1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. सीमा शुल्क बढ़ाये जाने से मार्च में पाकिस्तान से आयात 92 प्रतिशत घटा

सीमा शुल्क बढ़ाये जाने से मार्च में पाकिस्तान से आयात 92 प्रतिशत घटा

वाणिज्य मंत्रालय के आंकड़े के अनुसार पड़ोसी देश से आयात मार्च 2018 में 3.46 करोड़ डालर था। इस साल मार्च में कुल 2.84 लाख डालर में से 11.9 लाख डालर का कपास आयात किया गया। 

Bhasha Bhasha
Published on: June 09, 2019 16:40 IST
pakistan trade- India TV
Image Source : PTI (FILE)  मार्च में पाकिस्तान से आयात 92 प्रतिशत घटा

नई दिल्ली। पाकिस्तान से भारत में वाणिज्यक आयात इस साल मार्च में 92 प्रतिशत घटकर 28.4 लाख डालर का रहा। पुलवामा आतंकवादी हमले के बाद 200 प्रतिशत सीमा शुल्क लगाये जाने के बाद आयात में कमी आयी है। आतंकवादी हमले के बाद इस साल 16 फरवरी को पाकिस्तान के खिलाफ कड़ी आर्थिक कार्रवाई करते हुए भारत ने पड़ोसी देश से आयातित सभी वस्तुओं पर सीमा शुल्क बढ़ाकर 200 प्रतिशत कर दिया। इन वस्तुओं में कपास, ताजा फल, सीमेंट, पेट्रोलियम उत्पादन तथा खनिज शामिल हैं।

वाणिज्य मंत्रालय के आंकड़े के अनुसार पड़ोसी देश से आयात मार्च 2018 में 3.46 करोड़ डालर था। इस साल मार्च में कुल 2.84 लाख डालर में से 11.9 लाख डालर का कपास आयात किया गया। विशेषज्ञों के अनुसार कुछ घरेलू विनिर्माता निर्यातक पाकिस्तान से उत्पादों खासकर कच्चे माल के आयात के लिये अग्रिम अनुज्ञप्ति योजना (एडवांस आथोराइजेशन स्कीम) के तहत शून्य आयात शुल्क का लाभ ले सकते हैं।

पड़ोसी देश से आलोच्य महीने में मुख्य रूप से जो जिंस आयात किये गये, उसमें प्लास्टिक, बुने कपड़े, परिधान के सामाल, कपड़ा, मसाला, रसायन आदि शामिल हैं। वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान पाकिस्तान से आयात 47 प्रतिशत घटकर 5.36 करोड़ डालर रहा। भारत का निर्यात भी मार्च में करीब 32 प्रतिशत घटकर 17.13 करोड़ डालर रहा। 

हालांकि पूरे वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान निर्यात 7.4 प्रतिशत बढ़कर 2 अरब डालर रहा।

भारत से निर्यात किये जाने वाले जिंसों में जैविक रसायन, कपास, परमाणु रिएक्टर, बॉयलर, प्लास्टिक उत्पाद, अनाज, चीनी, कॉफी, चाय, लौह और स्टील के सामाल तथा तांबा आदि शामिल हैं। उल्लेखनीय है कि जम्मू कश्मीर के पुलवामा में 14 नवंबर 2018 को हुए आतंकवादी हमले में 40 सीआरपीएफ 40 जवान शहीद हो गये थे। 

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Write a comment