1. You Are At:
  2. होम
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. प्लास्टिक बैन: राज ठाकरे बोले- जुर्माना लगाकर चुनाव से पहले धन इकट्ठा कर रही है सरकार

प्लास्टिक बैन: राज ठाकरे बोले- जुर्माना लगाकर चुनाव से पहले धन इकट्ठा कर रही है सरकार

राज ठाकरे ने आज आरोप लगाया कि प्रदेश में प्लास्टिक पर रोक चुनाव से पहले धन इकट्ठा करने का एक तरीका है। उन्होंने इसे वापस लेने की मांग की। महाराष्ट्र में एक बार इस्तेमाल किए जाने वाले प्लास्टिक के सामान पर 23 जून से रोक प्रभावी हो गई है...

Reported by: Bhasha [Published on:26 Jun 2018, 8:34 PM IST]
plastic ban in maharashtra- India TV
plastic ban in maharashtra

मुंबई: महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे ने आज आरोप लगाया कि प्रदेश में प्लास्टिक पर रोक चुनाव से पहले धन इकट्ठा करने का एक तरीका है। उन्होंने इसे वापस लेने की मांग की। महाराष्ट्र में एक बार इस्तेमाल किए जाने वाले प्लास्टिक के सामान पर 23 जून से रोक प्रभावी हो गई है।

ठाकरे ने यहां संवाददाताओं से बात करते हुए तैयार खाने को पैक करने के लिए उपयोग की जाने वाली सामग्री सरीखे प्लास्टिक के कुछ सामान को प्रतिबंध से छूट देने पर भी आपत्ति जताई। उन्होंने कहा, ‘‘प्रतिबंध एक तरीका है जिससे चुनाव से पहले धन इकट्ठा करने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है। प्लास्टिक के कुछ सामान को रोक से क्यों छूट दी गई है जैसे तैयार खाने को पैक करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली सामग्री।

ठाकरे ने कहा, ‘‘मुख्यमंत्री मुद्दे पर खामोश हैं जो यह शक पैदा करने के लिए काफी है कि प्रतिबंध लागू करने का निर्णय एक विभाग ने लिया है या सरकार ने।’’ प्रतिबंध को पर्यावरण मंत्री रामदास कदम ने आगे बढ़ाया था जो शिवसेना के कोटे से मंत्री हैं।

प्लास्टिक पर लगी रोक को हटाने की मांग करते हुए मनसे प्रमुख ने कहा, ‘‘यह प्रतिबंध उपयुक्त नहीं है क्योंकि सभी तरह का प्लास्टिक नुकसानदेह नहीं है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘लगता है कि सरकार प्लास्टिक पर रोक लगाकर (जुर्माने के जरिए) धन इकट्ठा करना चाहती है। स्वच्छ भारत अभियान का इस्तेमाल लोगों पर सिर्फ कर लगाने के लिए किया गया।’’

इंडिया टीवी 'फ्री टू एयर' न्यूज चैनल है, चैनल देखने के लिए आपको पैसे नहीं देने होंगे, यदि आप इसे मुफ्त में नहीं देख पा रहे हैं तो अपने सर्विस प्रोवाइडर से संपर्क करें।
Write a comment
pulwama-attack
australia-tour-of-india-2019