बसपा नेतृत्व ने गठबंधन के बाद सीट बंटवारे के मामले में उत्तर प्रदेश की बहुत सी सीटों पर निर्णय ले लिया है। इसका एलान भी जल्द होगा। जहां तक सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव का सवाल है तो वह जहां से चुनाव लड़ना चाहेंगे, सपा उन्हें वहां से लड़ाएगी।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Politics News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Write a comment