1. You Are At:
  2. होम
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. हरिद्वार: जिंदा व्यक्ति को मुर्दाघर में भेजने पर एक अस्पताल को NHRC का नोटिस

हरिद्वार: जिंदा व्यक्ति को मुर्दाघर में भेजने पर एक अस्पताल को NHRC का नोटिस

12 जनवरी को रात करीब साढ़े ग्यारह बजे भेल अस्पताल में डॉक्टरों ने 44 वर्षीय एक मरीज को मृत घोषित कर दिया था। अगले दिन जब उसका पोस्टमार्टम किया गया तो पता चला कि...

Reported by: Bhasha [Published on:22 Jan 2018, 10:30 PM IST]
representative image- India TV
representative image

नई दिल्ली: राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (NHRC) ने हरिद्वार में एक व्यक्ति की वास्तविक मौत से आठ घंटे पहले ही उसे कथित रुप से मृत घोषित करने और उसे मुर्दाघर में भेजने पर उत्तराखंड में एक सरकारी अस्पताल को नोटिस जारी किया है।

मीडिया में 20 जनवरी को आई एक खबर का हवाला देते हुए आयोग ने कहा है कि 12 जनवरी को रात करीब साढ़े ग्यारह बजे भेल अस्पताल में डॉक्टरों ने 44 वर्षीय एक मरीज को मृत घोषित कर दिया था। अगले दिन जब उसका पोस्टमार्टम किया गया तो पता चला कि वह डाक्टरों द्वारा मृत घोषित किए जाने के आठ घंटे बाद तक जिंदा था। उसे 12 जनवरी को छाती में दर्द और बेहोश होने के बाद भेल अस्पताल में लाया गया था।

खबर का स्वत: संज्ञान लेते हुए एनएचआरसी ने भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (भेल) और हरिद्वार भेल अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक को नोटिस जारी कर उनसे छह हफ्ते में डॉक्टरों पर की गई कार्रवाई तथा पीड़ित परिवार को प्रदान की गई राहत पर रिपोर्ट मांगी है।

उसने एक एक बयान में कहा,‘‘संभव था कि यदि समय पर उपयुक्त इलाज किया गया होता तो उस व्यक्ति की जान बचाई जा सकती थी। बहुमूल्य मानव जीवन खो गया। डॉक्टरों की अमानवीय हरकत ने उस व्यक्ति के जीवन और स्वास्थ्य सुविधा के अधिकार का उल्लंघन किया।’’ खबरों के अनुसार संबंधित व्यक्ति भेल का कर्मचारी था।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Web Title: हरिद्वार: जिंदा व्यक्ति को मुर्दाघर में भेजने पर एक अस्पताल को NHRC का नोटिस
the-accidental-pm-360x70
Write a comment
the-accidental-pm-300x100