1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. आजादी के रंग में डूबा पूरा देश, लगातार छठी बार लाल किले पर तिरंगा फहराएंगे PM मोदी

आजादी के रंग में डूबा पूरा देश, लगातार छठी बार लाल किले पर तिरंगा फहराएंगे PM मोदी

पूरा देश 73वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है। ऐसे में स्वतंत्रता दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लाल किले की प्राचीर से लगातार छठी बार देश को संबोधित करेंगे और तिरंगा फहराएंगे।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: August 15, 2019 0:03 IST
A view of the Red Fort on the eve of the 73rd Independence Day.- India TV
Image Source : PTI A view of the Red Fort on the eve of the 73rd Independence Day.

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी राष्ट्र के 73वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले की प्राचीर से राष्ट्रीय ध्वज फहराएंगे। ध्वजारोहण के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी राष्ट्र को संबोधित करेंगे। वह स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले की प्राचीर से लगातार छठी बार देश को संबोधित करेंगे। वह इस उपलब्धि के मायने में भाजपा के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के समकक्ष हो जाएंगे, जिन्होंने 1998 से 2003 के बीच लगातार छह बार लाल किले की प्राचीर से 15 अगस्त को भाषण दिया था।

पीएम की अगवानी 

लाल किले के लाहौरी गेट पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अगवानी रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद नाइक और रक्षा सचिव संजय मित्रा करेंगे। इसके बाद रक्षा सचिव प्रधानमंत्री का परिचय दिल्ली क्षेत्र के जनरल ऑफिसर कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल असित मिस्त्री से करवाएंगे। लेफ्टिनेंट जनरल असित मिस्त्री प्रधानमंत्री को सलामी मंच की ओर ले जाएंगे, जहां अंतर सेना और पुलिस गार्ड के जवान उन्हें सलामी देंगे। इसके बाद, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सम्मान गारद का निरीक्षण करेंगे।

भारतीय वायुसेना करेगी सम्मान गारद का समन्वय

इस साल सम्मान गारद का समन्वय भारतीय वायुसेना को सौंपा गया है। वायुसेना के विंग कमांडर अनुज भारद्वाज इस सम्मान गारद का नेतृत्व करेंगे। प्रधानमंत्री की सम्मान गारद में शामिल थलसेना के दस्ते की कमान मेजर लैशराम टोनी सिंह संभालेंगे तो नौसेना दस्ते का नेतृत्व लेफ्टिनेंट कमांडर प्रशांथ प्रभाकर करेंगे जबकि वायुसेना दस्ते की कमान स्कवाड्रन लीडर एसबी गौड़ा के हाथों में होगी। दिल्ली पुलिस बल के दस्ते की कमान एडीशनल डीसीपी बिक्रम एचएम मीणा संभालेंगे। 

वहीं, प्रधानमंत्री की सम्मान गारद में थल सेना का प्रतिनिधित्व गढ़वाल राइफल्स की द्वितीय बटालियन कर रही है। स्वतंत्रता दिवस के समारोह में ध्वजारोहण गारद में शामिल गढ़वाल राइफल्स की द्वितीय बटालियन की स्थापना 01 मार्च 1901 को लेन्सडाउन में हुई थी। सलामी गारद का निरीक्षण करने के बाद प्रधानमंत्री लाल किले की प्राचीर की ओर प्रस्थान करेंगे, जहां रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद नाइक, सेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत, वायु सेनाध्यक्ष एयर चीफ मार्शल बिरेन्द्र सिंह धनोआ और नौसेनाध्यक्ष एडमिरल कर्मबीर सिंह उनका अभिवादन करेंगे। 

जब पीएम तिरंगा फहराएंगे?

जीओसी, दिल्ली एरिया, ध्वजारोहण के लिए प्रधानमंत्री को लाल किले की प्राचीर की ओर ले जाएंगे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जब राष्ट्रीय ध्वज फहराएंगे और सम्मान गारद के जवान राष्ट्रीय सलामी देंगे, तब वायु सेना बैंड के बैंडवादक राष्ट्र गान की धुन बजाएंगे। तीनों सेनाओं के सभी उपस्थित अधिकारी और जवान सम्मान में खड़े होकर सलामी देंगे। बैंड के दस्ते की कमान जूनियर वारंट ऑफिसर पंकज बाबू के हाथों में होगी।

लाल किले पर क्या रहेगी व्यवस्था?

