1. You Are At:
  2. होम
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. CVC के सामने दूसरी बार पेश हुए CBI निदेशक आलोक वर्मा, अस्थाना के आरोपों को नकारा

CVC के सामने दूसरी बार पेश हुए CBI निदेशक आलोक वर्मा, अस्थाना के आरोपों को नकारा

आलोक वर्मा जांच एजेंसी के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना की ओर से अपने खिलाफ लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों की हो रही छानबीन के सिलसिले में शुक्रवार को केंद्रीय सतर्कता आयुक्त (सीवीसी) के.वी.चौधरी की अध्यक्षता वाली समिति के सामने लगातार दूसरे दिन पेश हुए और भ्रष्टाचार के आरोपों को सिरे से खारिज किया।

Edited by: IndiaTV Hindi Desk [Updated:09 Nov 2018, 9:21 PM IST]
CBI corruption case: Special Director Rakesh Asthana visits CVC office, no meetings held- India TV
CBI corruption case: Special Director Rakesh Asthana visits CVC office, no meetings held

नयी दिल्ली: केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) के निदेशक आलोक वर्मा जांच एजेंसी के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना की ओर से अपने खिलाफ लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों की हो रही छानबीन के सिलसिले में शुक्रवार को केंद्रीय सतर्कता आयुक्त (सीवीसी) के.वी.चौधरी की अध्यक्षता वाली समिति के सामने लगातार दूसरे दिन पेश हुए और भ्रष्टाचार के आरोपों को सिरे से खारिज किया। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि समझा जाता है कि सतर्कता आयुक्त टी.एम. भसीन और शरद कुमार की सदस्यता वाली समिति के समक्ष पेश होकर वर्मा ने अस्थाना की ओर से लगाए गए सभी आरोपों को बिंदुवार तरीके से खारिज किया।

अधिकारियों ने बताया कि इस मौके पर उच्चतम न्यायालय के सेवानिवृत न्यायाधीश न्यायमूर्ति ए.के.पटनायक भी मौजूद थे, क्योंकि शीर्ष अदालत ने उन्हें इस जांच की निगरानी करने का जिम्मा सौंपा है। उन्होंने बताया कि वर्मा शुक्रवार की सुबह सीवीसी दफ्तर पहुंचे और करीब एक घंटे तक वहां रहे। उन्होंने सीवीसी दफ्तर के बाहर इंतजार कर रहे पत्रकारों से बात नहीं की। उच्चतम न्यायालय ने 26 अक्टूबर को केंद्रीय सतर्कता आयोग से कहा था कि वह अस्थाना की ओर से वर्मा के खिलाफ लगाए गए आरोपों की जांच दो हफ्ते के भीतर पूरी करे। यह समयसीमा आगामी रविवार को पूरी हो रही है और उच्चतम न्यायालय सोमवार को इस मामले की सुनवाई करेगा। वर्मा और अस्थाना को केंद्र सरकार छुट्टी पर भेज चुकी है।

आलोक वर्मा के अलावा राकेश अस्थाना ने भी बृहस्पतिवार को सीवीसी से मुलाकात की थी। समझा जाता है कि उन्होंने वर्मा के खिलाफ लगाए गए अपने आरोपों के समर्थन में कथित दस्तावेजी साक्ष्य पेश किए। आयोग ने हाल में अहम मामलों की छानबीन कर रहे कुछ सीबीआई अधिकारियों से पूछताछ की थी। इन अधिकारियों का नाम वर्मा के खिलाफ अस्थाना की शिकायत में सामने आया था। अधिकारियों ने बताया कि इंस्पेक्टर से लेकर पुलिस अधीक्षक रैंक तक के सीबीआई अधिकारियों को बुलाया गया और सीवीसी के एक वरिष्ठ अधिकारी के समक्ष उनके बयान दर्ज कराए गए। इनमें वे अधिकारी शामिल थे जो मोइन कुरैशी रिश्वतखोरी केस, पूर्व रेल मंत्री लालू प्रसाद की कथित संलिप्तता वाले आईआरसीटीसी घोटाले और मवेशी तस्करी केस सहित कई अन्य मामलों से जुड़े थे।

सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा के मुख्य सतर्कता आयुक्त के वी चौधरी नीत जांच समिति के समक्ष उपस्थित होने के कुछ ही घंटे बाद विशेष निदेशक राकेश अस्थाना भी शुक्रवार को भ्रष्टाचार निरोधी संस्था के कार्यालय पहुंचे। अधिकारियों ने बताया कि अस्थाना केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) के कार्यालय में शाम पौने पांच बजे के करीब पहुंचे और वहां 10 मिनट के लिये रुके। हालांकि, वह किसी वरिष्ठ अधिकारी से नहीं मिल सके क्योंकि उन्होंने मुलाकात का पहले से समय नहीं लिया था। एक अधिकारी ने नाम नहीं जाहिर किये जाने की शर्त पर बताया, ‘‘वह केंद्रीय सतर्कता आयुक्त चौधरी या किसी सतर्कता आयुक्त--टी एम भसीन और शरद कुमार से नहीं मिल सके क्योंकि वे आयोग के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक में शामिल थे।’’ 

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Web Title: CVC के सामने दूसरी बार पेश हुए CBI निदेशक आलोक वर्मा, अस्थाना के आरोपों को नकारा
Write a comment