1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. CBSE का स्कूल परिसर में पुस्तकें, पोशाक नहीं बेचने का निर्देश

CBSE का स्कूल परिसर में पुस्तकें, पोशाक नहीं बेचने और NCERT पुस्तकें पढ़ाने का निर्देश

निजी प्रकाशकों की पुस्तकों की सामग्री को लेकर उठे विवाद के बीच केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड :सीबीएसई: ने स्कूलों से अपने परिसर में व्यावसायिक तरीके से पाठ्यपुस्तकें, नोटबुक और पोशाकों की बिक्री नहीं करने का निर्देश दिया है

Bhasha Bhasha
Updated on: June 02, 2017 19:12 IST
CBSE- India TV
CBSE

नयी दिल्ली: निजी प्रकाशकों की पुस्तकों की सामग्री को लेकर उठे विवाद के बीच केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड :सीबीएसई: ने स्कूलों से अपने परिसर में व्यावसायिक तरीके से पाठ्यपुस्तकें, नोटबुक और पोशाकों की बिक्री नहीं करने का निर्देश दिया है, साथ ही एनसीईआरटी : सीबीएसई की पाठ्यपुस्तकों का उपयोग करने को कहा है। सीबीएसई ने अपने परिपत्र में कहा है कि बोर्ड ने बार बार संबद्ध स्कूलों से कहा है कि पोशाक, पाठ्य पुस्तकों, नोटबुक, स्टेशनरी सामग्रियों आदि की ब्रिकी व्यावसायिक तरीके से नहीं करें और इस बारे में बोर्ड की संबद्धता के नियमों एवं प्रावधानों का पालन करें। बोर्ड ने कहा है कि, वह ऐसे कार्यो को गंभीरता से लेता है और स्कूलों से ऐसे हानिकारक कार्यो से दूर रहने का निर्देश देता है। (एक ऐसा हीरा जो जिसके पास गया वो हो गया बर्बाद!)

बोर्ड के उप सचिव :संबद्धता: के श्रीनिवास की ओर से जारी परिपत्र में कहा गया है कि अभिभावकों एवं कई पक्षकारों की ओर से विभिन्न शिकायतों के माध्यम से बोर्ड के संग्यान में यह बात आई है कि स्कूल इसके बाद भी व्यावसायिक तरीके से पुस्तकों, पोशकों आदि की बिक्री कर रहे हैं। स्कूल या तो स्कूल परिसर में इनकी बिक्री कर रहे हैं या कुछ चुनिंदा दुकानदारों के माध्यम से इनकी ब्रिकी करा रहे हैं।

बोर्ड ने कहा कि सीबीएसई की संबद्धता के नियम 19.1 में कहा गया है कि कंपनी अधिनियम 1956 की धारा 25 के तहत पंजीकृत सोसाइटी या ट्रस्ट या कंपनी को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि स्कूल का संचालन सामुदायिक सेवा के रूप में हो और कारोबार की तरह नहीं। स्कूलों में किसी भी रूप में व्यावसायिकता नहीं पनपे।

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने कहा है कि बोर्ड से संबद्ध सभी स्कूलों को 12 अप्रैल 2016 के उस परिपत्र का पालन करना चाहिए जिसमें एनसीईआरटी : सीबीएसई पाठ्यपुस्तकों का उपयोग करने को कहा गया है। सीबीएसई के परिपत्र में कहा गया है कि बोर्ड को अक्सर ऐसी रिपोर्ट या शिकायतें प्राप्त होती हैं कि स्कूल बच्चों और उनके अभिभावकों पर एनसीईआरटी : सीबीएसई पुस्तकों की बजाए दूसरे प्रकाशकों की पुस्तकें खरीदने का दबाव बनाते हैं। इसमें कहा गया है, बोर्ड ने ऐसे उल्लंघनों को गंभीरता से लिया है। ऐसे में इस बात पर फिर से ध्यान आकृष्ट किया जाता है कि शैक्षणिक संस्थान, व्यावसायिक प्रतिष्ठान नहीं है और इनका एकमात्र उद्देश्य गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करना है।

बोर्ड ने कहा कि स्कूलों को ऐसे अनुचित कार्यो से दूर रहने का निर्देश दिया जाता है जिसमें अभिभावकों पर स्कूल परिसर के भीतर या चुनिंदा दुकानदारों से पाठ्यपुस्तकें, नोटबुक, स्टेशनरी, पोशाक, जूते, बस्ते आदि खरीदने को कहा जाता है। सीबीएसई ने स्कूल प्रबंधन से इन निर्देशों का सख्ती से पालन करना सुनिश्चित करने को कहा है।

ये भी पढ़ें: कैलाश मानसरोवर यात्रा के लिए रिकॉर्ड आवेदन, जानिए कितना खर्च आता है इस यात्रा में

इस गांव में शादी से पहले संबंध बनाना है जरूरी, तभी होती है शादी!

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Write a comment