1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. मसूद अजहर मामले पर कूटनीतिज्ञों ने बांधे प्रशंसा के पुल, साथ ही जताई यह आशंका

मसूद अजहर मामले पर कूटनीतिज्ञों ने बांधे प्रशंसा के पुल, साथ ही जताई यह आशंका

अजहर पर प्रतिबंध लगने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये, पूर्व विदेश सचिव सलमान हैदर ने कहा कि वह इसे एक ‘‘पक्ष में उठे बहुत बड़े कदम’’ के रूप में देखते हैं।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Published on: May 02, 2019 7:41 IST
मसूद अजहर मामले पर कूटनीतिज्ञों ने बांधे प्रशंसा के पुल, साथ ही जताई यह आशंका- India TV
Image Source : AP मसूद अजहर मामले पर कूटनीतिज्ञों ने बांधे प्रशंसा के पुल, साथ ही जताई यह आशंका

नयी दिल्ली: अच्छे दिन का नारा देने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर के बुरे दिन ला दिए। पहले पाकिस्तान में उसके आतंकी ठिकानों पर एयर स्ट्राइक किया और अब संयुक्त राष्ट्र से उसपर प्रतिबंध लगवा कर जहां एक ओर पाकिस्तान को बेपर्दा कर दिया वहीं जैश सरगना के मंसूबों पर पानी फेर दिया। खास बात ये रही कि 10 साल तक मसूद अजहर का बचाव करने वाले चीन ने भी अबकी बार सरेंडर कर दिया।

Related Stories

मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र के द्वारा वैश्विक आतंकवादी घोषित किए जाने पर भारतीय कूटनीतिज्ञों ने भी प्रशंसा की है पर साथ ही यह शंका भी प्रकट की है कि इससे क्या आतंकवाद को एक नीति के तौर पर अपनाने वाले पाकिस्तान पर उसे त्यागने का दबाव बनेगा।

भारत को उस समय बड़ी राजनयिक विजय हासिल हुई जब बुधवार को संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंध समिति ने अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित कर दिया। इससे पहले चीन ने उसे प्रतिबंधित करने वाले प्रस्ताव पर लगी रोक को हटा लिया।

अजहर पर प्रतिबंध लगने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये, पूर्व विदेश सचिव सलमान हैदर ने कहा कि वह इसे एक ‘‘पक्ष में उठे बहुत बड़े कदम’’ के रूप में देखते हैं। उन्होंने कहा कि भारत पिछले कुछ समय से इसकी कोशिश कर रहा था। चीन इसमें रोड़े अटका रहा था और भारत बार बार इसका प्रयास कर रहा था।

पाकिस्तान में भारत के पूर्व उच्चायुक्त गोपालस्वामी पार्थसारथी इसे ‘‘बहुत बड़ी सफलता’’ के रूप में देखते हैं। उन्होंने कहा, “इससे पाकिस्तान निश्चित रूप से अलग-थलग पड़ेगा। यह सवाल भी है कि क्या (पाकिस्तानी) सेना आतंकवाद का राजकीय नीति के एक तंत्र को तौर पर इस्तेमाल करना बंद करेगी।”

राजदूत विष्णु प्रकाश ने कहा है कि यह अच्छा कदम है लेकिन हमें बहुत खुश नहीं होना चाहिये क्योंकि वैश्विक आतंकवादी हाफिज सईद जैसे आतंकवादी खुले आम घूम रहे हैं। पुलवामा का गुनहगार फिलहाल पाकिस्तान के सेफहाउस में है। चीन ने चार बार आतंकी मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित नहीं होने दिया लेकिन आखिरकार मोदी की कोशिशें रंग लाई और अब मसूद पर शिकंजा कस चुका है।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Write a comment