1. You Are At:
  2. होम
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. कांस्टेबल से DGP: समझिए पुलिस महकमे का रैंकिंग सिस्टम

कांस्टेबल से DGP तक: ऐसे समझिए पुलिस महकमे का रैंकिंग सिस्टम

पुलिस महकमे में पद के हिसाब से तमाम सुख-सुविधाएं दी जाती हैं। मसलन गाड़ी, बंगला, सुरक्षा गार्ड और न जाने क्या क्या। कुछ सुविधाएं ऐसी होती है जिन्हें देख लोगों का मन करता है कि काश उनके पास भी ऐसी किस्मत होती।

PRAVEEN DWIVEDI [Updated:10 Dec 2015, 11:36 AM IST]

indian police

indian police

भारतीय पुलिस का रैंकिंग सिस्टम 

D.G.P=  पुलिस महानिदेशक

A.D.G.P= अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक 
I.G = पुलिस महानिरीक्षक (जोन का मुखिया)
D.I.G= पुलिस उपमहानिरीक्षक
S.S.P= वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (जिले का मुखिया) आमतौर पर यह पद बड़े शहरो में होता है
S.P = पुलिस अधीक्षक (जिले का मुखिया) छोटे शहरों में
A.S.P= सहायक पुलिस अधीक्षक

D.S.P= पुलिस उपाधीक्षक
S.H.O=थाना अधिकारी (थाना इंचार्ज) प्रमुखता से शहरों में

ग्रामीण क्षेत्रों में क्षेत्र निरीक्षक या क्षेत्राधिकारी होता है (ये 3 से 4 थानों को कवर करता है)
एसएचओ और क्षेत्राधिकारी दोनों पद में समान होते हैं- पुलिस इंस्पेक्टर

S.I = उप निरीक्षक
ASI = सहायक उप निरीक्षक

Constable = कांस्टेबल

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Web Title: कांस्टेबल से DGP तक: समझिए पुलिस महकमे का रैंकिंग सिस्टम
Write a comment