1. You Are At:
  2. होम
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. ये हैं आतंकियों के खिलाफ अदम्य साहस का परिचय देते हुए मातृभूमि के लिए शहीद होनेवाले जवान

ये हैं आतंकियों के खिलाफ अदम्य साहस का परिचय देते हुए मातृभूमि के लिए शहीद होनेवाले जवान

जम्मू-कश्मीर के विभिन्न इलाकों में आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में सेना के तीन जवान शहीद हो गए।

Written by: IndiaTV Hindi Desk [Updated:27 Oct 2018, 12:10 AM IST]
Martyr- India TV
Martyr

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के विभिन्न इलाकों में आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में सेना के तीन जवान शहीद हो गए। इन तीनों जवानों ने अद्मय साहस का परिचय दिया और जीवन के आखिरी क्षणों तक आतंकवादियों को का मुकाबला किया। तीनों जवानों का संक्षिप्त परिचय: 

शहीद लांस नायक ब्रजेश कुमार (32 साल) सोपोर में 26 अक्टूबर को आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ के दौरान स्पिलंटर इंजुरी के चलते शहीद हो गए। शहीद लांस नायक ने इस मुठभेड़ के दौरान दो आतंकवादियों को मार गिराया। हिमाचल के उना जिले के रहनेवाले ब्रजेश 2004 में सेना में नियुक्त हुए थे। वे अपने पीछ पत्नी और एक बेटी को छोड़ गए हैं। 

शहीद जवान नगम्सियालियाना (Sep Ngamsiamliana) ने ट्राल-पुलवामान के लुराग्राम में हुए आतंकी हमले के दौरान अदम्य वीरता का परिचय दिया। 23 साल के नगम्सियालियाना मिजोरम के कोलासिब स्थित रेंगतेकवान गांव के रहनेवाले थे। उन्होंने 2013 में सेना की नौकरी शुरू की थी। वे अपने पीछे माता-पिता को छोड़ गए। 

शहीद सैनिक राजेंद्र सिंह (22 साल) अनंतनाग में 25 अक्टूबर को हए पथराव में बुरी तरह घायल हो गए थे। उन्हें प्राथमिक उपचार उपलब्ध कराते हुए तुरंत श्रीनगर स्थित 92 बेस हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया जहां इलाज के दौरान उन्होंने दम तो़ड़ दिया। राजेंद्र सिंह उत्तराखंड के पिथौरागढञ स्थित बेदाना गांव के रहनेवाले थे। वे अपने पीछे अपने माता-पिता को छोड़ गए हैं। 

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Web Title: ये हैं आतंकियों के खिलाफ अदम्य साहस का परिचय देते हुए मातृभूमि के लिए शहीद होनेवाले जवान
Write a comment