1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. बुराड़ी मामला: रिश्तेदार ने कहा- आत्महत्या नहीं हत्या, रजिस्टर में छोटे भाई की हैंडराइटिंग

बुराड़ी मामला: रिश्तेदार ने कहा- आत्महत्या नहीं हत्या, रजिस्टर में छोटे भाई की हैंडराइटिंग

उत्तरी दिल्ली के बुराड़ी के संत नगर इलाके में एक ही परिवार के 11 लोगों की आत्महत्या के बाद देश भर में सनसनी मच गई है। वहीं, परिवार के सदस्य इसे आत्महत्या मानने के लिए तैयार नहीं है...

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: July 02, 2018 16:52 IST
Burari Case: Relatives of the family dismiss religious sacrifice or foul play | PTI- India TV
Burari Case: Relatives of the family dismiss religious sacrifice or foul play | PTI

नई दिल्ली: उत्तरी दिल्ली के बुराड़ी के संत नगर इलाके में एक ही परिवार के 11 लोगों की आत्महत्या के बाद देश भर में सनसनी मच गई है। वहीं, परिवार के सदस्य इसे आत्महत्या मानने के लिए तैयार नहीं है। उनका कहना है कि यह हत्या का मामला है। घटना में मृत दो भाइयों की बहन सुजाता ने कहा कि उनके परिवार में कोई परेशानी नहीं थी और यह मामला हत्या का ही है। सुजाता ने यह भी कहा कि कुछ ही दिन में उनकी भतीजी की शादी होने वाली थी और पूरा परिवार उसे लेकर काफी खुश था। वहीं, इस केस की जांच में एक और बड़ा खुलासा हुआ है। रजिस्टर में लिखी हैंडराइटिंग छोटे भाई ललित भाटिया की होने की बात कही जा रही है।

रिश्तेदारों ने खारिज की आत्महत्या की बात

सुजाता ने कहा कि पुलिस आत्महत्या की बात कर रही है लेकिन उसे ठीक से जांच करनी चाहिए। उन्होंने सवाल किया कि कोई कैसे अपने परिवार के सदस्यों से एक साथ मरने की बात कहेगा और यह बात मान भी ली जाएगी। सुजाता ने कहा कि परिवार के लोग धार्मिक जरूर थे लेकिन तंत्र-मंत्र का चक्कर नहीं है। वहीं, मृत भाइयों के तीसरे भाई ने भी हत्या की आशंका जाहिर की है। वहीं, पुलिस का कहना है कि मृत 11 लोगों में से 6 के पोस्टमॉर्टम में संघर्ष के कोई संकेत नहीं मिले हैं। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि 2 बच्चों समेत 6 लोगों का पोस्टमॉर्टम किया गया है और अब तक पुलिस को गला घोंटने या हाथापाई के कोई संकेत नहीं मिले हैं।

नोट्स में लिखा था, ‘कोई मरेगा नहीं, कुछ महान हासिल करेगा’
घटनास्थल से मिले हाथ से लिखे कुछ नोट्स को देखते हुए पुलिस को संदेह है कि यह मामला सोच-समझकर की गई आत्महत्या का है जो किसी धार्मिक अनुष्ठान के लिए की गई है। अधिकारी के मुताबिक कुछ नोट्स पर लिखा है कि ‘कोई मरेगा नहीं’ बल्कि कुछ ‘महान’ हासिल कर लेगा। पुलिस ने बताया कि 10 लोग फांसी से लटके थे जबकि 77 वर्षीय महिला घर के एक अन्य कमरे में मृत मिली थीं। फांसी से लटके पाए गए लोगों के चेहरे पर टेप लगे थे और उनके चेहरे जिन कपड़ों के टुकड़ों से ढके हुए थे वह एक ही चादर से काटे गए थे।

मृतकों में बच्चों से लेकर बुजुर्ग तक शामिल
बुजुर्ग महिला का चेहरा ढका हुआ नहीं था और उनका कथित तौर पर गला घोंटा गया था। पुलिस ने बताया कि उनका पोस्टमॉर्टम जारी है। अंतिम संस्कार के लिए शवों को इस दोपहर परिवार को सौंप दिया जाएगा। मृतकों की पहचान नारायण देवी (77), उनकी बेटी प्रतिभा (57) और दो बेटे भावनेश (50) और ललित भाटिया (45) के रूप में हुई है। भावनेश की पत्नी सविता (48) और उनके तीन बच्चे मीनू (23), निधि (25) और ध्रुव (15), ललित भाटिया की पत्नी टीना (42) और उनका 15 वर्ष का बेटा शिवम , प्रतिभा की बेटी प्रियंका (33) भी मृत मिले।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Write a comment