1. You Are At:
  2. होम
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. धर्मग्रंथों पर ट्रेडमार्क अधिकार का दावा नहीं: SC

रामायण-कुरान जैसे नाम ट्रेडमार्क वस्तुओं पर नही लिख सकते: SC

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए कहा कि, रामायण या कुरान जैसे धर्मग्रंथों के नामों पर कोई भी व्यक्ति अपना दावा और उन्हें वस्तुओं व सेवाओं की बिक्री के लिए ट्रेडमार्क के तौर

India TV News Desk [Updated:26 Nov 2015, 2:49 PM IST]
धर्मग्रंथों पर...- India TV
धर्मग्रंथों पर ट्रेडमार्क अधिकार का दावा नहीं: SC

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए कहा कि, रामायण या कुरान जैसे धर्मग्रंथों के नामों पर कोई भी व्यक्ति अपना दावा और उन्हें वस्तुओं व सेवाओं की बिक्री के लिए ट्रेडमार्क के तौर पर इस्तेमाल नहीं कर सकता है। न्यायमूर्ति रंजन गोगोई और न्यायमूर्ति आर.के. अग्रवाल की पीठ ने कहा कि कुरान, बाइबिल, गुरू ग्रंथ साहिब, रामायण आदि जैसे कई पवित्र एवं धार्मिक ग्रंथ हैं। यदि कोई पूछे कि क्या कोई व्यक्ति वस्तुओं या सेवाओं की बिक्री के लिए किसी धर्मग्रंथ के नाम का ट्रेडमार्क के तौर पर इस्तेमाल कर सकता है तो इसका जवाब है ‘नहीं’।

पीठ ने यह भी कहा कि ईश्वर या धर्मग्रंथों के नाम का इस्तेमाल ट्रेडमार्क के तौर पर करने की अनुमति देने से लोगों की भावनाएं आहत हो सकती हैं।

क्या है मामला:

बिहार के लाल बाबू प्रियदर्शी ने ‘रामायण’ शब्द का ट्रेडमार्क अगरबत्ती व इत्र बेचने के लिए मांगा था। बौद्धिक संपदा अपीलीय बोर्ड ने अपीलकर्ता के खिलाफ आदेश दिया था जिसको उसने न्यायालय में चुनौती दी थी।

सुप्रीम कोर्ट ने अपने 16 पन्ने के फैसले में कहा कि रामायण शब्द महर्षि वाल्मिकी द्वारा लिखित एक ग्रंथ का नाम है और इसे हमारे देश में हिंदुओं का एक धार्मिक ग्रंथ माना जाता है। इसलिए किसी भी वस्तु के लिए रामायण शब्द का ट्रेडमार्क के तौर पर पंजीकरण कराने की अनुमति नहीं दी जा सकती है।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Web Title: रामायण-कुरान जैसे नाम ट्रेडमार्क वस्तुओं पर नही लिख सकते: SC
Write a comment