1. You Are At:
  2. होम
  3. भारत
  4. राजनीति
  5. केरल: धर्म की राजनीति हुई तेज, वाम संगठन के बाद कांग्रेसी संगठन भी मनाएगा ‘रामायण माह’

केरल: धर्म की राजनीति हुई तेज, वाम संगठन के बाद कांग्रेसी संगठन भी मनाएगा ‘रामायण माह’

केरल में हर साल मनाया जाने वाला ‘ रामायण माह ’ इस बार राजनीतिक रंग लेता दिख रहा है।

Edited by: IndiaTV Hindi Desk [Updated:13 Jul 2018, 8:50 PM IST]
चित्र का इस्तेमाल...- India TV
Image Source : PTI चित्र का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

तिरुवनंतपुरम: केरल में हर साल मनाया जाने वाला ‘ रामायण माह ’ इस बार राजनीतिक रंग लेता दिख रहा है। एक वाम समर्थक संगठन के बाद कांग्रेस से जुड़ा एक संगठन भी ‘ रामायण माह ’ के मद्देनजर कई कार्यक्रम आयोजित करने की तैयारी में है। केरल प्रदेश कांग्रेस कमेटी की सांस्कृतिक शाखा विचार विभाग ने आज ‘ रामायण परायण ’ और सेमिनारों सहित कई कार्यक्रमों के आयोजन की घोषणा की। मलयालम कैलेंडर के आखिरी महीने ‘ कर्ककिटकम ’ को केरल में हिंदू समुदाय ‘ रामायण माह ’ के तौर पर मनाता है। इस साल यह 17 जुलाई से शुरू हो रहा है। विचार विभाग के सूत्रों के मुताबिक , ‘ रामायणम नम्मूदेथनु , नदिंते ननमयनु ’ (रामायण हमारा है , यह समाज की अच्छाई है) के बैनर तले एक महीने लंबे कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रमेश चेन्नीथला 17 जुलाई को कार्यक्रमों का उद्घाटन करेंगे। 

सूत्रों ने बताया कि सुबह में ‘ रामायण परायणम ’ से कार्यक्रमों की शुरुआत होगी। पूर्व केंद्रीय मंत्री और तिरुवनंतपुरम से लोकसभा सांसद शशि थरूर ‘ रामायण हमारा है ’ विषय पर एक व्याख्यान देंगे। केरल प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने यह घोषणा ऐसे समय में की है जब वाम समर्थक विद्वानों , शिक्षाविदों एवं वामपंथ से सहानुभूति रखने वालों के संगठन ‘ संस्कृत संघ ’ ने ‘ रामायण माह ’ में पूरे राज्य में सेमिनारों के आयोजन की योजना का खुलासा किया था। ‘ संस्कृत संघ ’ के बारे में यह भी कहा गया कि वह सत्ताधारी माकपा से जुड़ा संगठन है। हालांकि , संघ और माकपा दोनों ने इस बात को खारिज किया। 

‘ संस्कृत संघ ’ के पदाधिकारियों ने मीडिया में आई इन खबरों को खारिज कर दिया कि ‘ संस्कृत संघ ’ सत्ताधारी माकपा की शाखा है। उन्होंने इस बात से इनकार किया कि वामपंथी पार्टी की ओर से ‘ रामायण माह ’ मनाए जाने की प्रक्रिया में यह सेमिनार आयोजित किए जा रहे हैं। माकपा के राज्य सचिव कोडियेरी बालाकृष्णन ने भी खबरों को खारिज करते हुए कहा था कि ‘ रामायण माह ’ मनाने की पार्टी की कोई योजना नहीं है। बहरहाल , कांग्रेस नेता चेन्नीथला ने आज कहा कि विभिन्न धर्मों के उत्सवों को मनाने की कांग्रेस की परंपरा रही है। विचार विभाग के जिला अध्यक्ष विनोद सेन ने कहा कि रामायण पर पूरे जिले में कई कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। 

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Politics News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Web Title: केरल: धर्म की राजनीति हुई तेज, वाम संगठन के बाद कांग्रेस भी मनाएगी ‘रामायण माह’ - after left supportive group congress supportive group will also celebrate ramayan month
Write a comment