1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. पंचतत्व में विलीन हुईं दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित

पंचतत्व में विलीन हुईं दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित

तीन बार दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं और राजधानी को आधुनिक रूप देने वाली वरिष्ठ कांग्रेस नेता का दिल का दौरा पड़ने के बाद शनिवार दोपहर एक निजी अस्पताल में शनिवार दोपहर निधन हो गया था।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: July 21, 2019 16:32 IST
Sheila Dixit- India TV
Image Source : PTI Supporters hold a portrait of former Delhi chief minister Sheila Dikshit while paying their last respects to her at the AICC headquarters in New Delhi.

नई दिल्ली: दिल्ली की लगातार तीन बार मुख्यमंत्री रहीं और राष्ट्रीय राजधानी को आधुनिक शहर का स्वरूप देने वालों में शामिल शीला दीक्षित पंचत्तव में विलिन हो गई। रविवार को उनका अंतिम संस्कार किया गया। उनके अंतिम दर्शन के लिए वरिष्ठ नेताओं के साथ-साथ बड़ी संख्या में लोग पहुंचे थे।

शनिवार को शीला दीक्षित का दिल का दौरा पड़ने के बाद यहां एक निजी अस्पताल में शनिवार दोपहर निधन हो गया था। उनके पार्थिव शरीर को जब निजामुद्दीन स्थित उनके आवास से पार्टी मुख्यालय लाया गया तो उनकी आखिरी झलक पाने के लिए कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच धक्का मुक्की होने लगी। कांच के ताबूत में उनका पार्थिव शरीर लेकर आ रहा ट्रक सड़क पर धीरे-धीरे आगे बढ़ रहा था क्योंकि सड़क समर्थकों से भरी पड़ी थी जो ‘जब तक सूरज चांद रहेगा शीला जी का नाम रहेगा’ के नारे लगा रहे थे। 

दिग्गजों ने प्रकट किया शोक

शीला दीक्षित के निधन का सिर्फ उनके परिवार, कांग्रेस और समर्थकों को ही दुख नहीं है बल्कि राजनीति में उनका विरोध करने वालों को भी उनके निधन पर गहरा दुख है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस नेता राहुल गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल समेत कई अन्य नेताओं ने उनके निधन पर शोक प्रकट किया है।

15 साल रहीं दिल्ली की मुख्यमंत्री

शीला दीक्षित 1998 से 2013 के बीच 15 वर्षो तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं। राष्ट्रीय राजधानी में पार्टी को फिर से खड़ा करने के मकसद से उन्हें कुछ महीने पहले ही दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष बनाया गया था। उनका पार्थिव शरीर शनिवार शाम छह बजे से निजामुद्दीन स्थित उनके घर पर अंतिम दर्शन के लिए रखा गया है।

पंजाब में हुआ जन्म, दिल्ली में की पढ़ाई

शीला दीक्षित का जन्म 31 मार्च 1938 को पंजाब के कपूरथला में हुआ था। उन्होंने दिल्ली के कॉन्वेंट ऑफ जीसस एंड मैरी स्कूल से पढ़ाई की और फिर दिल्ली विश्वविद्यालय के मिरांडा हाउस कॉलेज से उच्च शिक्षा हासिल की। वह पहली बार साल 1984 में उत्तर प्रदेश के कन्नौज से सांसद चुनी गईं। बाद में वह दिल्ली की राजनीति में सक्रिय हुईं। शीला के बेटे संदीप दीक्षित भी राजनीति में हैं। वह पूर्वी दिल्ली लोकसभा सीट से 2004 से 2014 बीच दो बार सांसद रहे हैं । शीला दीक्षित ने हाल में उत्तर पूर्वी दिल्ली निर्वाचन क्षेत्र से लोकसभा का चुनाव लड़ा था लेकिन वह जीत नहीं पायी थीं। दिल्ली विधानसभा में उन्होंने नयी दिल्ली विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया था।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Write a comment