1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. चक्रवात 'वायु' की वजह से कैंसिल होने वाली रेलगाड़ियों की पूरी डिटेल, 5 एयरपोर्ट पर विमानों का संचालन भी बंद

चक्रवात 'वायु' की वजह से कैंसिल होने वाली रेलगाड़ियों की पूरी डिटेल, 5 एयरपोर्ट पर विमानों का संचालन भी बंद

कुछ ही घंटों बाद वायु चक्रवाती तूफान वायु गुजरात में समंदर के तट से टकराने वाला है। पहले से ही तबाही की भविष्यवाणी की जा चुकी है ऐसे में आज की रात गुजरात के लिए कयामत की रात होने वाली है।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: June 12, 2019 20:51 IST
Representational pic- India TV
Representational pic

नई दिल्ली/अहमदाबाद: कुछ ही घंटों बाद वायु चक्रवाती तूफान वायु गुजरात में समंदर के तट से टकराने वाला है। हवाएं तेज़ चलने लगी है, समंदर में लहरें उठने लगी है। पहले से ही तबाही की भविष्यवाणी की जा चुकी है ऐसे में आज की रात गुजरात के लिए कयामत की रात होने वाली है। इस बीच चक्रवात वायु की वजह से गुजरात के 5 शहरों में आज आधी रात से फ्लाइट ऑपरेशंस बंद कर दिया गया है। पोरबंदर, दीव, भावनगर, केशोद और कांडला हवाई अड्डों पर गुरुवार रात 12 बजे से शुक्रवार रात 12 बजे तक उड़ानों का परिचालन बंद रहेगा।

पश्चिम रेलवे ने वायु चक्रवात को देखते हुए कैंसिल हुई ट्रेनों की लिस्ट जारी की है। पश्चिम रेलवे ने बुधवार को यह जानकारी दी। उसने बताया कि इसके अलावा सुरक्षा के कई इंतजाम किए गए हैं। वेरावल, ओखा, पोरबंदर, भावनगर, भुज और गांधीधाम में यात्रियों की सुरक्षा के लिए कदम उठाए गए हैं।

गुजरात के तट पर गुरूवार की सुबह चक्रवात ‘वायु’ की आशंकाओं के बीच 1.6 लाख लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचा दिया गया है। अधिकारियों ने बुधवार को बताया कि सौराष्ट्र और कच्छ के निचले इलाकों से लोगों को निकाला गया है। इन क्षेत्रों के बंदरगाहों और हवाई अड्डों पर सुरक्षा की दृष्टि से कामकाज रोक दिया गया है।

मौसम की ताजा जानकारी के अनुसार यह चक्रवात अब ‘बेहद गंभीर’ की श्रेणी में आ गया है और यह अब दक्षिण के वेरावल से पश्चिम में द्वारिका तक कहीं भी गुरूवार दोपहर तक तट से टकरा सकता है। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। यह तूफान दक्षिण में 280 किलोमीटर दूर है और इसके उत्तर की तरफ बढ़ने की आशंका है। यह तूफान 155-160 से लेकर 180 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से द्वारिका और वेरावल के मध्य तट से टकरा सकता है।

तट पर पहुंचने के बाद चक्रवात के सौराष्ट्र एवं कच्छ के समांतर बढ़ने की आशंका जताई गई है। इसे देखते हुये राज्य के दस जिलों में अलर्ट घोषित कर दिया गया है। राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के 45 सदस्यों वाले राहत दल की करीब 52 टीमें गठित की गई हैं और सेना की दस टुकड़ियों को तैयार रखा गया है। इसके अलावा भारतीय नौसेना के युद्धपोतों और विमानों को भी तैयार रहने को कहा गया है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लोगों को सुरक्षित रहने के लिए स्थानीय एजेंसियों द्वारा मुहैया कराई जा रही जानकारी का अनुसरण करते रहने के लिए कहा है। प्रधानमंत्री ने एक ट्वीट में कहा है, ‘‘चक्रवात वायु से प्रभावित होने वाले सभी लोगों की सुरक्षा और हित के लिए प्रार्थना करता हूं। सरकार और स्थानीय एजेंसी जानकारी मुहैया करा रही हैं, जिसका मैं प्रभावित इलाकों में रहने वाले लोगों से अनुसरण करने का अनुरोध करता हूं।’’ केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मंगलवार को चक्रवात से निपटने की तैयारियों की समीक्षा की और अधिकारियों को लोगों की सुरक्षा के लिए हरसंभव कदम उठाने का निर्देश दिया।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Write a comment