1. You Are At:
  2. होम
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. प्रयागराज में शुरू हुआ कुंभ 2019, संतों व श्रद्धालुओं ने किया पहला शाही स्नान, जानें जरूरी बातें

प्रयागराज में शुरू हुआ कुंभ 2019, संतों व श्रद्धालुओं ने किया पहला शाही स्नान, जानें जरूरी बातें

दुनिया का सबसे बड़ा धार्मिक और आध्यात्मिक मेला कुंभ प्रयागराज में शुरू हो गया है, जो 4 मार्च तक चलेगा। इस दौरान इन 49 दिनों में करीब 13 से 15 करोड़ लोगों के कुंभ में आने की उम्मीद है।

Edited by: IndiaTV Hindi Desk [Updated:15 Jan 2019, 7:23 AM IST]
Kumbh Shahi Snan- India TV
Kumbh Shahi Snan

प्रयागराज: दुनिया का सबसे बड़ा धार्मिक और आध्यात्मिक मेला कुंभ प्रयागराज में शुरू हो गया है, जो 4 मार्च तक चलेगा। इस दौरान इन 49 दिनों में करीब 13 से 15 करोड़ लोगों के कुंभ में आने की उम्मीद है। और, इसमें भी खास बात तो ये है कि वहां पहुंचने वाले लोगों में करीब 10 लाख विदेशी नागरिक हो सकते हैं। यूपी सरकार कुंभ 2019 को अब तक का सबसे दिव्य और भव्य कुंभ बता रही है। सरकार को उम्मीद है कि कुंभ 2019 के बाद पर्यटन के मामले में यूपी देश का नम्बर 1 राज्य बन जाएगा।

4,300 करोड़ का खर्च और 4 टेंट सिटी से सजा है कुंभ

राज्य सरकार की माने तो ऐसा पहली बार हुआ है जब मेला क्षेत्र करीब 45 वर्ग किमी के दायरे में फैला है। इससे पहले ये सिर्फ 20 वर्ग किमी इलाके में ही होता था। मेले में 50 करोड़ की लागत से कुल 4 टेंट सिटी- कल्प वृक्ष, कुंभ कैनवास, वैदिक टेंट सिटी, इन्द्रप्रस्थम सिटी बसाई गई हैं। सरकारी आंकड़ों के माने तो कुंभ 2019 के आयोजन में 4,300 करोड़ रुपए खर्च हो रहे हैं। कुंभ और और भव्य और लोगों की भीड़ जुटाने के लिए सरकार ने 10 करोड़ लोगों के मोबाइल पर मैसेज भेजकर कुंभ में आने का निमंत्रण दिया है। बता दें कि इस बार कुंभ की थीम- स्वच्छ कुंभ और सुरक्षित कुंभ है।

कुंभ या अर्धकुंभ?

देश में कुंभ 4 जगहों पर होता है- प्रयागराज, हरिद्वार, उज्जैन और नासिक। इनमें से हर जगह पर हर 12वें साल कुंभ का आयोजन होता है। प्रयाग में दो कुंभ पर्वों के बीच 6 साल के अंतराल पर अर्धकुंभ भी होता है। और, क्योंकि प्रयागराज में पिछला कुंभ 2013 में हुआ था इस हिसाब ये अभी आयोजित होने वाला कुंभ 2019 असल में अर्द्धकुंभ है। लेकिन, यूपी सरकार इसे कुंभ बता रही है। प्रयागराज में पूर्ण कुंभ 2025 में होगा। कुंभ में कुल छह शाही स्नान होंगे, जो 15, 21 जनवरी, 4,10,19 फरवरी, 4 मार्च को होंगे।

शाही स्नान का समय?

पहला शाही स्नान आज सुबह करीब 5:30 बजे से शाम 4:30 बजे तक चलेगा। अधिकारियों ने बताया कि पहला 'शाही स्नान' मंगलवार को लगभग 5.30 बजे शुरू होगा और शाम को लगभग 4.30 बजे तक चलेगा। तीर्थयात्रियों को ठहराने के लिए गंगा नदी के किनारे 3,200 एकड़ की एक मिनी सिटी स्थापित की गई है। बताया जा रहा है कि इस दौरान सभी अखाड़ों को स्नान के लिए 45-45 मिनट का समय मिलेगा।

मान्यताओं का कुंभ

दुनिया का सबसे बड़ा धार्मिक और आध्यात्मिक मेला कुंभ 2019 शुरू हो गया है। कुंभ मेला मकर संक्रांति के दिन जब सूर्य और चंद्रमा वृश्चिक राशि में और बृहस्पति मेष राशि में प्रवेश करते हैं तब शुरू होता है। कुंभ की बातों के साथ-साथ मान्यताओं की भी बात कर लेते हैं। कुंभ का मतलब कलश होता है। मान्यता है कि इसका संबंध समुद्र मंथन के दौरान अंत में निकले अमृत कलश से है। ऐसा माना जाता है कि देवता-असुर जब अमृत कलश को एक दूसरे से छीन रहे थे, तभी उसकी कुछ बूंदें धरती की तीन नदियों- गंगा, गोदावरी और क्षिप्रा में जा गिरी। जहां-जहां ये बूंदें गिरीं, वहीं पर कुंभ होता है। 

कुंभ में आपको क्या सुविधाएं मिलेंगी?

कुंभ 2019 के आयोजन में राज्य सरकार की 20 और केंद्र सरकार की 6 संस्थाएं और विभाग लगे हैं। मेला क्षेत्र में पीने के पानी की पुख्ता व्यवस्था की गई है। इसके लिए 690 किमी लंबी पाइपलाइन बिछाई गई है। बिजली की बात करें तो प्रशासन ने 800 किमी लंबाई में बिजली की सप्लाई पहुंचाई गई है। कुंभ के मद्देनजर कुल 25 हजार स्ट्रीट लाइट लगाई गई हैं। इन तमाम इंतजामों के बीच सुरक्षा और स्वच्छता दोनों बड़ी चुनौती थी। जिसके लिए 7 हजार स्वच्छता कर्मी और 20 हजार पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं। 4 पुलिस लाइन समेत 40 पुलिस थाने, 3 महिला थाने, 62 पुलिस पोस्ट बनाई गई हैं।
 
कुंभ में पहली बार 2 इंटीग्रेटेड कंट्रोल कमांड एंड सेंटर स्थापित किए गए हैं। जो कुंभ के दायरे में आने वाले लोगों और ट्रैफिक को नियंत्रित कर सुरक्षा को सुनिश्चित करेंगे। एक सेंटर पर करीब 116 करोड़ रुपए का खर्च आया है। इसके अलाव कुंभ 2019 में पहली बार ऑर्टीफिशियल इंटेलिजेंस का भी इस्तेमाल होगा। इसके जरिए भी भीड़ का मैनेज किया जाएगा और ये सुनिश्चित किया जाएगा कि सब कुछ सुचारू ढंग से चले।

कुंभ की खास बातें, एकदम शॉर्ट में

1. 45 वर्ग किमी में कुंभ मेला
2. 600 रसोईघर
3. 48 मिल्क बूथ
4. 200 एटीएम
5. 4 हजार हॉट स्पॉट लगे हैं
6. 1.20 लाख बॉयो टॉयलेट
7. 800 स्पेशल ट्रेनें चलाई गईं
8. 300 किमी रोड मेले में बनी
9. 40 हजार एलईडी लगीं
10. 5 लाख व्हीकल के लिए पार्किंग एरिया बनाया गया
India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Web Title: All information, unknown and interesting facts about Kumbh Mela 2019 prayagraj
Write a comment
the-accidental-pm-300x100