1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. 25 साल पहले अयोध्या में क्या हुआ, 6 दिसंबर 1992 के गवाहों की आंखों देखी

25 साल पहले अयोध्या में क्या हुआ, 6 दिसंबर 1992 के गवाहों की आंखों देखी

पच्चीस साल पहले आज ही के दिन ये विवादित ढांचा ढहा दिया गया। इन पच्चीस सालों में सरयू में न जाने कितना पानी बह गया और देश की एक पीढ़ी जवान हो गई लेकिन इस ढांचे कि गिराए जाने से जो धूल का गुबार उठा वो आज तक नीचे नहीं बैठ पाया। 6 दिसंबर 1992 की शाम से ल

India TV News Desk India TV News Desk
Updated on: December 06, 2017 11:00 IST
babri- India TV
Image Source : PTI babri

नई दिल्ली: अयोध्या में बाबरी विध्वंस के आज 25 साल पूरे हो गए हैं। 6 दिसंबर 1992 को अयोध्या में कार सेवा के नाम पर जुटे हजारों लोगों ने अचानक विवादित ढांचे पर चढ़ना शुरू कर दिया था और देखते ही देखते पूरा ढांचा ज़मीन पर आ गिरा। उस दिन ये ढांचा गिरा और भारत में एक नई सियासी लकीर खिंच गई। आज उस घटना के पच्चीस साल पूरे होने पर अयोध्या समेत पूरे उत्तर प्रदेश और दिल्ली में सुरक्षा बढ़ा दिए गए हैं।

पच्चीस साल पहले आज ही के दिन ये विवादित ढांचा ढहा दिया गया। इन पच्चीस सालों में सरयू में न जाने कितना पानी बह गया और देश की एक पीढ़ी जवान हो गई लेकिन इस ढांचे कि गिराए जाने से जो धूल का गुबार उठा वो आज तक नीचे नहीं बैठ पाया। 6 दिसंबर 1992 की शाम से लेकर आज पच्चीस साल बाद तक इस जगह पर कुछ नहीं बदला है। अगर कुछ बदला तो टेंट के ये तिरपाल जिसके अंदर रामलला विराजमान हैं। जैसे धूल का गुबार नहीं थमा वैसे ही उस दिन की यादें फीकीं नहीं पड़ीं हैं।

Babri-Masjid-demolition

Babri-Masjid-demolition

6 दिसंबर को अयोध्या में जो कुछ भी हुआ उससे पहले यहां विवादों का लंबा इतिहास रहा लेकिन जून 1989 में भाजपा ने विश्व हिंदू परिषद की मुहिम को अपना समर्थन दिया तो 9 नवंबर 1989 को तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने बाबरी मस्जिद के नजदीक शिलान्यास की इजाजत दी। इसके बाद 25 सितंबर 1990 को पूर्व भाजपा अध्यक्ष लाल कृष्ण आडवाणी ने गुजरात के सोमनाथ से उत्तर प्रदेश के अयोध्या तक रथ यात्रा निकाली, इसी दौरान नवंबर में आडवाणी को बिहार के समस्तीपुर में गिरफ्तार कर लिया गया।

babri

babri

अक्टूबर 1991 में उत्तर प्रदेश में कल्याण सिंह सरकार ने बाबरी मस्जिद के आस-पास की 2.77 एकड़ ज़मीन को अपने अधिकार में ले लिया। उसके बाद 6 दिसंबर 1992 को हज़ारों कार सेवकों ने इस ढांचे को गिरा दिया। सुबह साढे दस बजे से शुरू हुई इस विध्वंसक कार्रवाई ने शाम पांच बजे तक यहां पर एक सपाट मैदान बना दिया और आनन फानन में तिरपाल का इंतज़ाम करके रामलला को विराजमान कर दिया गया। तब से आज तक ये तिरपाल बदलता रहता है, ड्यूटी में तैनात सिपाही बदलते रहते हैं और बदलता रहता है दांव पेंच का सिलसिला। अयोध्या आज देश के सियासी एजेंडे पर है। त्रेतायुग के राम के लिए कलियुग में इंसाफ की लड़ाई लड़ी जा रही है और इस लड़ाई का मैदान पूरा हिन्दुस्तान है।

India TV Hindi पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Write a comment
bigg-boss-13