रक्षा मंत्रालय ने बुधवार को बताया कि दिल्ली में 41 सरकारी स्कूलों की 3500 छात्राएं, पांच हजार दर्शक बच्चे और 17 स्कूलों के 700 एनसीसी कैडेट, मोदी के भाषण स्थल पर ‘‘नया भारत’’ शब्दों की रचना करेंगे और ‘‘एकता में मजबूती’’ को रेखांकित करेंगे। प्रधानमंत्री को सलामी गारद पेश करने वाले दस्ते में एक अधिकारी तथा सेना, नौसेना और वायुसेना के 24-24 जवान शामिल होंगे। यह दस्ता लाल किले की प्राचीर के ठीक नीचे राष्ट्रीय ध्वज के सामने तैनात रहेगा। 

सुरक्षा के कड़े इंतजाम

दिल्ली पुलिस लाल किले की सुरक्षा के लिए चेहरा पहचानने वाले सॉफ्टवेयर से लैस कैमरों का पहली बार इस्तेमाल कर रही है। आसमान को सुरक्षित करने के लिए ‘एंटी-ड्रोन डिटेक्शन सिस्टम’ तैनात किया गया है। कार्यक्रम स्थल के चारों ओर लगभग 500 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं, जहां प्रधानमंत्री को सुनने के लिए मंत्री, नौकरशाह, विदेशी गणमान्य व्यक्ति और आम लोग इकट्ठा होंगे।

सुरक्षा घेरे में राष्ट्रीय राजधानी

जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के तहत ज्यादातर प्रावधानों को हटाए जाने के फैसले और पाकिस्तान के साथ तनाव के मद्देनजर राष्ट्रीय राजधानी में बहुस्तरीय सुरक्षा की व्यवस्था की गई है। इसके तहत स्वाट कमांडो और एनएसजी स्नाइपर्स की भी तैनाती की गई है। सेना, अर्द्धसैनिक बलों और दिल्ली पुलिस के 20 हजार जवानों को तैनात किया गया है।

चप्पे-चप्पे की निगरानी

लाल किले की ओर जाने वाली सड़कों की निगरानी की जा रही हैं और पुलिसकर्मी दिल्ली के उत्तर और मध्य जिलों में वाहनों की जांच के लिए प्रशिक्षित खोजी कुत्तों की मदद ले रहे हैं। पुलिस उपायुक्त (उत्तर) नुपुर प्रसाद ने कहा, ‘‘लाल किले आने वाले सभी लोगों की सुरक्षा के व्यापक प्रबंध किए गए है।’’ प्रसाद ने बताया कि विशेष नियंत्रण कक्षों से निगरानी की जायेगी और सुरक्षा एजेंसियों के साथ समन्वय करेंगे।

दिल्ली मेट्रो सेवा में मामूली बदलाव

मेट्रो ट्रेन सेवा 15 अगस्त को आम दिनों की तरह ही चलती रहेगी। हालांकि, वॉयलेट लाइन के कुछ स्टेशनों पर निर्धारित गेट से प्रवेश और निकास हो सकेंगे। अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि स्वतंत्रता दिवस के दिन सारे मेट्रो स्टेशन खुले रहेंगे, लेकिन स्टेशनों पर पार्किंग 14 अगस्त को सुबह छह बजे से 15 अगस्त को दोपहर दो बजे तक बंद रहेगी। उन्होंने कहा कि वॉयलेट लाइन के चार स्टेशनों-लाल किला, जामा मस्जिद, दिल्ली गेट और आईटीओ पर स्वतंत्रता दिवस समारोह के दौरान चुनिंदा द्वार से प्रवेश और निकास की अनुमति होगी। 

डीएमआरसी ने कहा कि इस अवधि में सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए इन स्टेशनों पर कुछ द्वार बंद रहेंगे। स्वतंत्रता दिवस के दिन लोगों की सुविधा के लिए लाल किला और जामा मस्जिद मेट्रो स्टेशन पर अतिरिक्त टिकट काउंटर खोले जाएंगे। समारोह के बाद भीड़ को संभालने के लिए अतिरिक्त कर्मचारियों की भी तैनाती की जाएगी।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Write a comment